विधानसभा चुनाव पर बोले हेमंत सोरेन, चुनाव गठबंधन के साथ पर नेतृत्व झामुमो करेगा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
रांची : झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने साफ कर दिया है कि लोकसभा चुनाव का नेतृत्व गठबंधन में भले ही कांग्रेस ने किया था. पर विधानसभा चुनाव का नेतृत्व झामुमो करेगा. सबसे अधिक सीटों पर झामुमो ही चुनाव लड़ेगा.
गठबंधन में ही चुनाव लड़ेंगे, इसके लिए सहयोगी दलों के साथ जल्द ही बैठक होगी और फार्मूले पर इस माह के अंत तक फैसला हो जायेगा. श्री सोरेन ने यह बात केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद पत्रकारों से कही. सोमवार को दिनभर मोरहाबादी स्थित शिबू सोरेन के आवास में केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई. जिसमें झामुमो के विधायक, सांसद और केंद्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मौजूद थे.
श्री सोरेन ने कहा कि बैठक में लोकसभा चुनाव की समीक्षा हुई. सभी सदस्यों ने अब विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट जाने की बात कही. विधानसभा चुनाव सभी सहयोगी दलों के साथ ही लड़ेंगे. वाम दलों को भी साथ रखा जायेगा. श्री सोरेन ने कहा कि लोकसभा चुनाव के पहले सहयोगी दलों के साथ एक फ्रमवर्क विधानसभा चुनाव को लेकर भी बना था. हम उसी फ्रेमवर्क पर आगे बढ़ेंगे. उन्होंने कहा कि दुमका में झामुमो की अगली कार्यकारिणी की बैठक 15 व 16 जून को होगी.
गुरुजी की हार से हतोत्साहित नहीं : श्री सोरेन ने कहा कि लोकसभा चुनाव में एक सीट पर झामुमो की जीत हुई है. गुरुजी की हार पर सबने चिंता व्यक्त की, पर हम हतोत्साहित नहीं हैं. झामुमो इसके पूर्व भी कई बार संक्रमण के दौर से गुजरा और हर बार फिर खड़ा हो उठा है.
अब झामुमो प्रवासी मुख्यमंत्री रघुवर दास भगाओ झारखंड बचाओ के नारा के साथ पार्टी चुनाव में उतरेगी. उन्होंने कहा कि राज्य की स्थिति भयावह है. न पानी है और न ही बिजली है.
बैलेट पेपर से हो चुनाव : श्री सोरेन ने कहा कि लोकसभा और विधानसभा का चुनाव अलग होता है. वह मांग करते हैं कि विधानसभा चुनाव बैलेट पेपर से हो न कि इवीएम से. हार के कारणों पर उन्होंने कहा कि कई कारक रहे हैं. विरोधियों ने षडयंत्र करके धनबल, झूठा राष्ट्रवाद के नाम पर लोगों को बरगलाया. उन्होंने कहा कि एनडीए की इतनी बड़ी जीत के बावजूद पूरे देश में सन्नाटा है.
बेरोजगारी बढ़ेगी तो घटनाएं भी बढ़ेंगी : श्री सोरेन ने हाल के नक्सल घटना पर कहा कि हमारे सीएम बड़बोले हैं. वास्तविकता से उन्हें कोई लेना-देना नहीं है. जब बोलते हैं तो कोई घटना हो जाती है. रोजगार नहीं देंगे, बेरोजगारी बढ़ेंगी तो इस तरह की घटनाएं होंगी ही.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें