अब नौ एडीजे चलायेंगे कोर्ट, मामलों का त्वरित गति से होगा निष्पादन

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बक्सर : बक्सर व्यवहार न्यायालय में अब मामलों का त्वरित गति से निष्पादन होगा. न्यायालय के बेंच में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीशों की संख्या बढ़कर नौ हो गयी है. बताते चलें कि पिछले दिनों सरकार ने 4 एसीजीएम को प्रोन्नति देते हुए एडीजे बनाया था, जिनमें राजेश कुमार त्रिपाठी, कैलाश जोशी, आशुतोष कुमार सिंह एवं अविनाश कुमार शर्मा शामिल थे. उक्त सभी न्यायिक पदाधिकारी वर्ष 2007 में आयोजित किये गये 26वीं बैच में सफल होने के बाद न्यायिक पदाधिकारी नियुक्त किये गये थे .

चार जजों की प्रोन्नति के बाद पहली बार नौ एडीजे न्यायालय को मिले
गोरखपुर के रहने वाले राजेश कुमार त्रिपाठी कि शिक्षा गोरखपुर विश्वविद्यालय में हुई थी. 1 अक्तूबर 1974 के जन्मे श्री त्रिपाठी 2007 से न्यायिक पदाधिकारी के रूप में नियुक्त किये गये थे. इन्हें एडीजे 4 का प्रभार मिला है.
5 जून,1982 को जन्में लखनऊ विश्वविद्यालय से एलएलएम की पढ़ाई पूरी करने वाले कैलाश जोशी सबसे कम उम्र में यहां एडीजे बने हैं. 2007 से न्यायिक अधिकारी बने श्री जोशी डुमरांव में सब जज के पद पर नियुक्त थे.
26 जुलाई 1975 को उत्तरप्रदेश में जन्में आशुतोष कुमार सिंह कि शिक्षा हरिश्चंद्र कॉलेज वाराणसी में हुई. बक्सर में सब जज के पद पर आसीन श्री सिंह को एडीजे 9 का प्रभार दिया गया है.
एडीजे 8 के पद पर नियुक्त हुए न्यायिक पदाधिकारी अविनाश कुमार शर्मा बक्सर में पहले मुंसिफ के पद पर नियुक्त थे. जिसके बाद उन्हें सब जज के पद पर पदोन्नति किया गया था.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें