1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. latehar
  5. unreasonable open polling in urban water supply scheme water leaks from jalminar crores wasted sam

शहरी जलापूर्ति योजना में अनियमितता की खुली पोल, जलमीनार से रिसने लगा पानी, करोड़ों का खर्च हुआ बर्बाद

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : शहरी जलापूर्ति योजना के तहत बने जलमीनार से टपकने लगा पानी.
Jharkhand news : शहरी जलापूर्ति योजना के तहत बने जलमीनार से टपकने लगा पानी.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Latehar news : लातेहार (आशीष टैगोर) : नगर विकास विभाग की एजेंसी जूडको द्वारा लातेहार में कराये जा रहे शहरी जलापूर्ति योजना में अनियमितताओं की पोल परत दर परत खुलती जा रही है. पहले तो पाइप लाइन बिछाने में अनियमितता की शिकायत सामने आती थी, लेकिन अब इस योजना के तहत बनाये गये जलमीनार निर्माण में बरती अनियमितता की शिकायत सामने आ रही है. बुधवार (9 सितंबर, 2020) को पेयजल एवं आपूर्ति कार्यालय परिसर में बनाये गये जलमीनार में जब पानी भरा गया, तो उससे छलनी की तरह पानी टपकने लगा. जलमीनार की बाहरी दीवारों से पानी का सिपेज होने लगा.

जब विभागीय अभियंताओं को इसकी जानकारी मिली, तो आनन- फानन में इसे दुरुस्त करने का कार्य प्रारंभ किया गया. इस संबंध में पूछे जाने पर जूडको के सहायक परियोजना पदाधिकारी सुंदर कच्छप ने बताया कि अभी जलमीनार की टेस्टिंग चल रही है. काम पूरा नहीं हुआ है. जलमीनार के अंदर का कुछ काम शेष रह गया है, उसे दूर कर लिया जायेगा. सिर्फ बाहर से रंग- रोगन किया गया है.

32 करोड़ की है यह परियोजना

जिले के दीघकालिक इस योजना की प्राक्कलन तकरीबन 32 करोड़ रुपये है. इस राशि से पेजयल आपूर्ति विभाग कार्यालय परिसर, दुगिला एवं डुरूआ गांव में जलमीनार बनाये गये हैं. इसके अलावा नगर पंचायत क्षेत्र के सभी 15 वार्ड में अंडरग्राउंड पाइप लाइन बिछाने का काम किया गया है.

वार्ड पार्षदों ने किया विरोध

नगर पंचायत के वार्ड पार्षदों ने नगर पंचायत की बोर्ड की बैठक में इस योजना में अनियमितता बरतने के मामले को उठाया था. उन्होंने योजना की जांच कराने की मांग नगर पंचायत अध्यक्ष एवं नगर विकास विभाग के अधिकारियों से की थी. वार्ड पार्षद संतोष रंजन ने बताया कि पाइप लाइन बिछाने में व्यापक अनियमितता बरती गयी है. प्राक्कलन के माप के अनुसार पाइप लाइन नहीं बिछाये गये हैं. इसके अलावा कहीं एक फीट, तो कहीं 2 फीट गहराई कर पाइप को बिछा दिया गया है, जबकि पाइप को कम से कम साढ़े तीन फीट नीचे बिछाना है.

मांग के बाद हुई परियोजना की जांच

योजना में अनियमितता बरते जाने की शिकायत पर नगर विकास विभाग, रांची के द्वारा एक जांच कमिटि बनायी गयी. इस कमिटि में नगर विकास विभाग के अधीक्षण अभियंता (Superintendent Engineer) के अलावा डीआरडीए (DRDA) लातेहार के निदेशक, नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी (Executive officer) एवं पेयजल आपूर्ति विभाग (Drinking Water Supply Department) के कार्यपालक अभियंता (Executive Engineer) शामिल थे. जांच टीम को बाईपास चौक एवं मेन रोड में तो सड़क से महज 6 इंज नीचे ही पाइप लाइन मिल गया था. इस पर टीम ने नाराजगी जाहिर की थी.

शुरू से ही मिली शिकायत : नगर पंचायत अध्यक्ष

नगर पंचायत अध्यक्ष सीतामनी तिर्की ने कहा कि इस योजना में व्यापक शिकायत प्रारंभ से ही मिल रही थी. कई बार कार्यकारी एजेंसी को कार्य में सुधार लाने का निर्देश दिया, लेकिन योजना के क्रियान्वयन में कोई सुधार नहीं हुआ. योजना में अनियमितता की शिकायत पर प्रदेश से आयी जांच कमिटि ने जांच भी किया था. लेकिन, नतीजा शिफर निकला और अब एजेंसी योजना प्रारंभ करने की तैयारी में है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें