Advertisement

Stocks

  • Feb 12 2019 5:16PM
Advertisement

शेयर बाजारों में लगातार चौथे दिन गिरावट जारी, 241 अंक टूटा सेंसेक्स

शेयर बाजारों में लगातार चौथे दिन गिरावट जारी, 241 अंक टूटा सेंसेक्स

मुंबई : स्थानीय शेयर बाजारों में गिरावट का सिलसिला मंगलवार को भी जारी रहा और बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 241 अंक से अधिक टूटा. यह लगातार चौथा दिन है, जब बाजार में गिरावट आयी है. वैश्विक बाजारों से समारात्मक संकेतों के बावजूद स्थानीय बाजार में निवेशक वृहद आर्थिक आंकड़ों की घोषणा से पहले कोई जोखिम उठाने से बच रहे थे.

इसे भी पढ़ें : रुपये की गिरावट और कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों से शेयर बाजारों में हाहाकार

दिन के कारोबार के अंतिम दौर में बिकवाली का जोर शुरू हो गया था, जिससे बाजार में गिरावट दर्ज की गयी. दिसंबर का औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) तथा जनवरी का उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े आने से पहले निवेशकों ने रीयल एस्टेट, आईटी, रोजमर्रा के उपभोक्ता सामान बनाने वाली कंपनियों तथा बैंक शेयरों में बिकवाली की.

कारोबारियों के अनुसार, कुछ कंपनियों के वित्तीय परिणाम नरम रहने तथा विदेशी कोष की निकासी से भी कारोबारी धारणा प्रभावित हुई. एशिया के अन्य बाजारों में मजबूत रुख के साथ बीएसई सेंसेक्स सकारात्मक रुख के साथ खुला और कारोबार के दौरान 36,465.40 अंक के स्तर पर पहुंच गया. हालांकि, बाद में मुनाफावसूली से बाजार में तेजी खत्म हो गयी और बीएसई सेंसेक्स 241.41 अंक या 0.66 फीसदी की गिरावट के साथ 36,153.62 अंक पर बंद हुआ. इससे पहले, पिछले तीन दिनों में सेंसेक्स 580 अंक टूटा.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी कारोबार के दौरान 10,910.90 के उच्च स्तर पर पहुंच गया, लेकिन बाद में इसमें गिरावट आयी और यह 10,823.80 के न्यूनतम स्तर तक चला गया. अंत में यह 57.40 अंक या 0.53 फीसदी की गिरावट के साथ 10,831.40 अंक पर बंद हुआ. नुकसान में रहने वाले प्रमुख शेयरों में हीरो मोटो कॉर्प, एचडीएफसी, एसबीआई, इन्फोसिस, एचसीएल टेक, आईसीआईसीआई बैंक, बजाज फाइनेंस, ओएनजीसी, बजाज ऑटो तथा इंडसइंड बैंक में 2.63 फीसदी तक की गिरावट आयी. वहीं, सन फार्मा, कोल इंडिया, टाटा स्टील, एनटीपीसी, एशियन पेंट्स, वेदांता, महिंद्रा एंड महिंद्रा और आरआईएल में 2 फीसदी तक की तेजी आयी.

वैश्विक स्तर पर एशिया के अन्य बाजारों में तेजी का रुख रहा. निवेशकों की अमेरिका-चीन के बीच नये दौर की व्यापार वार्ता पर नजर है. दुनिया के दो बड़ी अर्थव्यवस्था मौजूदा शुल्क मसले को समाप्त करने की कोशिश करेंगे.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement