24.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

पटना नगर निगम का सर्वर डाउन हाेने से किसी का पैसा फंसा तो किसी की रसीद

होल्डिंग टैक्स रिबेट के अंतिम दिन 30 जून को ऑनलाइन हाेल्डिंग टैक्स जमा करने वालों की भीड़ इतनी बढ़ी कि पटना नगर निगम का सर्वर डाउन लगा.

संवाददाता, पटना होल्डिंग टैक्स रिबेट के अंतिम दिन 30 जून को ऑनलाइन हाेल्डिंग टैक्स जमा करने वालों की भीड़ इतनी बढ़ी कि पटना नगर निगम का सर्वर डाउन लगा. इससे रविवार से सोमवार तक ऑनलाइन होल्डिंग टैक्स जमा करने वालों की फजीहत रही. एक तो उन्हें घंटों लाइन में लगना पड़ा, दूसरी ओर भुगतान के समय कई के पैसे भी फंस गये. कुछ ऐसे भी लोग ,थे जिन्होंने लंबे इंतजार और कई बार प्रयास के बाद टैक्स का भुगतान तो कर दिया, लेकिन उनकी रसीद फंस गयी. नूतन राजधानी अंचल के टैक्स काउंटर पर एक-एक बिल को जमा करने में आधे से एक घंटा तक का समय लग रहा था और लाइन में लोग तीन-चार घंटे तक इंतजार करते रहे़ पाटलिपुत्र अंचल और नगर निगम के चार अन्य अंचलों में भी कमोबेश ऐसी ही स्थिति रविवार देर रात तक दिखी. एक दिन में दो हजार लोगों ने जमा किया टैक्स : रविवार की सुबह से देर रात तक लगभग दो हजार लोगों ने पटना नगर निगम के विभिन्न अंचलों में होल्डिंग टैक्स जमा किया, जबकि आम दिनों में यह संख्या 500 से 700 के बीच रहती है. हर अंचल में इसके लिए दो-दो काउंटर लगाये गये थे. आइटी की टीम को भी मदद के लिए बुलाया गया था. इसके बावजूद सर्वर की क्षमता जरूरत से कम होने से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी. पटना नगर निगम ने जब वेबसाइट बनायी थी और सर्वर लिया था, उस समय ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन टैक्स संग्रह भी प्रचलित था. लेकिन अब पूरी तरह ऑनलाइन भुगतान की व्यवस्था है. जो नगर निगम के काउंटर पर ऑफलाइन भुगतान के लिए आते हैं, उनका टैक्स भी काउंटरकर्मी ऑनलाइन लेकर ही उन्हें रसीद देता है. अपने पोर्टल के साथ यूपीआइ, क्यूआर कोड, कियोस्क मशीन आदि के माध्यम से भी नगर निगम ऑनलाइन टैक्स ले रहा है. ऐसे में सर्वर पर लोड बहुत बढ़ गया है. बाद में एडजेस्ट होगा फंसा पैसा : ऑनलाइन टैक्स भुगतान के दौरान जिन लोगो का पैसा फंस गया, वह बाद में नगर निगम के खाता में पहुंच जाने पर नगर निगम उसे उनके बकाया टैक्स की राशि में एडजेस्ट कर देगा. यदि दोबारा भुगतान हो गया तो उसे आगे एडजेस्ट किया जायेगा. 15 अगस्त तक संपत्ति कर मूल्यांकन नहीं होने पर 100% जुर्माना अनुपम कुमार, पटना नगर आयुक्त अनिमेष कुमार पराशर ने कहा कि जिन लोगों ने अब तक अपने संपत्ति कर का मूल्यांकन नहीं करवाया है, वे 15 अगस्त तक करवा लें, नहीं तो नगर निगम की टीम उनका खुद मूल्यांकन करेगी और 100 प्रतिशत जुर्माना भी लगायेगी. उन्होंने कहा कि अब 15 अगस्त के बाद नगर निगम की टीम इस कार्य पर पूरा ध्यान लगायेगी और इसके लिए अलग-अलग मुहल्लों में धूमेगी. उन्होंने कहा कि बीते वर्ष एक अप्रैल से 30 जून के बीच 1.09 लाख लोगों ने कर चुकाया था व इससे नगर निगम को 42 करोड़ रुपये का राजस्व मिला था, जबकि इस वर्ष एक अप्रैल से 30 जून तक लगभग 51 करोड़ रुपये राजस्व प्राप्त हो चुका है. बीते वर्ष की तुलना में इस वर्ष की प्रथम तिमाही में 37 हजार लोगों ने नौ करोड़ अधिक संपत्ति कर जमा किया. स्मार्ट मीटर की बढ़ती संख्या से सर्वर नहीं उठा पा रहा लोड, फिर हुआ फेल पटना . राजधानी में स्मार्ट मीटर में नॉन कम्युनिकेशन की समस्या फिर से शुरू हो गयी है. बिजली उपभोक्ताओं का कहना है कि चार दिनों से सुविधा एप पर बैलेंस अपडेट नहीं मिल रहा या डाटा अमान्य बता रहा है. कई उपभोक्ताओं ने तो सुविधा एप पर पैसा भी नहीं कटने की बात भी बतायी है. उपभोक्ताओं को डर सता रहा है कि सर्वर के वापस आते ही कहीं बैलेंस माइनस में नहीं चला जाये. पेसू के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में स्मार्ट मीटर की बढ़ती संख्या के कारण सर्वर लोड नहीं उठा पा रहा है. परेशानी के कारण शहर के 30 बिजली उपकेंद्रों में उपभोक्ता चक्कर काट रहे हैं. शहर के दोनों अंचलों में करीब 25 हजार उपभोक्ता फिलहाल इस तकलीफ को झेल रहे हैं. प्रदेश में स्मार्ट मीटर लगाने वाली कंपनी इडीएफ ने स्मार्ट मीटर आउट ऑफ सर्वर होने के मामले में कहा कि तीन जुलाई तक इसमें सुधार हो जायेगा. शहर में 5 लाख 55 हजार 284 स्मार्ट मीटर उपभोक्ता हैं. 20 दिन स्मार्ट मीटर रहा आउट ऑफ नेटवर्कदो महीने में स्मार्ट मीटर आउट ऑफ नेटवर्क होने की शिकायत दूसरी बार हुई है. इससे पहले 2 मई से 21 मई तक सर्वर नहीं होने के कारण एप पर डाटा अपडेट होने में समस्या आ रही थी. 22 मई को सर्वर बहाल होते ही शहर के 5 लाख 55 हजार 284 उपभोक्ताओं में आधे से अधिक उपभोक्ताओं का स्मार्ट मीटर का बैलेंस माइनस में चला गया था. कुछ दिनों से सिस्टम बैकअप का काम किया जा रहा है, जिसके कारण सर्वर से संबंधित समस्या उत्पन्न हो रही है. जल्द ही नेटवर्क संबंधित समस्या का समाधान कर लिया जायेगा.

– भुपेंद्र, सहायक अभियंता

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें