1. home Hindi News
  2. religion
  3. national youth day celebrated on january 12 of every year get the latest news swami vivekananda birthday 2021 updates what did the youth of jharkhand say on education in prabhat khabars webinar grj

National Youth Day 2021 : राष्ट्रीय युवा दिवस पर प्रभात खबर के वेबिनार में शिक्षा पर क्या बोले झारखंड के युवा

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
National Youth Day 2021 : राष्ट्रीय युवा दिवस पर प्रभात खबर के वेबिनार में युवाओं ने शिक्षा पर रखे विचार
National Youth Day 2021 : राष्ट्रीय युवा दिवस पर प्रभात खबर के वेबिनार में युवाओं ने शिक्षा पर रखे विचार
Prabhat Khabar Graphics

National Youth Day 2021, Yuwa Divas, Ranchi News, रांची : आज के युवाओं को अपने अंदर लीडरशिप क्वालिटी लाने की जरूरत है, ताकि मौका मिलने पर सभी खुद को साबित कर सकें. ये बातें राष्ट्रीय युवा दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित प्रभात खबर के वेबिनार में युवाओं ने कही. सबने स्वामी विवेकानंद के विचारों को जीवन में लाने का संकल्प लिया. युवाओं ने कहा कि किसी भी स्तर पर शिक्षा ऐसी होनी चाहिए, जिससे उन्हें संस्कार मिले और उनका सर्वांगीण विकास हो सके. दिखावे की शिक्षा की जरूरत नहीं, बल्कि शिक्षा ऐसी हो जो देश के लिए काम आ सके. वेबिनार में युवाओं ने स्वामी विवेकानंद के विचार को बढ़ावा देने के साथ उनके आदर्शों को अपना कर राष्ट्र के विकास में सहयोग की भावना जागृत करने पर बल दिया. कार्यक्रम का संचालन खुशबू ने किया.

राहुल बाजपेयी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने कहा है कि युवाओं में सोचने का नजरिया अलग है. हमें स्वामी विवेकानंद के जीवन जीवन काल से काफी कुछ सीखने की जरूरत है, जिन्होंने दुनियाभर में अपने विचारों को एक मुकाम दिया. आज के दौर में युवाओं को अपने अंदर लीडरशिप क्वालिटी लाने की जरूरत है, ताकि मौका मिलने पर वे खुद को साबित कर सकें.

प्रतीक सौरभ ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और उनके विचारों को फॉलो नहीं कर रही है. अगर उनके जीवन के सफर को देखें, तो जीवन में हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है. हालांकि आज के युवा इस चीज को नहीं समझ रहे हैं. सभी कम समय में आगे बढ़ने की कोशिश करने में जुटे हुए हैं. युवाओं को खुद पर भरोसा रखने की जरूरत है.

सैकत माजी ने कहा कि आज के युवा रोल मॉडल का चुनाव सही से करें. विवेकानंद जी ने हमेशा कहा है कि डर से भागना नहीं है, बल्कि डर से लड़कर जीतना है. मैं स्वामीजी की इस बात से हमेशा सहमत हूं कि उठो जागो और तब तक न रूको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो. इसलिए चुनौतियों से घबराये नहीं, बल्कि उसका सामना करने की जरूरत है.

गोपाल पाठक ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने अपने जीवन काल ने लोगों को बार-बार सोचने पर विवश किया. 21वीं सदी में भी शिक्षा के क्षेत्र में विश्व में हम पीछे हैं. इस पर सभी को विचार करने की जरूरत है कि हमें वैसी शिक्षा चाहिए, जिससे संस्कार मिले और सर्वांगीण विकास हो सके. देश के लिए कुछ कर सकें. दिखावेवाली शिक्षा की जरूरत नहीं है.

पार्थ बनर्जी ने कहा कि युवाओं को स्वामी विवेकानंद से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ते रहना चाहिए़ यह देश के विकास के लिए जरूरी है. स्वामी विवेकानंद के जीवन से जुड़ी बातों से सीख लेने की जरूरत है, ताकि युवा पीढ़ी सही मार्ग पर चल सके. जोश, हिम्मत और विवेक से जीवन में आगे बढ़ें. देश के विकास में अपना योगदान दें.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें