1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. there is hope of opening of mines in chatra people will get employment

चतरा में माइंस खुलने की उम्मीद जगी, लोगों को मिलेगा रोजगार

कोल ब्लॉक नीलामी में प्रखंड की वृंदा सिसई कोल माइंस डालमिया कंपनी को आवंटित की गयी है. जिससे एक बार फिर वृंदा सिसई कोल माइंस खुलने की उम्मीद जग गयी है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
चतरा में माइंस खुलने की उम्मीद जगी
चतरा में माइंस खुलने की उम्मीद जगी
Prabhat Khabar

कोल ब्लॉक नीलामी में प्रखंड की वृंदा सिसई कोल माइंस डालमिया कंपनी को आवंटित की गयी है. जिससे एक बार फिर वृंदा सिसई कोल माइंस खुलने की उम्मीद जग गयी है. वृंदा सिसई कोल माइंस 1377 हेक्टेयर भूमि पर प्रस्तावित है, जिसमें 860 हेक्टेयर वन भूमि व शेष रैयती व गैर-मजरूआ भूमि शामिल है.

उक्त वृंदा माइंस में 34.71 मिलियन टन, सिसई में 26.34 मिलियन टन कोयले का भंडारण है. 11 फरवरी को कोल ब्लॉक आवंटन में उक्त कोल ब्लॉक डालमिया सीमेंट ने अपने नाम कर लिया. वृंदा सिसई कोल माइंस अबतक तीन कंपनियों को आवंटित किया गया है. लेकिन अबतक किसी न किसी कारण से इस प्रोजेक्ट पर ग्रहण लगता रहा.

डालमिया सीमेंट इस परियोजना को अपने नाम करने वाली चौथी कंपनी हैं. सबसे पहले 2004 में यह कंपनी अभिजीत ग्रुप को आवंटित किया गया था. अभिजीत ग्रुप ने जमीन अधिग्रहण का कार्य लगभग 20 प्रतिशत तक पूरा कर लिया था. वहीं कोल वासरी का निर्माण भी शुरू कर दी थी. इस बीच कोल ब्लॉक आवंटन वितरण में गड़बड़ी को लेकर अभिजीत ग्रुप को मिले, इस कोल ब्लॉक के आवंटन को रद्द कर दिया गया.

पुनः 2014 में यह कंपनी का आवंटन उषा मार्टिन कंपनी को मिली. उषा मार्टिन ने भी कोल परियोजना शुरू करने की कवायद शुरू की. इसी बीच उषा मार्टिन ने भी उक्त कोल ब्लॉक को टाटा स्पंज को 2018 में हैंडओवर कर दिया. लेकिन परियोजना शुरू करने में कुछ समस्याओ को देखते हुए टाटा स्पंज ने भी परियोजना शुरू करने में दिलचस्पी नही दिखायी और टाटा स्पंज ने भी सरेंडर कर दिया.

जिसके बाद वृंदा सिसई कोल ब्लॉक का आवंटन निकाला गया, जिसमें डालमिया ने बाजी मार ली. हालांकि जानकारों की माने तो उक्त परियोजना निर्माण को लेकर पर्यावरणीय स्वीकृति व फारेस्ट एनओसी का दो बड़ा महत्वपूर्ण काम हो चुका हैं, जिससे आवंटन लेने वाली डालमिया कंपनी की राह थोड़ी आसान है. जमीन का मामलें में डालमिया कंपनी को बहुत पसीना बहाना पड़ सकता है. अभिजीत ग्रुप ने जितनी जमीन खरीदी थी, उसे उषा मार्टिन को दिया था. फिर उषा मार्टिन ने टाटा को हस्तांतरित कर दिया था.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें