जल बना जंजाल : सड़क पर उतरे जलजमाव से पीड़ित लोग, न्यू बाइपास को किया जाम, पुलिस रही लाचार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : राजधानी के अधिकतर इलाकों से बारिश के पानी निकाल लिया गया है. लेकिन, न्यू बाइपास के दक्षिण दर्जनों मुहल्लों में पिछले 13 दिनों से लगातार जलजमाव की समस्या बनी हुई है. जलजमाव से पीड़ित सैकड़ों लोगों ने गुरुवार को न्यू बाइपास पर उतरे और सड़क जाम कर प्रदर्शन किया. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने टायर भी जलाया और सरकार और जिला व निगम प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की.

सड़क जाम की सूचना पर पटना पुलिस पहुंची. लेकिन, लोगों की भीड़ के सामने लाचार दिखी. करीब ढाई घंटे तक न्यू बाइपास के दोनों लेन बंद किया, जिससे ट्रैफिक व्यवस्था ध्वस्त हो गयी. सड़क के दोनों ओर गाड़ियों की लंबी लाइन लग गयी थी.
डेंगू, डायरिया व महामारी फैलने की है आशंका : न्यू बाइपास के दक्षिण नंदलाल छपरा, चमन चक, खेमनी चक, सुभाष नगर, सोरमपुर, लालू पथ, घाना कॉलोनी, एनटीपीसी कॉलोनी, पूर्वी रामकृष्णा नगर, सिद्धि विनायक नगर, न्यू जगनपुरा आदि इलाका है, जहां सामान्य रूप से एक से तीन फुट तक पानी जमा है. पानी काला होकर बदबू देने लगा है. प्रदर्शनकारी सुभाष, अशोक यादव, आदित्य कुमार ने बताया कि निगम व जिला प्रशासन को फोन करते-करते थक गये.
एपुनपुन का जल स्तर कम हुआ, तो खोल दी गयी बादशाही पइन,
बंद करने से था जलजमाव
दक्षिणी इलाके से बारिश के पानी बादशाही पइन व ज्ञान गंगा भवन के समीप के नाले से होकर निकलता है. लेकिन, दोनों नाले को बंद कर दिया गया. स्थिति यह हुआ कि पूर्वी-पश्चिमी लक्ष्मी नगर, सुभाष नगर, एनएसएसओ कॉलोनी, बैंक कॉलोनी, शुभकामना कॉलोनी आदि इलाकों में पानी का स्तर बढ़ने लगा और लोग जलजमाव की समस्या से परेशान होने लगे. हालांकि, पुनपुन नदी का जल स्तर घटा है, तो गुरुवार से बंद बादशाही पइन को खोल दिया गया है, जिससे पानी निकल रहा है. हालांकि इसकी रफ्तार काफी धीमी है.
पानी की वजह से कक्षा में नहीं पहुंच रहे स्कूली बच्चे
जगनपुरा मेन रोड पर स्थित सरकारी प्राथमिक स्कूल, जिसके कैंपस के साथ साथ चारों ओर पानी जमा है. जलजमाव की वजह से बच्चे स्कूल आना बंद कर दिया है. वहीं, शिक्षक भी पानी की वजह से स्कूल कैंपस में नहीं पहुंच रहे है.
स्थिति यह है कि शिक्षक स्कूल में जाने के बदले बाहर बैठे रहे. वार्ड संख्या 32 व 40 के पार्षद पिंकी यादव व माला सिन्हा कहती है कि एक डी-वाटरिंग मशीन भूतनाथ रोड के समीप लगाया गया है, जो पर्याप्त नहीं है. निगम प्रशासन पानी निकालने को लेकर नजर अंदाज कर रहे है.
घरों से निकलना मुश्किल
दक्षिणी इलाके में 70 फीट रोड पर स्थित आदर्श नगर, जहां एक से डेढ़ फुट पानी जमा है. नाला व बारिश के पानी एक हो गया है. स्थिति यह है कि 13 दिनों से मुहल्ले में जमा पानी काला हो गया है. इस स्थिति में लोगों को घरों से निकलना मुश्किल हो गया है. खासकर, स्कूल खुलने के बाद स्कूली बच्चों को परेशानी ज्यादा बढ़ गयी है. बच्चे काला पानी से होकर स्कूल जाने व आने को मजबूर है. इसके बावजूद पानी निकालने की प्रक्रिया शुरू नहीं किया गया है.
करीब पांच घंटे तक रहा जाम
प्रदर्शन को देखते हुए मौके पर पत्रकार नगर कंकड़बाग जक्कनपुर गोपालपुर समेत कई थानों की पुलिस पहुंची. बारिश के 12 दिन बाद भी जलजमाव का दंश झेल रहे लोगों का कहना था कि नगर व जिला प्रशासन मदद नहीं कर रहा है.
लोगों ने मांग की कि पटना नगर निगम की मेयर और डीएम खुद आकर मुआयना करें और समस्या का निदान करें. पांच घंटे तक बाइपास जाम रहने से सैकड़ों वाहन जहां-तहां फंसे रहे. दोपहर बाद पटना की एसडीएम कुमारी अनुपम मौके पर पहुंचीं और तुरंत कार्य शुरू किये जाने का आश्वासन देकर सड़क जाम समाप्त कराया.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें