1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. woman was crushed by a speeding school bus villagers protested and jammed nh 98 for 2 hours

Bihar News: महिला को तेज रफ्तार स्कूल बस ने कुचला, ग्रामीणों का उग्र प्रदर्शन, 2 घंटे तक जाम किया NH-98

फुलवारीशरीफ़ के जानीपुर थाना के नकटी भवानी के पास सड़क पार कर रही एक महिला को बस ने कुचल डाला. घटना के बाद लोगों ने मुआवजा की मांग को लेकर सड़क जाम कर दिया. मौके पर पुलिस ने पहुंच कर लोगों को समझा जाम हटाया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
प्रदर्शन करते ग्रामीण
प्रदर्शन करते ग्रामीण
प्रभात खबर

फुलवारीशरीफ़ के जानीपुर थाना के नकटी भवानी के पास सड़क पार कर रही एक महिला को बस ने कुचल डाला. महिला की मौत घटना स्थल पर ही हो गई. मरने वाली की पहचान चक मुसा निवासी राज कुमार साव की पत्नी सुजाता देवी के रूप में हुई. घटना के बाद लोगों ने मुआवजा की मांग को लेकर सड़क जाम कर दिया. मौके पर पुलिस ने पहुंच कर लोगों को समझा जाम हटाया.

चालक बस लेकर फरार

घटना के बारे में बताया जाता है कि चकमुसा निवासी राज कुमार साव की पत्नी सुजाता देवी नकटी भवानी से आ रही थी. वह सड़क पार कर रही थी तभी एक स्कूल बस ने उसे अपने चपेट में ले लिया. महिला की मौत के बाद चालक बस लेकर फरार हो गया. लोगों ने यह दृश्य देखा तब वह सड़क पर उतर गये और जाम लगा दिया. जाम की खबर पा कर थानाध्यक्ष उत्तम कुमार मौके पर पहुंचे और किसी प्रकार लोगों को समझा कर जाम हटा यातायात चालू कराया.

शौच के लिए खेतो में जा रही थी महिला 

जानकारी के मुताबिक चकमूसा के राजकुमार राय की पत्नी सुजाता देवी गुरुवार की सुबह सड़क पार करके शौच के लिए खेतो में जा रही थी. इसी क्रम में तेज रफ्तार से आ रही एक स्कूल बस ने उसे कुचल दिया. बताया जाता है कि जिस स्कूल की बस ने हादसे को अंजाम दिया है वह स्कूल वाल्मी के पास अवस्थित है. घटना को अंजाम देने के बाद स्कूल बस तेजी से वहां से भाग निकला. सूचना मिलते ही चक मूसा गांव के लोग घटनास्थल पर जमा हुए और इसकी सूचना जानीपुर थाने को दी.

मौके पर जिला परिषद सदस्य दीपक कुमार मांझी भी पहुंचे

वही घटनास्थल पर शव को रख कर ग्रामीणों ने सड़क जाम कर दिया करीब 2 घंटे बाद स्थानीय पुलिस और स्थानीय लोगों की मदद से आक्रोशित परिजनों और अन्य ग्रामीणों को समझाने बुझाने में कामयाब हुई. वही मौके पर जिला परिषद सदस्य दीपक कुमार मांझी भी पहुंचे और शोक संतप्त परिवार वालों को समझा बुझाकर सरकारी मुआवजा दिलवाने में मदद का भरोसा दिलाया. बातचीत के क्रम में ग्रामीणों ने बताया कि राजकुमार साव ठेला चला कर अपने और अपने पांच बच्चों का भरण पोषण करता है.

परिवार वालों के तरफ से किसी तरह की कोई लिखित आवेदन नहीं

बताया जाता है कि काफी रसूखदार शख्स का निजी स्कूल है जिसने दुर्घटना को अंजाम दिया है. हादसे के बाद स्थानीय लोगों के बीच स्कूल संचालक के द्वारा समझौते का प्रयास भी शुरू हो गया. उधर जानीपुर थाना अध्यक्ष उत्तम कुमार से बात करने पर उन्होंने बताया कि अभी तक परिवार वालों के तरफ से किसी तरह की कोई लिखित आवेदन नहीं दी गई है. उन्होंने बताया कि लिखित आवेदन के बाद पुलिस मामले में कार्रवाई करेगी.

घर में शौचालय होता तो बच जाती जान 

ग्रामीणों का कहना है कि अगर ठेला चालक राजकुमार राय के घर में शौचालय बना हुआ रहता तो उसकी पत्नी सुजाता देवी की जान शौच करने बाहर जाने के दौरान नहीं होती. ग्रामीणों का कहना है कि सरकारी फाइलों में भले ही ओडीएफ दिखा दिया जाता है लेकिन हकीकत जमीन पर देखने पर ही पता चलता है कि ग्रामीण इलाकों में आज भी महिलाएं सड़क किनारे शौच करने को मजबूर हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें