32.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

झारखंड में 1,28,900 करोड़ का बजट पेश, वित्त मंत्री बोले- हमारे पांव जमीन पर मजबूती से टिके हैं…

झारखंड की चंपाई सोरेन सरकार ने मंगलवार (27 फरवरी) को विधानसभा में 1,28,900 करोड़ रुपए का बजट पेश किया. वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने बजट भाषण की शुरुआत एक कविता से की. इस कविता में उन्होंने पिछले चार साल की स्थिति का जिक्र किया.

झारखंड की चंपाई सोरेन सरकार ने मंगलवार (27 फरवरी) को विधानसभा में 1,28,900 करोड़ रुपए का बजट पेश किया. वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने झारखंड सरकार बजट भाषण की शुरुआत एक कविता से की. इस कविता में उन्होंने पिछले चार साल की स्थिति का जिक्र किया. इसके बाद वित्तीय संकल्पना के बारे में सदन को बताते हुए कहा, ‘हमारे पांव जमीन पर हैं मजबूती से टिके हैं और विकास के आसमान को छूने का हौसला भी हम रखते हैं.’

झारखंड बजट का आकार 8.5 फीसदी बढ़ा

वित्त मंत्री ने वर्ष 2024-25 के लिए 1,28,900 करोड़ रुपए का बजट सदन में प्रस्तुत किया, जो पिछले वर्ष की तुलना में 8.5 प्रतिशत अधिक है. पिछले साल सरकार ने 91,832 करोड़ रुपए का बजट पेश किया था. वित्त मंत्री ने 9 फीसदी वृद्धि के साथ 37,068 करोड़ रुपए पूंजीगत व्यय का प्रस्ताव किया है.

Also Read : झारखंड बजट में किसानों के लिए बड़ी वित्त मंत्री ने की बड़ी घोषणा, अब 2 लाख तक के कर्ज होंगे माफ

टैक्स से सरकार ने कमाए 34,200 रुपए

वित्त मंत्री ने झारखंड सरकार की कमाई के स्रोतों के बारे में भी विधानसभा को जानकारी दी. उन्होंने कहा कि सरकार को टैक्स से 34,200 करोड़ रुपए की कमाई हुई, जबकि 19,301 करोड़ रुपए नॉन-टैक्स से मिले. केंद्रीय सहायता के रूप में उन्हें 16,961 करोड़ रुपए की प्राप्ति हुई. सेंट्रल टैक्सेज में राज्य की हिस्सेदारी के रूप में झारखंड सरकार को 40,338 करोड़ रुपए मिले. उन्होंने कहा है कि लोक ऋण से 18,000 करोड़ रुपए और उधार एवं अग्रिम वसूली से 100 करोड़ रुपए मिलने का अनुमान है.

राजकोषीय घाटा 9,500 करोड़ रहने का अनुमान

डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि वर्ष 2024-25 में राजकोषीय घाटा 9,500 करोड़ रुपए रहने का अनुमान है, जो अनुमानित जीएसडीपी का 2.02 फीसदी है. उन्होंने कहा कि राज्य का आर्थिक विकास दर 9.8 फीसदी रहने का अनुमान है. इतना ही नहीं, वित्त मंत्री ने कहा कि वर्ष 2030 तक झारखंड को 10 ट्रिलियन रुपए की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य है. वर्ष 2022-23 में झारखंड का जीएसडीपी 4 ट्रिलियन (3,93,722 करोड़ रुपए) रहा.

Also Read : झारखंड : बजट सत्र से विपक्ष का वाकआउट, बाबूलाल मरांडी बोले- लूट का सूट वाला बजट

मजबूत अर्थव्यवस्था बनने के सभी कारक झारखंड में मौजूद

वित्त मंत्री ने कहा कि बड़ी जीएसडीपी सुनिश्चित करने के सभी कारक झारखंड में मौजूद हैं. हमारा प्रदेश संसाधन संपन्न राज्य है. देश का लगभग 40 प्रतिशत खनिज भंडार यहां है. 30 फीसदी भाग वन से आच्छादित है. यह कई मूल्यवान लघु वन उत्पादों का स्रोत है. पर्यटकों की रुचि के कई स्थल हैं. हमारे राज्य में प्राकृतिक, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और धार्मिक पर्यटन केंद्र बनने की क्षमता है. इसे विकसित करके अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकता है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें