1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. asansol
  5. police bowed under pressure from bjp leaders freed leader in custody protest was held in chittaranjan police station sam

भाजपा नेताओं के दबाव में झुकी पुलिस, हिरासत में लिए नेता को किया मुक्त, चितरंजन थाना में हुआ था प्रदर्शन

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Bengal news, Asansol news : रूपनारायणपुर (पश्चिम बंगाल) : पश्चिम बंगाल अंतर्गत आसनसोल में बलराम सिंह हत्याकांड के नामजद आरोपी रणविजय कांगड़ा के करीबी चितरंजन निवासी राजेश प्रसाद हत्या मामले में हिरासत में लिए भाजपा एसटी सेल के जिलाध्यक्ष विप्लव मरांडी और उसके मामा चुमका बास्की को भाजपा के दवाब में छोड़ना पड़ा. इन दोनों को चितरंजन थाना में लाने पर भाजपा ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया था.

बता दें कि राजेश प्रसाद हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने को लेकर पूछताछ के लिए भाजपा एसटी सेल के जिलाध्यक्ष विप्लव मरांडी और उसके मामा चुमका बास्की को शनिवार रात को चित्तरंजन थाना में लाने का भाजपा ने जमकर विरोध किया था. भाजपा सलानपुर मंडल-1 के अध्यक्ष गोपाल राय और रूपनारायणपुर शक्ति केंद्र के प्रमुख बाबन मंडल के नेतृत्व में दर्जनों भाजपा कर्मी थाना का घेराव कर मुख्य गेट पर ही धरने पर बैठ गये. बाध्य होकर विप्लब और चुमका को पुलिस रात पौने ग्यारह बजे छोड़ दिया. राजेश हत्याकांड में गिरफ्तार एवं पुलिस रिमांड में मौजूद नामजद आरोपी विकास सिंह के परिजन के साथ काफी संख्या में स्थानीय लोगों ने विकास को इस कांड में गलत तरीके से फंसाने के आरोप लगाकर थाना में ज्ञापन सौंपा.

मालूम हो कि 1 सितंबर से लापता चितरंजन निवासी राजेश प्रसाद (23 वर्षीय) का शव पुलिस ने 4 सितंबर को चिरेका टीपीटी शॉप के निकट साल बागान जंगल से बरामद किया था. राजेश के बड़े भाई ने मामले में 5 युवकों को नामजद आरोपी बनाकर शिकायत दर्ज की थी. 5 में से 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. शनिवार को सभी आरोपियों को अदालत में पेश किया गया और अदालत से 12 दिनों की रिमांड मिली.

हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के लिए पुलिस ने सलानपुर थाना क्षेत्र के नामोकेशिया निवासी भाजपा नेता विप्लव मरांडी और उसके मामा चुमका बास्की को शनिवार रात 8: 30 बजे चितरंजन थाने में लायी. मामले में सभी से पूछताछ के लिए डीसीपी (ईस्ट) अनमित्र दास भी थाने में पहुंचे. इसकी सूचना मिलते ही 9:30 बजे गोपाल राय के नेतृत्व में दर्जनों भाजपा कर्मी थाने का घेराव कर दिया और मुख्य गेट पर धरना पर बैठ गये. इन भाजपा नेताओं का आरोप था कि भाजपा नेता और उसके मामा को गलत तरीके से पुलिस इस मामले में फंसाने का प्रयास कर रही है.

डुगडुगी बजाने की धमकी पर पुलिस ने भाजपा नेता को किया मुक्त

विप्लव और चुमका को जल्द से जल्द मुक्त नहीं करने पर भाजपा नेताओं ने पुलिस को डुगडुगी बजाने की धमकी दी थी. आदिवासियों की परंपरा है कि किसी भी संदेश को डुगडुगी बजाकर अपने लोगों तक पहुंचते हैं. डुगडुगी बजाकर पहुंचाये गये संदेश पर पूरे इलाके के आदिवासी एकजुट हो जाते हैं और उस संदेश में किसी समस्या का जिक्र है तो एकजुट होकर समस्या के समाधान में जुट जाते हैं. अधिकांशतः खतरे के समय में ही डुगडुगी बजायी जाती है. सलानपुर मंडल अध्यक्ष श्री राय ने विप्लव और चुमका को जल्द नहीं छोड़ने पर डुगडुगी बजवाने की धमकी दी थी. उन्होंने इलाके के आदिवासियों को एकजुट होकर थाना में जमा होने को लेकर फोन भी कर दिया. ऐसे में पुलिस के लिए परेशानी बढ़ गयी. बिना वजह आदिवासियों के आंदोलन को तूल देने के बजाय दोनों को रात 10:45 बजे मुक्त कर दिया.

विकास को मामले में फंसाने को लेकर सौंपा ज्ञापन

राजेश हत्याकांड में नामजद 5 आरोपियों में से एक चितरंजन रेल नगरी स्ट्रीट संख्या 46 आवास संख्या 4ए निवासी वीरेंद्र सिंह का पुत्र विकास सिंह को कांड में गलत तरीके से फंसाने का आरोप लगाकर स्थानीय लोगों ने शनिवार रात को भाजपा के आंदोलन से पूर्व पुलिस को ज्ञापन सौंपा. लोगों ने पुलिस को बताया कि विकास का पिछला पूरा इतिहास देख लिया जाय. वह काफी शरीफ लड़का है. झूठे तरीके से इस मामले में फंसाने से उसका भविष्य बर्बाद हो जायेगा.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें