Advertisement

Stocks

  • May 20 2019 5:10PM
Advertisement

Exit Poll में एनडीए की जीत को देखकर झूमा शेयर बाजार, 1,422 अंक उछला सेंसेक्स

Exit Poll में एनडीए की जीत को देखकर झूमा शेयर बाजार, 1,422 अंक उछला सेंसेक्स

मुंबई : लोकसभा चुनावों के लिए मतदान संपन्न होने के बाद जारी सर्वेक्षणों में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार के सत्ता में लौटने की भविष्यवाणी का शेयर बाजारों में जोरदार स्वागत हुआ है. निवेशकों की लिवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सोमवार को 1,422 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 421 अंक की जबरदस्त तेजी के साथ बंद हुआ.

इसे भी देखें : नये रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचे सेंसेक्स-निफ्टी, पहली बार 11,500 अंक पार कर पहुंचा निफ्टी

बंबई शेयर बाजार का 30-शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 1,421.90 अंक यानी 3.75 फीसदी उछलकर 39,352.67 अंक पर पहुंच गया. दिन में कारोबार के दौरान यह ऊंचे में 39,412.56 अंक और नीचे में 38,570.04 अंक तक गया. इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 421.10 अंक यानी 3.69 फीसदी चढ़कर 11,828.25 अंक पर पहुंच गया.

आम चुनाव के लिए रविवार को मतदान संपन्न होने के बाद जारी ‘एक्जिट पोल' सर्वेक्षणों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार को जनता द्वारा एक और मौका दिये जाने का अनुमान व्यक्त किया गया है. इन सर्वेक्षणों में एनडीए को 300 से अधिक सीटें मिलने की भविष्यवाणी की गयी है. यह संख्या लोकसभा में 272 के सामान्य बहुत से कहीं अधिक है. मतों की गिनती 23 मई को होगी.

निवेशकों को उम्मीद है कि एनडीए के सत्ता में बने रहने से आर्थिक सुधारों की गति बनी रहेगी और पहले कार्यकाल में जिन कार्यों को शुरू किया गया, उन्हें और तेजी से आगे बढ़ाया जायेगा. सेंसेक्स की तेजी में योगदान करने वाले शेयरों में स्टेट बैंक, इंडसइंड बैंक, टाटा मोटर्स, लार्सन एंड टुब्रो, यस बैंक, एचडीएफसी, महिन्द्रा एंड महिन्द्रा, मारुति-सुजुकी, ओएनजीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक में 8.64 फीसदी तक की तेजी दर्ज की गयी. इसके विपरीत बजाज ऑटो और इन्फोसिस में नुकसान रहा.

एमके वेल्थ मैनेजमेंट के शोध प्रमुख जोसफ थॉमस ने कहा कि एक्जिट पोल में मौजूदा सरकार के फिर से सत्ता में लौटने की संभावना व्यक्त किये जाने के बाद घरेलू शेयर बाजार में सभी कारोबारी क्षेत्रों में अप्रत्याशित तेजी का रुख देखा गया. उन्होंने कहा कि तेजी के इस रुख को बरकरार रखने के लिए नयी सरकार से निर्णायक नीतिगत पहल की उम्मीद की जाती है. भूमि और श्रम सुधारों को तेजी से आगे बढ़ाने की जरूरत है.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बैंक प्रणाली में मजबूती लाने और उसके पुनर्गठन का जो अधूरा काम रह गया है, उसे जल्द से जल्द पूरा करना होगा. इस बीच, बाजार में भारी तेजी को देखते हुए पूंजी बाजार नियामक सेबी ने बाजार में अपने निगरानी तंत्र को अधिक चाक-चौबंद कर दिया है, ताकि बाजार में किसी भी तरह की साठगांठ वाली गतिविधियों पर नजर रखी जा सके.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement