1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. dhanbad
  5. scholarship scam in jharkhand 19500 applications received this time for minority scholarship but so many applications were found fake srn

Scholarship Scam in Jharkhand : अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति को इस बार आये 19,500 आवेदन, लेकिन इतने आवेदन पाए गये फर्जी

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
झारखंड में छात्रवृत्ति घोटाले की जांच करेगी एसीबी
झारखंड में छात्रवृत्ति घोटाले की जांच करेगी एसीबी
फाइल फोटो

dhanbad news, scholarship scam news धनबाद : वर्ष 2020-21 के दौरान भी अल्पसंख्यक छात्रों को दी जाने वाली प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति के वितरण के नाम पर बड़े पैमाने पर घोटाले की तैयारी थी. इस वर्ष विभिन्न स्कूलों ने नाम पर 19,500 छात्रों ने इस छात्रवृत्ति के लिए आवेदन दिया है,

जबकि पिछले वर्ष (2019-20) जिले में केवल 13,506 छात्रों ने आवेदन दिया था. करीब 13,100 को छात्रवृत्ति मिली भी. जब घोटाला सामने आया, तो प्रशासन ने इसकी जांच करायी. प्रारंभिक जांच में ही इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि इन लाभुकों में से 80 प्रतिशत से अधिक फर्जी थे. इन्हें करीब 10 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था. अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति को इस वर्ष साजिशकर्ता पिछले वर्ष के घोटाले का रिकॉर्ड तोड़ने की फिराक में थे.

यूडायस से हो रहा है मिलान

जो स्कूल पिछले वर्ष घोटाले में शामिल रहे, इस वर्ष भी इनके नाम पर आवेदन दिये गये हैं. अब भौतिक सत्यापन से पहले इनका मिलान यूडायस से कराया जा रहा है, जिसमें इस वर्ष बड़े घोटाले को अंजाम देने की कोशिश के प्रारंभिक साक्ष्य मिले हैं. सूत्रों की माने, तो इस वर्ष आये 90 प्रतिशत तक आवेदन फर्जी हो सकते हैं. वैसे इसकी अधिकारिक पुष्टि इन आवेदनाें के भौतिक सत्यापन के बाद ही हो पाएगी.

एसएसी, एसटी, ओबीसी छात्रवृत्ति के लिए 90 हजार से अधिक आवेदन :

वर्ष 2020-21 के लिए एससी, एसटी और ओबीसी छात्रों को दी जानेवाली प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए 90 हजार से अधिक आवेदन आये हैं, जबकि पिछले वर्ष करीब जिले से 17 हजार छात्रों को ही यह छात्रवृति दी गयी थी. हालांकि इस श्रेणी की छात्रवृत्ति में अभी तक किसी घोटाले की पुष्टि नहीं हुई है.

पर इन छात्रों का भी भौतिक सत्यापन करवाया जा रहा है. सबसे अधिक आवेदन गोविंदपुर प्रखंड से आये हैं. यहां से 14,828 आवेदन आये हैं. सबसे कम आवेदन एग्यारकुंड से आये हैं. यहां से 7,200 छात्रों ने आ‌वेदन दिया है.

होस्टल की राशि का भुगतान नहीं :

इस वर्ष छात्रवृत्ति उन छात्रों को ही दी जाएगी, जिनका भौतिक सत्यापन किया जाएगा. इसके साथ सी इस वर्ष सरकार की ओर से हॉस्टल में रहनेवाले छात्रों को छात्रावास भत्ता नहीं दिया जायेगा. पहले इस मद में 5000 रुपये का भुगतान किया जाता था. कोविड-19 की वजह से इस बार सभी स्कूल बंद हैं. इसलिए ऐसे सभी लाभुकों को केवल डे स्कॉलर भत्ता दिया जाएगा. उन्हें यह राशि 10 महीनों के लिए ही दी जाएगी.

आवेदन का रहा है भाैतिक सत्यापन, इसके बाद ही मिलेगी छात्रवृत्ति

इस बार भी बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की थी योजना

2020-21 के दौरान जिले सभी प्रखंडों से एससी, एसटी और ओबीसी के लिए 70 हजार से अधिक आ‌वेदन

किस प्रखंड से कितने आवेदन

प्रखंड एससी एसटी ओबीसी

एग्यारकुंड 2687 767 3746

कलियासोल 1165 1539 5558

निरसा 1906 1231 4400

झरिया 3532 295 6708

पूर्वी टुंडी 430 1856 2103

प्रखंड एससी एसटी ओबीसी

टुंडी 691 1571 1872

गोविंदपुर 2017 1970 10937

धनबाद 4728 3555 8567

बलियापुर 996 1230 4546

तोपचांची 1547 856 8225

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें