1. home Hindi News
  2. health
  3. do not let excessive use of deodorant put you in trouble

डिओड्रेंट का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल है नुकसान देह, जानिए क्या है इसके विकल्प

By दिल्ली ब्यूरो
Updated Date
कई लोग ज्यादा खुशबू की वजह से  डिओड्रेंट का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, लेकिन डिओड्रेंट का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करने के कई नुकसान भी हैं, आईये जानते उसके कौन कौन से नुकसान हैं
कई लोग ज्यादा खुशबू की वजह से डिओड्रेंट का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, लेकिन डिओड्रेंट का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करने के कई नुकसान भी हैं, आईये जानते उसके कौन कौन से नुकसान हैं
google संकेतिक तस्वीर

नुकसानदेह हैं पसीना रोकनेवाले डिओड्रेंट : इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि डिओड्रेंट का प्रयोग पसीने की बदबू को दूर कर भीनी-भीनी खुशबू के साथ ताजगी का एहसास कराता है. लेकिन, यह भी सच है कि पसीने को रोकने का दावा करनेवाले डिओड्रेंट्स में मौजूद एल्यूमीनियम कंटेंट स्वेद छिद्रों को बंद करके पसीने के स्राव पर रोक लगा देता है, जिससे पसीने के रूप में शरीर के विषाक्त पदार्थों का निष्कासन रुक जाता है.

इस कारण त्वचा में जलन, लालिमा, खुजली जैसी त्वचा संबंधी अन्य समस्याओं के होने की आशंका बढ़ जाती है. इतना ही नहीं इस प्रकार के डिओड्रेंट में एल्यूमीनियम कंटेंट के साथ ऐसे कई रसायन भी मौजूद होते हैं, जो खासतौर से महिलाओं के शरीर में इस्ट्रोजेन हारमोन और ब्रेस्ट टिश्यू को प्रभावित करते हैं.

स्प्रे से बेहतर है स्टिक : त्वचा विशेषज्ञों की मानें तो पसीने की दुर्गंध से बचने के लिए जो लोग डिओड्रेंट का प्रयोग करना चाहते हैं, वे स्प्रे की बजाय स्टिक डिओड्रेंट का प्रयोग कर सकते हैं. स्टिक डिओड्रेंट स्प्रे से बेहतर होते हैं. स्प्रे डिओड्रेंट में खुशबू को देर तक बनाए रखने के लिए कई प्रकार के रसासनों का प्रयोग किया जाता है, जबकि स्टिक डिओड्रेंट के निर्माण में रसायनों का प्रयोग कम मात्रा में होता है. इस कारण इससे त्वचा को नुकसान पहुंचने की संभावना कम होती है.

करें एल्कोहल फ्री डिओड्रेंट का प्रयोग : बाजार में कुछ ऐसे डिओड्रेंट भी उपलब्ध हैं, जिनके निर्माण में एल्कोहल और नुकसानदेह रसायनों का प्रयोग नहीं किया जाता. त्वचा विशेषज्ञ इस प्रकार के डिओड्रेंट के प्रयोग को भी ठीक बताते हैं. एल्कोहल फ्री ये डिओड्रेंट त्वचा के लिए काफी सौम्य होते हैं. इनके प्रयोग से त्वचा संबंधी किसी समस्या या एलर्जी होने की आशंका कम हो जाती है.

विशेषज्ञ यह भी बताते हैं कि एल्कोहल फ्री इन डिओड्रेंट्स के निर्माण में एल्यूमीनियम कंटेंट का प्रयोग भी नहीं होता. इस प्रकार के डिओड्रेंट थोड़े महंगे हो सकते हैं, लेकिन इनके प्रयोग से त्वचा पर किसी प्रकार की समस्या होने की आशंका काफी कम होती है.

ढूंढ़ सकते हैं डिओड्रेंट के विकल्प

पसीने की दुर्गंध से दूर रहने के लिए दिन की शुरुआत खाली पेट एक गिलास गेंहू की बाली का पानी पीकर करें. गेंहू की बाली में मौजूद क्लोरोफाई पसीने की दुर्गंध को कम करने में सहायक होते हैं.

आप चाहें तो अपनी अंडरआर्म्स और पैरों में बेकिंग सोडा भी अप्लाइ कर सकते हैं.

नहाने के पानी में एक चम्मच सफेद विनेगर डालकर नहाने से भी पसीने की दुर्गंध से राहत मिलती है.

पानी में एक चम्मच नींबू का रस डाल कर नहाने से पसीने की दुर्गंध कम होती है और इससे आप पूरा दिन ताजगी महसूस करेंगे.

posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें