Advertisement

Palamu

  • Jan 5 2019 2:08PM

PM Modi in Palamau : कर्जमाफी के नाम पर वे किसानों को ठग रहे, हम किसानों की पीढ़ियों को समृद्ध बनाने में जुटे हैं

PM Modi in Palamau : कर्जमाफी के नाम पर वे किसानों को ठग रहे, हम किसानों की पीढ़ियों को समृद्ध बनाने में जुटे हैं

रांची : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की भूमि से शनिवार को कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. पलामू में मंडल डैम के पुनरोद्धार का शिलान्यास करने पहुंचे प्रधानमंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम लिये बगैर उन पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाया. वहीं, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सोनिया और राहुल गांधी का नाम लिये बगैर कहा कि जमानत पर चल रहे भ्रष्ट मां-बेटे का दलाली और कमीशनखोरी का इतिहास रहा है.

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि जिन लोगों ने उत्तरी कोयल परियोजना को 47 साल तक लटकाये रखा, वे बिहार के गुनहगार हैं, झारखंड के गुनहगार हैं. वे किसानों के गुनहगार हैं. वे समाज और देश के ईमानदार करदाताओं के गुनहगार हैं, क्योंकि जो परियोजना 30 करोड़ में पूरी हो जानी थी, वह अब 2400 करोड़ में पूरी होगी. उन्होंने विशाल जनसमूह से पूछा कि क्या मोदी को किसानों के इन गुनहगारों के खिलाफ लड़ना चाहिए या नहीं. श्री मोदी ने सूखा प्रभावित क्षेत्र में किसानों के साथ की गयी आपराधिक लापरवाही के लिए कांग्रेस और उसकी सहयोगी दलों की सरकारों को जिम्मेदार ठहराया. कहा कि यह योजना किसानों के साथ ठगी के साथ ही देश के ईमानदार करदाताओं के साथ बेईमानी का भी सबूत है.

जानिये मंडल डैम का पूरा इतिहास, कब हुई शुरुआत, कितनों को मिलेगा लाभ

मंडल डैम समेत छह परियोजनाओं का शिलान्यास करते हुए पीएम ने कहा कि 47 साल पुरानी परियोजना खंडहर की तरह खड़ी है. फाइलें लटकती रहीं, भटकती रहीं. 25 साल तक इस परियोजना का काम ठप रहा. प्रधानमंत्री ने कहा कि जिन लोगों ने किसानों को कर्ज लेने के लिए मजबूर किया, वही कर्जमाफी के नाम पर किसानों की सहानुभूति बटोरने में जुटे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि वह भी चाहते, तो तात्कालिक लाभ के लिए किसानों के एक लाख करोड़ रुपये की कर्जमाफी का एलान कर सकते थे. किसानों की वाहवाही लूट सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. उनकी सरकार ने किसानों के लिए 90 हजार करोड़ रुपये की योजनाएं शुरू कीं, ताकि किसानों की आने वाली पीढ़ियों का भविष्य सुरक्षित हो सके. किसान सशक्त हो सकें.


प्रधानमंत्री ने कहा कि खेतों तक सिंचाई की सुविधा पहुंच जाये, तो हमारे देश का किसान दूसरों को कर्ज देने की क्षमता रखता है. वह लोगों का पेट भरता है. उसे कर्ज लेने की जरूरत क्यों पड़ती है. इस बारे में यदि पहले की सरकारों ने सोचा होता, तो आज किसान कर्ज में नहीं डूबा होता. उन्होंने कहा कि पुरानी सरकारों ने किसानों को कर्जदार बनाया. युवाओं को याचक बनाकर रख दिया.

पीएम ने कहा कि कांग्रेस की सरकार ने ऐसी नीतियां बनायीं, जिससे देश के लोग सरकार पर आश्रित रहें. हर काम के लिए सरकार का मुंह ताकते रहें. श्री मोदी ने कहा कि देश कभी भी सरकार के भरोसे नहीं चलता. देश के लोगों के भरोसे पर सरकारें चलती हैं. इसलिए उनकी सरकार ने ऐसी योजनाएं बनायीं, जिससे लोग सशक्त हो सकें. युवा आत्मनिर्भर बन सकें.


श्री मोदी ने कहा कि मंडल डैम से 1.1 लाख हेक्टेयर भूमि तक सिंचाई की सुविधा पहुंचेगी. इसकी मदद से किसान खेत से सोना उगायेंगे और उनकी आय में दोगुनी-चौगुनी वृद्धि होगी. इससे किसान खुद तो सशक्त होंगे ही, देश भी सशक्त होगा. प्रधानमंत्री ने पुरानी सरकारों पर किसानों के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाया. कहा कि कांग्रेस ने किसानों को वोट बैंक समझा, लेकिन भाजपा की सरकार मानती है कि किसान हमारे अन्नदाता हैं. अन्नदाता गरीब रहेंगे, कर्ज में डूबे रहेंगे, तो राष्ट्र समृद्ध कैसे हो सकता है. इसलिए उनकी सरकार ने किसानों को सशक्त बनाकर उनकी आय दोगुनी करने में मददगार योजनाएं बनायीं. मंडल डैम के पुनरोद्धार का फैसला भी उसी योजना का हिस्सा है.

मंडल परियोजना : चार दशक बाद खुला विकास का द्वार

मोदी ने कहा कि कर्जमाफी के नाम पर किसानों को ठगने वाले लोगों ने तो कभी उत्तर कोयल परियोजना का नाम भी नहीं सुना होगा. उन्हें यह भी नहीं मालूम कि वर्षों से कितनी सिंचाई परियोजनाएं अधूरी पड़ी हैं. उन्हें पूरी करने की जरूरत है.

पहले परिवार के नाम के लिए चलती थी योजना

प्रधानमंत्री ने पलामू जिला के पीएम आवास योजना के पांच लाभुकों को अपने हाथ से नये पक्का मकान की चाबी सौंपी. उन्होंने आवास योजना को लेकर भी कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा. कहा कि पहले योजनाएं परिवार के नाम के लिए चलती थीं. अब काम के लिए चलती हैं. कहा कि पुरानी योजना में परिवार की पार्टी से जुड़े लोगों को कमीशन दिये बगैर आवास का आवंटन नहीं होता था. उसकी गुणवत्ता भी स्तरहीन होती थी. लोग घरों में जाना नहीं चाहते थे. एनडीए सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना को पारदर्शी बनाया. इसमें भ्रष्टाचार की गुंजाइश नहीं रह गयी है. गुणवत्ता की तीन स्तर पर मॉनिटरिंग की भी व्यवस्था की गयी है.


पीएम ने कहा कि पुरानी योजना में घर की चिंता कम थी, परिवार के नाम की चिंता ज्यादा होती थी. हमने नरेंद्र मोदी या नमो आवास योजना, रघुवर दास आवास योजना नहीं बनायी. प्रधानमंत्री आवास योजना बनायी. जो भी देश का प्रधानमंत्री बनेगा, वह इस योजना को आगे बढ़ायेगा. पीएम ने कहा कि पहले भी बड़े-बड़े लोगों के नाम पर योजनाएं चलती थीं, वे योजनाएं कहां गयीं. कहां गये वे लोग. कहां गये वो घर. कहां गये वो पैसे. पहले की योजनाओं में क्या-क्या होता था, लोग जानते हैं. जब तक उनके खानदान के चेले-चपाटों को दक्षिणा नहीं देते थे, तब तक लाभुक का नाम भी तय नहीं होता था. पीएम ने कहा कि उनकी सरकार ने तय किया है कि 2022 तक देश के गांव से शहर तक हर देशवासी को पक्का मकान देंगे.

100 दिन में 7 लाख लोगों को मिला आयुष्मान भारत योजना का लाभ

प्रधानमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ झारखंड की धरती से हुआ. योजना के 100 दिन के भीतर सात लाख लोगों को इसका लाभ मिला. हर दिन 10 हजार लोग योजना के दायरे में आ रहे हैं. झारखंड में 28 हजार लोगों ने योजना का लाभ उठाया.

मंडल डैम से फेडरलिज्म की अवधारणा को मिली मजबूती

प्रधानमंत्री ने मंडल डैम परियोजना के पुनरोद्धार के लिए बिहार और झारखंड की सरकारों को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और झारखंड के सीएम रघुवर दास ने जिस समझदारी एवं संवेदनशीलता के साथ दोनों राज्य के किसानों के भले के लिए मंडल डैम को पूरा करने पर सहमति बनायी, यह संघीय ढांचे को मजबूती प्रदान करेगा. उन्होंने कहा कि आज राज्यों के बीच पानी के लिए लड़ाई हो रही है, लेकिन नीतीश कुमार और रघुवर दास के अलावा दोनों राज्यों के सांसदों ने मिलकर जिस तरह से मंडल डैम के अधूरे कार्य को पूरा करने की कोशिश की है, यह आने वाले दिनों में एक नजीर बनेगी. देश के अन्य राज्यों को दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उत्तरी कोयल परियोजना से लाभान्वित होने वाले जिलों के सांसदों से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है.

मुख्यमंत्री ने सोनिया और राहुल गांधी पर साधा निशाना

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अपने संबोधन में कहा कि 47 साल से बंद पड़े मंडल डैम परियोजना के पुनरोद्धार के बाद सूखाग्रस्त पलामू के खेत लहलहायेंगे. यहां के किसान समृद्ध होंगे. परियोजना से किसानों में नयी आस जगी है. सुखाड़ प्रभावित इस क्षेत्र के किसान अब साल में दो-तीन फसल उगा सकेंगे. श्री दास ने कहा कि अप्रैल तक किसानों के लिए अलग फीडर तैयार हो जायेंगे. इसके माध्यम से किसानों को हर दिन छह घंटा निर्बाध बिजली की आपूर्ति होगी. इससे किसान अपने खेतों तक पानी पहुंचा सकेंगे, जिसका लाभ पैदावार बढ़ाने में उन्हें मिलेगा. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार कनहर परियोजना को भी पूरा करवायेगी.

सोनिया-राहुल पर जमकर बरसे मुख्यमंत्री रघुवर

कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी के साथ-साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार में डूबे मां-बेटे का दलाली और कमीशनखोरी का इतिहास रहा है. भ्रष्टाचार पर पूरी तरह से लगाम लग गयी, तो बौखलाकर देश के ईमानदार प्रधानमंत्री के खिलाफ अभियान चला रहे हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्ट लोगों पर सख्त कार्रवाई से घबराये विरोधी दल नरेंद्र मोदी को कभी परास्त नहीं कर पायेंगे. जनता उन्हें परास्त कर देगी. मुख्यमंत्री ने सभा को संबोधित करते हुए अपनी सरकार की उपलब्धियां भी गिनायीं.

झारखंड के किसानों की आय चौगुनी करेंगे

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आकांक्षाओं के अनुरूप उनकी सरकार किसानों की आय बढ़ाने की दिशा में काम कर रही है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसानों की आय दोगुनी करना चाहते हैं, झारखंड सरकार ने अन्नदाता की आय चार गुणा करने का लक्ष्य रखा है और उस पर तेजी से काम कर रहे हैं. किसानों को दी जाने वाली सुविधाओं का भी उन्होंने जिक्र किया.

बताया कि ग्लोबल एग्रिकल्चर फूड समिट के जरिये किसानों को अत्याधुनिक तकनीक से खेती करने और ज्यादा पैदावार पाने के बारे में जानकारी दी गयी. झारखंड देश का एकमात्र राज्य है, जहां किसानों को ब्याजमुक्त ऋण दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि उन्नत खेती सीखने के लिए 50 महिला समेत 100 किसानों को सरकार इस्राइल भेज रही है. इसके पहले भी कई किसानों को इस्राइल भेजा गया, जो वहां से लौटने के बाद अपने-अपने क्षेत्र में किसानों को नयी तकनीक के बारे में जानकारी दे रहे हैं.

कुछ लोग देश के किसानों को कर्जमाफी के नाम पर बहला रहे हैं

मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की कि वे 2014 के बदहाल झारखंड की तुलना आज के झारखंड से करें. कहा कि झारखंड को लूटने वाली पार्टियों से लोग सवाल पूछें कि उन्होंने जनता की भलाई के लिए कोई काम क्यों नहीं किया. उन्हें परेशान, बदहाल क्यों छोड़ दिया.

67 साल में 91 हजार हेक्टेयर और 4 साल में 2 लाख 10 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचित हुई

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 से पूर्व राज्य की 91 हजार भूमि सिंचित थी. पिछले 4 साल में यह आंकड़ा 2 लाख 10 हजार हेक्टेयर तक पहुंच गया. बदलाव हो रहा है. डबल इंजन की सरकार हर क्षेत्र में कार्य कर रही है.

14 लाख परिवार को गैस कनेक्शन, 60% लोगों को धुआं से मुक्ति देना है

मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में राज्य के 14 लाख गरीब परिवारों के गैस कनेक्शन दिया जायेगा. ऐसे करीब 60% परिवार को धुआं से मुक्ति प्रदान करने का लक्ष्य है. झारखंड देश का इकलौता राज्य है, जहां गरीबों को गैस सिलिंडर के साथ चूल्हा भी सरकार मुफ्त दे रही है.

खरीफ फसल के लिए किसानों को प्रति एकड़ 5 हजार रुपये

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की समृद्धि के लिए राज्य के किसानों को खरीफ फसल के लिए प्रति एकड़ 5 हजार रुपये दिये जायेंगे. 22 लाख 76 हजार किसानों को इसका लाभ मिलेगा. बरसात से पूर्व किसानों के खाते में उनका पैसा पहुंच जायेगा. इतना ही नहीं, राज्य के किसानों की फसल बीमा के प्रीमियम का भुगतान सरकार कर रही है. उन्होंने कहा कि राज्य के मेहनतकश किसानों की बदौलत 2013-14 की –4% कृषि विकास दर 4 साल में +14% हो गयी है.

Advertisement

Comments

Advertisement