गेट तोड़ते रहे उग्र ग्रामीण, मूकदर्शक बनी रही पुलिस

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बक्सर/नावानगर : ट्रक-बाइक की सीधी टक्कर में हुई युवक की मौत के बाद ग्रामीणों ने नावानगर थाने पर जमकर बवाल काटा. ग्रामीण इतने उग्र थे कि पुलिस उनकी उग्रता देख दुबकी रही. इस दौरान आक्रोशित लोग नावानगर थाना की गेट तोड़ने लगे. इसे लेकर थाना क्षेत्र कई घंटे रणक्षेत्र में तब्दील रहा.

पुलिस गेट टूटता देख रही थी, लेकिन उसकी इतनी हिम्मत नहीं थी कि वह ग्रामीणों के खिलाफ कोई कार्रवाई कर सके. करीब एक घंटे के बाद किसी तरह से पुलिस वाले ग्रामीणों के सामने आये. पुलिस वालों को देखते ही ग्रामीण जोर-जोर से गेट को तोड़ने की कोशिश करने लगे.
ग्रामीणों के उग्र रूप को देखकर पुलिस फिर दुबक गयी. जब गेट नहीं टूटा तो ग्रामीणों ने थाने के सामने ही टायर जलाकर मुआवजे की मांग और थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे. घटना की सूचना मिलते ही वासुदेवा ओपी, सोनवर्षा ओपी, सिकरौल थाना की पुलिस मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाने में जुट गयी. जब ग्रामीण किसी भी पुलिस वाले की बात सुनने को तैयार नहीं थे तब पुलिस ने इसकी सूचना अपने वरीय अधिकारियों को दिया.
सूचना मिलते ही डुमरांव एसडीपीओ केके सिंह, डुमरांव एसडीओ हरेंद्र कुमार, बीडीओ और सीओ मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को समझाने में जुट गये. अधिकारियों को देखते ही ग्रामीण उग्र होना चाहे, लेकिन अधिकारियों ने किसी तरह से सभी को बातों में उलझाकर मामले को शांत कर लिया. साथ ही उनकी जितने भी मांगे थीं, उन्हें पूरा करने का आश्वासन दिया.
वही बीडीओ की तरफ से पारिवारिक योजना के तहत मृतक के पिता को बीस हजार रुपये का चेक प्रदान किया. साथ ही आपदा से चार लाख रुपये देने का भी आश्वासन दिया. वहीं मांग पूरा होने के बाद भी ग्रामीण अड़े रहे. जब ग्रामीण सड़क से नहीं हटे तो अधिकारियों ने पुलिस को बल प्रयोग करने का आदेश दिया. जैसे ही पुलिस वालों ने लाठियां भाजनी शुरू किया तो सभी लोग भागने निकले.
सड़क दुर्घटना में दो लोग हुए जख्मी
नावानगर. डुमरांव विक्रमगंज पथ पर रूपसागर गांव के पास बुधवार को सड़क दुर्घटना में दो युवक बुरी तरह से घायल हो गये. घायल युवकों को ग्रामीणों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नावानगर में भर्ती कराया.
घायलों की गंभीर स्थिति को देखते हुये चिकित्सक ने उन्हें बेहतर इलाज के लिये आरा रेफर कर दिया. जानकारी के अनुसार सिकरौल थाना के गडहिया गांव निवासी नारायण यादव और रामजी सिंह मालियाबाग से पिपरमेंट का बियडी लेकर अपने गांव जा रहे थे. इसी दौरान अनियंत्रित होकर बाइक पलट गयी, जिसमें नारायण यादव और रामजी सिंह बुरी तरह से घायल हो गये.
पांच घंटे तक जाम रहा डुमरांव-बिक्रमगंज पथ
नावानगर में ट्रक-बाइक की सीधी भिड़त में युवक की मौत के बाद ग्रामीणों ने नावानगर थानाध्यक्ष जुनैद आलम को हटाने की मांग को लेकर करीब पांच घंटे तक डुमरांव-बिक्रमगंज पथ को जाम कर दिया. साथ ही उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग पर अड़े रहे. ग्रामीणों ने बताया कि घटना के बाद नावानगर थाने की पुलिस को सूचना दी गयी थी.
लेकिन पुलिस के द्वारा किसी प्रकार की कार्रवाई ट्रक के खिलाफ नहीं की गयी. साथ ही ट्रक को छोड़ दिया. ग्रामीणों की माने तो नावानगर थानाध्यक्ष ने ट्रकचालक से पैसे लेकर ट्रक छोड़ा है. वहीं मृतक के पिता छोटक महतो ने नावानगर थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर एक ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारियों को सौंपा. जिसे अधिकारियों ने गंभीरता से लेते हुए थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें