झारखंड की मॉब लिंचिंग पर बोले नकवी : गला दबाकर नहीं, गले लगाकर बोला जा सकता है ''जय श्रीराम''

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्ली : झारखंड में 24 वर्षीय युवक की कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या किये जाने की घटना को ‘जघन्य अपराध' करार देते हुए अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को कहा कि लोगों का गला दबाकर नहीं, बल्कि गले लगाकर ‘जय श्री राम' का नारा लगाया जा सकता है. हज कोर्डिनेटर, हज असिस्टेंट आदि के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम नकवी ने संवाददाताओं से कहा कि झारखंड की घटना में जो लोग भी शामिल हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है. इस तरह की घटनाओं के लिए कोई स्पष्टीकरण नहीं हो सकता. विकास के एजेंडे पर कोई विध्वंसक एजेंडा हावी नहीं होना चाहिए. जय श्रीराम गला दबाकर नहीं, गले लगाकर बोला जा सकता है. नकवी ने कहा कि जो लोग ऐसी चीजें ऐसी करते हैं, उनका मकसद सरकार के सकारात्मक काम को प्रभावित करना है. कुछ घटनाएं हो रही है, उनको रुकना चाहिए.

खबरों के मुताबिक, झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले के घातकीडीह गांव में पिछले दिनों भीड़ ने तबरेज अंसारी को चोरी के आरोप में कथित तौर पर बेरहमी से पिटाई की और उससे ‘जय श्रीराम' और ‘जय हनुमान' के नारे लगवाये. बाद में इलाज के दौरान अंसारी की मौत हो गयी.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें