मदर्स डे पर अनुज लुगुन की कविता - ''मेरी माँ, मैं और भेड़िये''

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

उसके दरवाजे हमेशा जंगल की ओर खुलते रहे

और वह बीहड़ों में चलती रही

भेड़ियों की पदचाप

सबसे पहले वही सुनती है आज भी

इसी तरह कई दशकों से वह हमें सहेज रही है

नक्सलबाड़ी के ठीक समय उसका जन्म हुआ होगा

उसकी माँ एक दिन दूसरी शादी करके चली गई

वह एक पके फल की तरह धरती पर नहीं गिरी

लेकिन वह गिरते हुए लोगों को देख रही थी

कुछ लालच में गिर रहे थे और कुछ गोली खाकर

उसने यह फर्क जान लिया था

और वह जंगलों में रायफल चलाना सीख आयी

कविता में यह बेतुकी बात हो सकती है कि

एक माँ रायफल चलाती है

लेकिन आलोचकों को यह बात स्वीकार करनी चाहिए

और उसके प्रतिमानों पर बहस करनी चाहिए

कि जब जंगल में भेड़ियों से घिरे हों उनके बच्चे

तो उनकी माँ को क्या करना चाहिए

और माँ ने वही किया जो एक माँ को करना चाहिए

वह भूमिगत हुई, वारंट निकले

लेकिन उसने समर्पण नहीं किया

बच्चों के लिए इससे ज्यादा और वह क्या कर सकती थी

वह हँड़िया बेचती थी और पीट आयी वसूली करनेवाले दरोगा को

वह मुर्गी बेचती थी और आँख तरेर आयी दबंगों को

उसके पास कुछ भी नहीं बचता था हाट से घर लौटते हुए

रोज रोज वह ऐसे ही किस्से सुनाती थी हम सबको

वह कुछ और दे भी नहीं सकती थी हमें इन किस्सों के सिवाय

पिज्जा, बर्गर, वीडियो गेम, टीवी - फीवी कौन जाने

वह तो गुरिल्ला थी और क्या दे सकता है एक गुरिल्ला अपनी जान के सिवाय

उसके दरवाजे आज भी जंगलों की तरफ खुलते हैं

और वह बीहड़ों में चलती है

माँ ऐसी ही होती हैं

वह न खुद बिकती है

न अपने बच्चों को बिकने देती है

न ही खेत, खलिहान और जंगलों को बिकने देती है।

(अनुज लुगुन 13/05/18)

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें