‘मिशन शक्ति'' की सफलता पर लोगों ने दी DRDO को बधाई, उपेंद्र कुशवाहा ने बताया आचार संहिता का उल्लंघन, ...पढ़ें

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत कई लोगों ने ‘मिशन शक्ति' की सफलता पर बुधवार को डीआरडीओ एवं इस अभियान से जुड़े सभी वैज्ञानिकों की प्रशंसा करते हुए उन्हें बधाई दी. मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, नीतीश ने ‘मिशन शक्ति' की सफलता पर डीआरडीओ एवं ‘मिशन शक्ति' से जुड़े सभी वैज्ञानिकों की प्रशंसा करते हुए उन्हें बधाई दी है. उन्होंने ‘मिशन शक्ति' की सफलता के फलस्वरूप विश्व की अंतरिक्ष महाशक्तियों के क्लब में भारत के शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त की. अब तक रूस, अमेरिका और चीन के पास ही यह क्षमता थी. नीतीश ने कहा कि ‘मिशन शक्ति' भविष्य में देश की सुरक्षा के दृष्टिकोण से अहम है. उन्होंने कहा कि ‘मिशन शक्ति' की सफलता डीआरडीओ एवं वैज्ञानिकों की कड़ी मेहनत का नतीजा है, जिसके लिए वे बधाई के पात्र हैं. ‘‘मेरी शुभकामनाएं उनके साथ हैं. पूरे देश को उन पर गर्व है.'

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि यह एक ऐतिहासिक दिन है. भारत एक बड़ी अंतरिक्ष शक्ति के रूप में उभरा है. इसके लिए सभी वैज्ञानिक और प्रधानमंत्री, विशेष रूप से, पूरी प्रशंसा के पात्र हैं. मैं वैज्ञानिकों और प्रधानमंत्री की तारीफ करता हूं. प्रधानमंत्री के दूरदर्शी और साहसिक नेतृत्व के तहत भारतीय वैज्ञानिकों ने स्व-विकसित एंटी-सैटेलाइट मिसाइल का उपयोग करके लो अर्थ ऑर्बिट में सैटेलाइट को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया है. इसके लिए सभी वैज्ञानिकों को मेरी बधाई.

सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि परमाणु शक्ति के बाद भारत अब अंतरिक्ष महाशक्ति बन चुका है. अटलजी ने 11 मई, 1998 को पोखरण में परमाणु भू-गर्भ परीक्षण कर भारत को आणविक शक्ति वाला देश बनाया और अब नरेंद्र मोदी ने भारत को स्पेस सुपर पावर बनाया. हमें प्रधानमंत्री पर गर्व है. साथ ही कहा कि जल, थल, नभ के बाद अब अंतरिक्ष में भी दुश्मनों को मार गिराने में सक्षम.

गिरिराज सिंह ने कहा है कि अंतरिक्ष में हिंदुस्तान के पराक्रम के बाद आगे से दुश्मन-देश हमारी तरफ अंतरिक्ष से भी आंखें डाल नहीं पायेगा. आज भारत के वैज्ञानिक भी सैनिकों की भूमिका में थे. अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराया. भारत के वैज्ञानिक और प्रधानमंत्री जी को इस अभूतपूर्व सफलता के हार्दिक बधाई.

नंदकिशोर यादव ने ट्वीट कर कहा है कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में डीआरडीओ और इसरो के तमाम वैज्ञानिकों को 'मिशन शक्ति' जैसे कठिन ऑपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम देने और अंतरिक्ष महाशक्ति बनाने के लिए विशेष अभिनंदन! आज का दिन हम सभी भारतीयों और आनेवाली पीढ़ियों के लिए गर्व के दिन के रूप में याद किया जायेगा.

रामविलास पासवान ने कहा है कि आज भारत ने अंतरिक्ष मे घूम रहे सैटेलाइट का पता लगा कर, आवश्यकता पड़ने पर मार गिराने की क्षमता हासिल कर ली है. अभी तक यह पावर सिर्फ अमेरिका, रूस और चीन के पास थी. अब भारत विश्व का चौथा देश बन गया है, जिसके पास यह शक्ति है. सबसे खुशी की बात यह है कि यह तकनीक भारत मे ही विकसित की गयी है. अब कोई देश भारत की ओर नजर उठा कर नहीं देख सकता है और देश पूर्ण रूप से सुरक्षित रहेगा. लोक जनशक्ति पार्टी की ओर से इस दूरदर्शी कदम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ डीआरडीओ, इसरो एवं अन्य संबंधित एजेंसियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं.

अजय आलोक ने कहा है कि पोखरण-1 से पोखरण-2 करने में 25 वर्ष लग गये, लेकिन मिशन शक्ति एक बार में सफल हुआ. क्योंकि, इसमें वैज्ञानिकों को शक्ति मिली थी कि खुल कर अपना काम करने की. मजबूत राजनीतिक इच्छा शक्ति होने से ही देश आगे बढ़ता हैं.

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा हैकि ''मिशनशक्ति की सफलता का श्रेय अंतरिक्ष अनुसंधान एवं विकास में वर्षों से अनवरत परिश्रम कर रहे वैज्ञानिकों को जाता है. इसकी घोषणा भी नेतृत्व कर रहे वैज्ञानिक द्वारा ही होनी चाहिए थी. प्रधानमंत्री मोदी द्वारा इसकी घोषणा, आचार संहिता का उल्लंघन और भाजपा द्वारा देश को मुद्दों से भटकना ही है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें