1. home Hindi News
  2. entertainment
  3. pearl v puri sexual harassment case victims mother reveals why she has chosen to keep quiet bud

Pearl V Puri Case : पीड़िता की मां का बयान आया सामने, दिव्या खोसला ने पूछ लिया ऐसा सवाल

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
pearl v puri and divya khosla
pearl v puri and divya khosla
instagram

टीवी एक्टर पर्ल वी पुरी (Pearl V Puri )के समर्थन में पूरी टीवी इंडस्ट्री एकजुट हो गई है. उनपर सीरियल बेपनाह प्यार के सेट पर नाबालिग से रेप का आरोप है. कथित घटना 2019 की है. शिकायत पीड़िता के पिता ने की है. सोशल मीडिया पर पर्ल वी पुरी के फैंस और उनके इंडस्ट्री के दोस्त लगातार उनके सपोर्ट में ट्वीट कर रहे हैं. अब पूरे मामले में पीड़िता की मां का बयान सामने आया है. उन्होंने सोशल मीडिया इंस्टाग्राम पर एक लंबा चौड़ा पोस्ट लिखा है.

एक लंबे नोट में पीड़िता की मां ने लिखा, "कई लोग फोन कर रहे हैं और मुझे मीडिया में आकर बोलने के लिए कह रहे हैं. मेरी चुप्पी को मेरी कमजोरी नहीं समझना चाहिए. न्यायपालिका में मेरे सम्मान और विश्वास ने मुझे यह कदम उठाने के लिए प्रेरित किया है."

उन्होंने आगे लिखा, कई लोगों ने सार्वजनिक रूप से मेरा और मेरी बेटी का मजाक उड़ाया, जिसकी अनुमति कानून नहीं देता. सार्वजनिक रूप से पीड़िता का नाम उजागर करना एक अपराध है. मैंने चुप रहना चुना क्योंकि मैं मामले में शिकायतकर्ता नहीं हूं. जो सच है वह जल्द सामने आएगा. मामला विचाराधीन है और इसलिए मैं किसी से बात नहीं कर रही हूं क्योंकि हिरासत का मामला ईकोर्ट में लंबित है. यह मेरा सभी से विनम्र अनुरोध है कि कृपया कानूनी प्रणाली का मजाक न बनाएं क्योंकि मैंने संबंधित अधिकारियों को अपना बयान दिया है. जीत सच्चाई की ही होगी."

हालांकि इसके बाद पर्ल वी पुरी के फैंस उन्हें याद दिला रहे हैं कि वो जेल में हैं और उनका परिवार घबरा रहा है. बता दें कि वो आगरा से हैं और शहर में उनका कोई परिवार नहीं है. दिव्या खोसला कुमार ने पीड़िता की मां से पूछा, ''पर्ल ने हाल ही में अपने पिता को खो दिया, उसकी मां कैंसर की मरीज है... उसकी मदद करने वाला कोई नहीं है...वह मुझे बार-बार रोते हुए बुला रही है... उसे सलाखों के पीछे डाल दिया गया है.'

उन्होंने आगे लिखा, बलात्कार के मामले में इतनी कड़ी धाराओं के तहत उनकी जमानत नहीं हो पा रही है...कोविड और छुट्टियों के कारण हाई कोर्ट बंद है...इस बीच अगर उनकी मां को कुछ हो जाता है तो हम किसे जिम्मेदार ठहराएं???? कानून अपना समय लेगा... आपके पास पर्याप्त समय है ...क्या आपको पूरे मामले की संवेदनशीलता का एहसास है?"

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें