1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. uttar pradesh corona news noida corona update after the death of a corona patient the private hospital gave the family a bill of 14 lakhs a guarantee written on stamp paper know the case

कोरोना मरीज की मौत के बाद प्राइवेट अस्पताल ने परिवार को थमाया 14 लाख का बिल, स्टाम्प पेपर पर लिखवाई गारंटी, जानें मामला...

By ThakurShaktilochan Sandilya
Updated Date
प्रतिकात्मक फोटो
प्रतिकात्मक फोटो
pti photo

नोएडा के एक प्राइवेट अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीज की मौत होने के बाद उसके परिवार को लाखों का बिल थमाने का मामला सामने आया है. दरअसल नोएडा के एक निजी अस्पताल में कोरोना से संक्रमित नोएडा के एक निवासी की इलाज के दौरान अस्पताल में ही मौत हो गई. परिवारजनों के अनुसार, मरीज 7 जून को अस्पताल में भर्ती हुए थे. जहां 15 दिनों तक उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था.

10 रूपए के कानूनी स्टाम्प पर आश्वासन लिखवाया 

मृतक के परिवारजनों का आरोप है कि अस्पताल ने उन्हें मनमाना बिल थमाया है. मिली जानकारी के अनुसार, अस्पताल ने मृतक के शव को ले जाने से पहले उनके परिवारजनों को कुल 14 लाख से अधिक का बिल थमा दिया.और इसे चुकता करने के बाद ही शव ले जाने की बात कही. परिवारजनों ने इस मोटे रकम को चुकता करने में असमर्थता जताई. जिसके बाद इंश्योरेंस के 4 लाख रूपए एडजस्ट किए जाने के बाद भी 10 लाख से अधिक की राशि शेष बची. परिवारजनों ने 25000 रुपए ही जमा कर पाने की बात कही. जिसके बाद उनसे 10 रूपए के कानूनी स्टाम्प पर आश्वासन लिखाने के बाद ही शव को परिवार के हवाले किया गया.

जिला प्रशासन ने इस मामले में हस्तक्षेप किया

वहीं इस मामले का सामने आने के बाद गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन ने इस मामले में हस्तक्षेप किया है. जिलाधिकारी ने मामले की जांच करने की बात कही है. उनके अनुसार, सरकार ने कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए प्राइवेट अस्पतालों को अधिकतम राशि का पैमाना भी तय किया है. जिलाधिकारी ने बताया कि यहां आइसीयू में दस हजार और वेंटिलेटर के लिए अतिरिक्त पांच हजार रुपए का शुल्क तय किया गया है.

अस्पताल प्रशासन का दावा 

वहीं अस्पताल प्रशासन का कहना है कि मरीज के परिजनों को मरीज की हालत और आने वाले खर्च दोनों से पहले ही अवगत करा दिया गया था.अस्पताल का दावा है कि मामले की सारी जानकारी और डिटेल CMO को भेज दिया गया है. जबकि दावा यह भी किया जा रहा है कि इलाज के नाम पर कोई गलत शुल्क नहीं लिया गया है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें