1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand news gumlas daughter freed from the clutches of human smugglers is waiting in delhis balgriha to come to her house know the whole matter srn

Jharkhand News : मानव तस्करों के चुंगल से आजाद हुई गुमला की बेटी दिल्ली के बालगृह में कर रही अपने घर आने का इंतजार, जानें पूरा मामला

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
गुमला की बेटी को अपने घर आने का इंतजार
गुमला की बेटी को अपने घर आने का इंतजार
सांकेतिक तस्वीर

Jharkhand News, Gumla News, Human trafficking latest news jharkhand गुमला : अब गुमला की बेटी सुशीला (बदला हुआ नाम) सामान्य जीवन जीना चाहती है. वह अपने घर घाघरा प्रखंड के दीरगांव आना चाहती है. वह चाहती है कि उसे उसका परिवार और माता-पिता का प्यार मिले. दो साल पहले मानव तस्कर उसे दिल्ली ले गये थे. जब उसे उनके बारे में भनक लगी, तो वह उनके चंगुल से निकल भागी. जब वह दिल्ली की सड़कों पर भूखे-प्यासे भटक रही थी, तो स्थानीय एनजीओ ने उसका साथ दिया. फिलहाल सुशीला दिल्ली के बालगृह में है. उसे सिर्फ अपने गांव का नाम और पिता का नाम सुकरा व मां का नाम फूलमति याद है.

माता-पिता को खोजने की लगायी गुहार :

सुशीला ने दिल्ली के प्रजापति वाणी पत्रिका के मुख्य संपादक प्रदीप चंद्रा से अपने माता-पिता को खोजने की गुहार लगायी है, जिससे वह अपने घर दीरगांव आ सके. उसकी समस्या सुनने के बाद प्रदीप चंद्रा ने प्रजापति हीरोज ऑर्गनाइजेशन झारखंड की प्रदेश महिला संयोजक सरिता प्रजापति से मदद मांगते हुए सुशीला का घर खोजने की अपील की.

माता-पिता से मिलना चाहती है सुशीला :

दिल्ली के प्रदीप चंद्रा ने प्रभात खबर को बताया कि बच्ची दो साल से अपने परिवार से दूर है. इस कारण वह बालगृह में परेशान रहती है. वह बार-बार अपने माता-पिता से मिलने की जिद कर रही है. काफी पूछताछ में लड़की ने अपना नाम, पता व माता-पिता का नाम बताया है. घर का फोन नंबर उसके पास नहीं है.

सीडब्ल्यूसी ने सुशीला के घर की तलाश शुरू की :

सुशीला के दिल्ली में होने की जानकारी सीडब्ल्यूसी गुमला को दी गयी. सीडब्ल्यूसी अपने स्तर से सुशीला के घर व परिवार को खोजने में जुट गयी है. सीडब्ल्यूसी के सदस्य संजय भगत ने दीरगांव में एक ग्रामीण को फोन कर सुशीला के माता-पिता का पता लगाने को कहा है, ताकि सुशीला को दिल्ली से लाकर उसके परिजनों को सौंपा जा सके. संजय भगत ने कहा कि दीरगांव के जनप्रतिनिधियों से संपर्क कर सुशीला के माता-पिता की तलाश की जा रही है.

  • बेचने के लिए ले गये थे तस्कर, सुशीला को पता चला तो भाग गयी

  • दिल्ली की सड़कों में भटक रही थी, एनजीओ ने रेस्क्यू किया था

  • घाघरा प्रखंड के घोर उग्रवाद प्रभावित दीरगांव की रहनेवाली है सुशीला

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें