24.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

एड्स विभाग में अब सारे काम होंगे ऑनलाइन, मरीजों को मिलेगी सुविधा

एड्स विभाग में अब सारे काम होंगे ऑनलाइन, मरीजों को मिलेगी सुविधा

कटिहार. जिला एड्स बचाव विभाग के अब सारे कार्य ऑनलाइन होंगे. मरीज की जांच के बाद उनके निगेटिव, पॉजिटिव उनके दवाई के डोज सरकार से मिलने वाली सुविधा हर चीज अब ऑनलाइन रजिस्टर्ड होगी. इस पूरे डाटा की पल-पल की खबर स्टेट को भी रहेगी. बशर्ते इसको लेकर जिला एड्स बचाव नियंत्रण इकाई में काम की भी शुरुआत हो गयी है. सोच पोर्टल पर यह सारे रिकॉर्ड अपलोड किये जायेंगे. रजिस्टर पर लिखने अंकित करने की सारी प्रक्रिया अब समाप्त कर दी गयी है. नाको के द्वारा बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति के द्वारा जिला एड्स बचाव नियंत्रण इकाई को सारे संसाधन मुहैया कर दिया गया है. विभाग के जिले में चल रहे 9 सेंट्रो पर आवश्यकता के अनुसार सारे संसाधन की खरीदारी को लेकर विभाग की ओर से राशि निर्गत कर दिया गया है. साथ ही जिला मुख्यालय विभाग में दो सिस्टम, प्रिंटर, वायफाय साथ ही डीपीएम को एक लैपटॉप निर्गत कराया गया है. ताकि कार्य में किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो और सारे कार्य अब पेपर लेस हो. इसके अलावा जिले के सभी नौ सेंटरों पर लोगों की जांच के लिए किट के संरक्षण को लेकर नौ आइएलआर यानी की आधुनिक फ्रिजर मशीन भी निर्गत कराया गया है. जो नए आधुनिकता के साथ लेस है. इस आइएलआर में जांच कीट को बेहतर तरीके से रख-रखाव और ज्यादा संख्या में रखने की क्षमता बढ़ गयी है. इस संदर्भ में संचारी रोग पदाधिकारी डॉ अशरफ रिजवी ने बताया कि विभाग की ओर से अब एड्स बचाव नियंत्रण इकाई के सारे कार्य ऑनलाइन होंगे. सारे कार्य को पेपर लेस करने के मकसद से जिला विभाग को सारे संसाधन मुहैया कराया गया है. इसकी शुरुआत भी जिले में हो गयी है. जिला एड्स बचाव नियंत्रण इकाई के डीपीएम शोनिक प्रकाश ने बताया कि जिले में कुल नौ केंद्र है. जहां पर सभी जगह नये नौ आइएलआर निर्गत कराया गया है. ताकि एचआइवी जांच की किट के रख रखाव बेहतर तरीके से हो सकें. सभी आइएलआर आधुनिक से है. डीपीएम ने बताया कि अब सारे कार्य ऑनलाइन होंगे. इससे एक क्लिक पर मरीज की सारी डिटेल सामने होगी. इससे काम करने में आसानी भी होगी. साथ ही इसकी पूरी रिपोर्ट स्टेट को भी अपडेट होती रहेगी. डीपीएम में बताया कि इसके अलावा विभाग की ओर से इंडेक्स टेस्टिंग को लेकर भी विशेष निर्देश दिया गया है. जिसमें पॉजिटिव मरीज के साथ पति व पत्नी और उनके बच्चे की जांच को लेकर फोकस किया गया है. यदि कोई पति या पत्नी पॉजिटिव पाये जाते हैं तो उनकी काउंसलिंग कर उनका संबंध और किसी से नहीं है. इसके बारे में जानकारी लेकर उनकी भी जांच अनिवार्यता रूप से की जायेगी.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें