24.7 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

… मन का मौसम अच्छा है, तो हर पल जीत हमारी है

कला-संगम एवं पं चंद्रशेखर धर शुक्ल साहित्यिक व सांस्कृतिक संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में चल रहे ''''साहित्य की डोर : गांव की ओर'''' कार्यक्रम के तहत शनिवार को डुमरा प्रखंड के केथरिया गांव में विचार-गोष्ठी सह कवि-गोष्ठी का आयोजन हुआ

सीतामढ़ी. कला-संगम एवं पं चंद्रशेखर धर शुक्ल साहित्यिक व सांस्कृतिक संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में चल रहे ””””साहित्य की डोर : गांव की ओर”””” कार्यक्रम के तहत शनिवार को डुमरा प्रखंड के केथरिया गांव में विचार-गोष्ठी सह कवि-गोष्ठी का आयोजन हुआ. अध्यक्षता जिला पार्षद खुशदिल देवी ने की. संचालन गीतकार गीतेश ने किया. क्ताओं ने कहा कि ग्रामीण परिवेश के बच्चे भी मोबाइल के दलदल में धंसते जा रहे हैं. व्हाट्सएप्प, फेसबुक, चैटिंग की आग ने ग्रामीण युवाओं को भी झुलसा रखा है. गांव का वातावरण भी संक्रमण के दौर में है. ऐसी स्थिति में साहित्य ही सहारा बन सकता है. जिला पार्षद एवं समाजसेवी वैद्यनाथ कुशवाहा ने अपने निजी कोष से विभिन्न प्रकार की साहित्यिक गतिविधियों का आयोजन कर युवाओं को उससे जोड़ने की बात कही. अन्य वक्ताओं में ग्रामीण चिकित्सक राष्ट्रीय मंच के प्रभारी अध्यक्ष डॉ रामाशंकर सिंह, नवजोत कुमार, संगीत कुमार, रमानंद कुमार, अधिवक्ता नवीन कुमार आदि प्रमुख थे. द्वितीय सत्र में कवि गोष्ठी का आगाज गीतकार गीतेश की रचना ””””असफल हैं वे लोग जिनकी सही नहीं तैयारी है, मन का मौसम अच्छा है तो हर पल जीत हमारी है”””” से हुआ. स्नेहा कुमारी की कविता ””””ये घर को खुशियों से भर देती है, हर क्षेत्र में अव्वल रहती अब बेटी है”””” ने श्रोताओं की भरपूर वाहवाही बटोरी. आयुष कुमार की रचना ””””दिल में यदि ठान लेते हैं, तो अपने जद में कर आसमान लेते हैं”””” ने छटा बिखेर दी.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें