1. home Hindi News
  2. national
  3. hrd ministry plans to increase seat capacity number of ioes as govt looks to stop brain drain ramesh pokhriyal nishank

शिक्षा मंत्री ने प्रमुख संस्थानों में सीट क्षमता को लेकर कह डाली ये बात, ब्रेन ड्रेन को रोकने के लिए सरकार करने जा रही है ये काम

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक
मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक
twitter

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र 2024 तक सभी प्रमुख संस्थानों में सीट क्षमता को 50% तक बढ़ाने की योजना बना रहा है.

मानव संसाधन विकास मंत्री ने शीर्ष अधिकारियों की बैठक ली और निर्देश दिया कि देश के संस्थानों में भारतीय छात्रों को बनाए रखने के बारे में सुझाव देने के लिए यूजीसी प्रमुख डी पी सिंह के तहत एक समिति का गठन किया जाए. पैनल एक पखवाड़े के भीतर अपनी रिपोर्ट देगा.

निशंक ने अधिकारियों के एक आधिकारिक बयान में कहा, '' इस सरकार के घोषणापत्र के अनुसार, हमें वर्ष 2024 तक सभी प्रमुख संस्थानों में सीट क्षमता 50% तक बढ़ानी होगी और साथ ही इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस को भी बढ़ाकर 50 करना चाहिए.'' वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए, सीटें बढ़ाना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है.

सभी प्रमुख संस्थानों में सीट क्षमता में 50% की वृद्धि करने के लिए प्रमुख निधि जलसेक की आवश्यकता होगी। सभी मंत्री ने कहा कि महत्वाकांक्षी प्रख्यात संस्थानों (IoEs) या इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस प्रोग्राम को 50 वर्सिटी या कॉलेजों को शामिल करने के लिए महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाया जाएगा.

वर्तमान में, मंत्रालय ने 20 संस्थानों को सार्वजनिक और दस निजी क्षेत्र में प्रख्यात संस्थानों (IoEs) का दर्जा देने की योजना बनाई है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी की जरूरत होगी क्योंकि यह प्रख्यात संस्थानों (IoEs) की संख्या बढ़ाना चाहता है. मंत्रालय ने विश्व स्तर के संस्थानों के पोषण के लिए प्रख्यात संस्थानों (IoEs) कार्यक्रम शुरू किया है.

बैठक में, निशंक ने यह भी संकेत दिया कि शिक्षा के लिए विदेशी देशों में भारतीय छात्रों के बहिर्वाह को नियंत्रित करने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय कई उपायों की योजना बना रहा है.

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट के माध्यम से ये कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय को सलाह दी थी कि वे भारत में प्रमुख संस्थानों में शिक्षा के उचित अवसर प्रदान करके विदेश जाने के इच्छुक छात्रों की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रयास करें और उन्हें बनाए रखने की पहल करें.

निशंक ने कहा कि उन्होंने मंत्रालय से भारत में अपने कार्यक्रम को पूरा करने के लिए उनका समर्थन करके विदेश से लौटने वाले छात्रों की चिंताओं का समाधान करने के लिए कहा था.

निशंक ने कहा, "मैंने यूजीसी के चेयरमैन से कहा है कि वे भारत में अधिक से अधिक छात्रों का अध्ययन करने के लिए दिशानिर्देश और उपाय तैयार करें, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे अच्छे प्रदर्शन वाले संस्थानों में छात्रों का सेवन बढ़ा सकें."

यह माना जाता है कि बहुत सारे भारतीय छात्र अन्यथा विदेशी अध्ययन स्थलों की ओर रुख कर सकते हैं, जिससे कोविड 19 (COVID-19) हिट अकादमिक वर्ष में अपनी योजनाओं को बदल सकते हैं.

पिछले साल लगभग 7.5 लाख छात्रों ने अपने साथ मूल्यवान विदेशी मुद्रा लेने के लिए अध्ययन करने के लिए विदेश यात्रा की.

उच्च शिक्षा अधिकारी अमित खरे ने कहा कि मूल कारण कई हैं और हमें मुद्दों पर ध्यान देने के लिए हर कदम उठाना चाहिए और अपने अध्ययन कार्यक्रम के तहत अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को भारत में आकर्षित करना चाहिए.

यूजीसी प्रमुख सिंह ने कहा कि अधिक ट्विनिंग कार्यक्रम, दोहरी डिग्री बनाने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि उचित अनुसंधान सुविधाएं बनाई जाएं. एआईसीटीई के अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे ने कहा कि उनका संगठन जल्द ही पूरे परिदृश्य का अध्ययन करने के उपायों के बारे में एक श्वेत पत्र के साथ सामने आएगा.

बैठक के दौरान लिए गए अन्य फैसलों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले विश्वविद्यालयों में बढ़ते सेवन के लिए एक तंत्र लाया गया था. साथ ही मल्टी-डिसिप्लिनरी और इनोवेटिव प्रोग्राम, ट्विनिंग और जॉइंट डिग्री प्रोग्राम शुरू करने, सेंटरों के क्रॉस कंट्री डिजाइनिंग, विदेशों में प्रख्यात फैकल्टी द्वारा ऑनलाइन लेक्चर की सुविधा, एकेडेमीया और इंडस्ट्री के बीच संबंध बनाने, जॉइंट डिग्री वेंचर्स की सुविधा और हायर एजुकेशन के लिए लेटरल एंट्री की व्यवस्था की जाएगी.

आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी, सीओए और केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के निदेशकों वाली अलग-अलग उप समितियां बनाई जाएंगी जो अध्यक्ष यूजीसी और अध्यक्ष एआईसीटीई की सहायता करेंगी. चेयरमैन एनटीए और चेयरमैन सीबीएसई और अन्य भी इसमें चिप लगाएंगे.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें