पटना : रुपये के लिए प्रेमिका ने गुंडों से करायी थी मुंशी फणींद्र की हत्या

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
बख्तियारपुर : करीब छह माह पूर्व करनौती व एनटीपीसी बाढ़ रेल लाइन के निर्माण में लगे ठेकेदार के मुंशी फणींद्र कुमार की हुई हत्या की गुत्थी आखिरकार पुलिस ने सुलझा ली है. पुलिसिया तफ्तीश में मुंशी की हत्या उसकी प्रेमिका ने पैसे के लालच में भाड़े के गुंडों द्वारा करायी थी और हत्या के बाद शव को चंपापुर गांव के समीप फोरलेन के किनारे ठिकाने लगा दिया था.
उक्त बातों का खुलासा तब हुआ, जब पुलिस इस हत्या में संलिप्त एक आरोपित रौशन कुमार को हकीकतपुर से गिरफ्तार किया. गिरफ्तार रौशन ने पहले तो इस कांड से अनभिज्ञता जताते हुए पुलिस को बरगलाने का भरपूर प्रयास किया. लेकिन जब पुलिस कड़ाई के साथ उसके साथ पेश आयी तो वह सब कुछ उगल दिया. इस संबंध में थानाध्यक्ष कमलेश कुमार शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त ने इस कांड में अपनी संलिप्तता स्वीकारते हुए बताया कि फणींद्र सिंह अब्बुमहमतपुर मुहल्ले में अपने अन्य साथियों के साथ किराये के मकान में रहा करता था. उसका वेल्थान की एक महिला आभा देवी के साथ अवैध संबंध था.
आभा देवी हकीकतपुर मुहल्ले में एक किराये के मकान में रहती थी. जहां फणींद्र कुमार अक्सर आया-जाया करता था. गिरफ्तार अभियुक्त के अनुसार आभा देवी ने पैसे के लालच में आकर मुंशी की हत्या का षड्यंत्र रचते हुए उसे बीते तीन जुलाई की रात को हकीकतपुर स्थित किराये के मकान में बुलाया और रौशन कुमार के साथ ही वेल्थान के जुगनू व अमित के साथ मिलकर फणींद्र की हत्या कर शव को रात में ही फोरलेन के किनारे फेंक दिया. जानकारी हो कि पुलिस ने चार मई की सुबह चंपापुर गांव के समीप से उक्त मुंशी के शव को बरामद किया था. इस संबंध में ठेकेदार नागेश्वर प्रसाद ने बख्तियारपुर थाने में अज्ञात लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी थी. मृतक फनिद्र कुमार व ठेकेदार नागेश्वर प्रसाद दोनों पुनपुन के रहने वाले बताये जाते हैं. थानाध्यक्ष ने बताया कि आभा देवी व जुगनू कुमार घर छोड़ कर फरार हैं, जबकि अमित कुमार किसी अन्य मामले में जेल में बंद है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें