1. home Hindi News
  2. national
  3. panel recommends government may go for lockdown 2

Coronavirus Lockdown: क्या 21 दिन के बाद और बढ़ेगा लॉकडाउन? जानिए क्या है सरकार का जवाब...

By Mohan Singh
Updated Date
लॉकडाउन से सूनी पड़ी सड़कें।
लॉकडाउन से सूनी पड़ी सड़कें।

Coronavirus Outbreak In India: कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री ने 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की है, लेकिन अब कयास लगाए जा रहे हैंं कि कोरोना की इस चेन को तोड़ने के लिए मई में कुछ समय के लिए दूसरे लॉकडाउन के लिए जाना पड़ सकता है. इन खबरों के बाद सोमवार को कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने सरकार की ओर से अपना जवाब दिया. उन्होंने कहा कि वह इस तरह की खबरों को पढ़कर हैरान हैं. लॉकडाउन को बढ़ाने जैसी कोई योजना पर सरकार ने विचार नहीं किया है.

डेक्कन क्रॉनिकल के हवाले से खबर थी कि स्वास्थ्य, प्रबंधन, और वित्त क्षेत्रों के विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई एक संयुक्त रिपोर्ट में मई में एक और लॉकडाउन का समर्थन किया गया है, क्योंकि कोरोना वायरस के भारत में बड़़े स्तर पर फैलने की संभावना है.

रिपोर्ट में 20 मार्च से 12 अप्रैल के बीच वायरस को रोकने के लिए सबसे अच्छा उपाय बताया था लेकिन ऐसा अब दिखता नजर नहीं आ रहा है कि 12 अप्रैल तक कोरोना की चेन टूट सके.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा से पहले 17 मार्च को तैयार की गई रिपोर्ट में धारा 144 लगाने पर प्रतिबंध के पक्ष में थे. संयुक्त राज्य अमेरिका में 1918 फ्लू महामारी से सबक लेते हुए, जिसने कोविद -19 के मद्देनजर कई देशों के वर्तमान लॉकडाउन के लिए दुनिया भर में आधार बनाया, रिपोर्ट ने 17 अप्रैल से एक महीने के लिए प्रतिबंधों में ढील देने की सिफारिश की और 18 से 31 मई के बीच फिर से लॉकडाउन की योजना है.

रिपोर्ट में यह सुझाव दिया गया कि इसके बाद सामान्य स्थिति बहाल हो जाएगी और सरकार को लोगों को स्वच्छता और सामाजिक दूरियां बनाए रखने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

जिन देशों ने दक्षिण कोरिया, जापान, थाईलैंड और सिंगापुर की तरह जल्दी और कठिन कार्य किया, वे कोरोना वायरस की चेन को तोड़ने में सक्षम है और अमेरिका, इटली, फ्रांस और ईरान जैसे वेट-एंड-वॉच मोड की तुलना में मामलों को नीचे लाते हैं

कोरिया, जापान, थाईलैंड और सिंगापुर 10,000 से आबादी से नीचे के संक्रमणों को तोडने में सफल रहे, जबकि अमेरिका, इटली, फ्रांस और ईरान 25,000 अंकों के पार संक्रमणों का एक मूक गवाह बने रहे.

रिपोर्ट में कहा गया है कि वुहान लॉकडाउन के अनुभव ने यह भी साबित कर दिया कि 20 मार्च से कम से कम 10,000 लोगों की जान बचाई जा सकती है. सबसे खराब और बेहतरीन रिपोर्ट तैयार करने के बाद निष्कर्ष निकाला कि 100 दिन की अवधि में देश में मृत्यु दर को कम से कम पांच से छह बार आक्रामक सामाजिक दूरी के साथ कम किया जा सकता है

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें