1. home Hindi News
  2. national
  3. power crisis in india due to shortage of coal congress attack on modi govt canceled trains amh

Power Crisis: कोयले की किल्लत से गहराया बिजली संकट, ट्रेनें कैंसिल, कांग्रेस ने उठाये सवाल

बिजलीघरों तक कोयला पहुंचाने के लिए रेलवे एक्शन में आ गया है. उसने 24 मई तक यात्री ट्रेनों के 670 फेरे रद्द किये जाने की अधिसूचना जारी की है. इनमें लंबी दूरी की मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों के 500 से अधिक फेरे शामिल हैं.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Coal Crisis,  Power Crisis
Coal Crisis, Power Crisis
PTI

देश के कई हिस्सों में गर्मी बढ़ने के साथ ही साथ बिजली संकट भी बढ़ता नजर आ रहा है. भीषण गर्मी के कारण बिजली की मांग बढ़ी है, लेकिन कोयला संकट की वजह से कई राज्यों को बिजली कटौती की जा रही है. पूरे उत्तर भारत और दक्षिण भारत के भी कई हिस्सों में एक तरफ गर्मी चरम पर है, तो दूसरी तरफ देश गहरे बिजली संकट से जूझ रहा है. उत्तर भारत में पारा 47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है.

बिजली की मांग रिकॉर्ड 204 गीगावॉट के पार

झुलसाती गर्मी का ही नतीजा है कि देश में पहली बार बिजली की मांग रिकॉर्ड 204 गीगावॉट के पार चली गयी है. पिछले साल इसी समय यह मांग 182.5 गीगावॉट रही थी. लगातार बढ़ती मांग को पूरा करने में बिजलीघर अक्षम साबित हो रहे हैं. देश के 173 तापीय बिजलीघरों में से 106 में कोयले की भारी कमी है. उनके पास तय स्टॉक का 25 प्रतिशत कोयला ही है. घरेलू कोयले का उपयोग करने वाले 150 तापीय बिजलीघरों में से 86 में कोयले की कमी की स्थिति गंभीर है. देश में बिजली की कुल कमी 62.3 करोड़ यूनिट तक पहुंच गयी है.

24 मई तक यात्री ट्रेनों के 670 फेरे रद्द

ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन ने दावा किया कि रेलवे मंत्रालय और विद्युत मंत्रालय के बीच तालमेल के अभाव से कोयले की कमी हुई है. इस बीच, बिजलीघरों तक कोयला पहुंचाने के लिए रेलवे एक्शन में आ गया है. उसने 24 मई तक यात्री ट्रेनों के 670 फेरे रद्द किये जाने की अधिसूचना जारी की है. इनमें लंबी दूरी की मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों के 500 से अधिक फेरे शामिल हैं. इन ट्रेनों के रद्द होने से कोयला लदी मालगाड़ियों (रेक) की संख्या बढ़ायी जा सकेगी. अभी रोजाना 400 से ज्यादा कोयला रेक का संचालन रेलवे कर रहा है.

कोयला उत्पादन बढ़ा

बढ़ती मांग के बीच सरकारी कंपनी कोल इंडिया का उत्पादन अप्रैल में 27 प्रतिशत बढ़ा है. उसने 28 दिनों में 4.96 करोड़ टन कोयला उत्पादन किया, जिसके महीने के अंत में 5.3 करोड़ टन पहुंचने की उम्मीद है. बीते कुछ सालों में यह अप्रैल का सर्वश्रेष्ठ उत्पादन होगा.

कांग्रेस ने पीएम से पूछा- 72,074 मेगावाट क्षमता के संयंत्र बंद क्यों

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बिजली संकट को लेकर प्रधानमंत्री से कई सवाल पूछे हैं. उन्होंने कहा- प्रधानमंत्री जवाब दें कि देश में 72,074 मेगावाट क्षमता के बिजली संयंत्र कोयले के अभाव में बंद क्यों हैं? बिजलीघरों में कोयले की मांग रोज 22 लाख टन है, तो आपूर्ति 16 लाख टन ही क्यों है? उन्होंने कहा कि देश में कोयला है, लेकिन सरकार उसे बिजली संयंत्रों तक पहुंचा नहीं पा रही है.

क्यों पैदा हुआ यह संकट

-बिजलीघरों में कोयले का भंडार नौ वर्षों में सबसे कम

-यूक्रेन-रूस युद्ध के कारण ऊर्जा की कीमतों में बढ़ोतरी

-सप्लाई चेन बाधित होने से कोयले के आयात में गिरावट

-कोयले की कमी से जूझ रहे बिजलीघर, रेलवे एक्शन में

-तेज गर्मी के बीच 62.3 करोड़ यूनिट बिजली की कमी

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें