25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

मुजफ्फरपुर में राज्यपाल ने कहा- रोजगार के पीछे न भागें, राेजगार सृजक बनें, 2047 तक विकसित हो जाएगा भारत

मुजफ्फरपुर स्थित एलएन मिश्रा कॉलेज में समारोह में पहुंचे राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने लाइब्रेरी का उद्घाटन किया. इस दौरान उन्होंने कॉलेज के युवाओं से कहा कि रोजगार के पीछे मत भागिए, रोजगार पैदा करने वाले बनिए

मुजफ्फरपुर. युवा डिग्री लेकर रोजगार के पीछे न भागें. राेजगार सृजक बनें. इससे वो स्वयं के साथ समाज के अन्य लोगों को भी रोजगार दे सकेंगे. यह बिहार के साथ ही विकसित देश की परिकल्पना को बल देगा. भारत को विकसित बनाने के लिए युवाओं को आगे आने की जरूरत है. ये बातें सोमवार को मुजफ्फरपुर के भगवानपुर चौक स्थित ललित नारायण मिश्र कॉलेज ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट में डॉ जगन्नाथ मिश्र की जयंती समारोह सह लाइब्रेरी भवन के उद्घाटन समारोह में पहुंचे बिहार के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने कहीं.

हम युवाओं की आंखों से देख रहें विकसित भारत का सपना

राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि युवा देश के आधार स्तंभ हैं और हम इन्हीं युवाओं की आंखों से विकसित भारत का सपना देख रहे हैं. इन सपनाें को हम सबको मिलकर साकार करना होगा. बिहार अपने दम पर वह सब कुछ हासिल कर सकता है जो विकसित राज्यों के पास है. यहां के युवाओं में सकारात्मक ऊर्जा का भंडार है. उसे सही दिशा देने और तराशने की जरूरत है.

शिक्षित युवाओं को उद्यम के लिए बढ़ाना होगा आगे

राज्यपाल ने कहा कि हमें दो बातों पर विशेषकर ध्यान देने की जरूरत है. पहला कि प्रदेश को लेकर परसेप्शन बदलना होगा और दूसरा बिहार ही क्यों का उत्तर हम लोगों को बिहार क्यों नहीं से देना होगा. यह तभी संभव हो सकेगा जब शिक्षित युवा नौकरी के पीछे भागना छोड़कर उद्यम के लिए आगे बढ़ेंगे. इसके लिए सरकार की ओर से योजनाओं के माध्यम से उन्हें प्रोत्साहित किया जा रहा है. बिहार के युवा अगर रोजगार सृजक बनें तो देश 2047 तक विकसित हो जाएगा.

Also Read: Parliament Session: संसद में भोजपुरी में शपथ न ले पाने पर राजीव प्रताप रूडी ने बयां किया दर्द

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें