27.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

संसार में जिसका आरंभ, उसका अंत भी : आचार्य विकासानंद

आनंद पूर्णिमा धर्म महासम्मेलन का दूसरा दिन, कलाकारों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की दी प्रस्तुति

बोकारो. आनंद मार्ग प्रचारक संघ की ओर से आयोजित आनंद पूर्णिमा धर्म महासम्मेलन का दूसरा दिन शनिवार को आनंद नगर पुरुलिया में भक्तिमय माहौल में शुरू हुआ. शुरुआत प्रभात संगीत, बाबा नाम केवलम अखंड कीर्तन और सामूहिक ध्यान से हुई. मार्ग गुरु प्रतिनिधि, आचार्य विकासानंद अवधूत ने श्री श्री आनंदमूर्ति जी के मन दर्शन पर आध्यात्मिक प्रवचन दिया. आचार्य ने कहा कि किसी विशेष वस्तु का थोड़े समय तक आनंद लेने के बाद मन दूसरी वस्तु की ओर मुड़ना चाहता है. लेकिन संसार में जिसका आरंभ है, उसका अंत भी होता है. इसलिए किसी वस्तु का आप आनंद हमेशा नहीं उठा पाएंगे. मौत के लंबे हाथ उसे अवश्य छीन लेंगे. लोग इस बात को समझ नहीं पाते हैं. वे उन चीजों को सुखद मानते हैं जो कुछ समय तक उनके दिमाग में रहती हैं या जिनका वे धीरे-धीरे आनंद लेते हैं. उन्होंने कहा कि वह सूक्ष्म इकाई जिसके साथ हम हमेशा जुड़े रहते हैं, वह मन है. मन का आधार वह है जिसका हम चिंतन करते हैं, जिनको स्वीकार करते हैं या जिनका त्याग कर दिया गया है. ये वस्तुएं अपनी मूल अवस्था में बाहरी भौतिक वस्तुएं होती हैं. लेकिन इन वस्तुओं का मन पर आंतरिक प्रभाव पड़ता है. मन मानसिक रूप में ही आनंद लेता है. वहीं, संघ की सांस्कृतिक शाखा, पुनर्जागरण कलाकार और लेखक संघ (रावा) ने प्रभात संगीत पर आधारित सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया. मौके पर केंद्रीय जनसंपर्क सचिव आचार्य दिव्यचेतनानंद अवधूत व अन्य आनंदमार्गी मौजूद थे.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें