अमित शाह का पलटवार - मिशेल के बयान से कांग्रेस और गांधी परिवार की सच्चाई सामने आयी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्ली : कांग्रेस नेतृत्व पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड मामले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल द्वारा ‘श्रीमती गांधी' का नाम लिये जाने से विपक्षी दल और गांधी परिवार की सच्चाई लोगों के सामने आ गयी है.

एक बयान में शाह ने कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड सौदे के कथित बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल और कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के बीच दोस्ती काफी पुरानी और गहरी है. उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के लिए देश से माफी मांगने को कहा. उनका इशारा संप्रग शासन के दौरान वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की खरीद में कथित भ्रष्टाचार की ओर था. कांग्रेस ने भाजपा और सरकार पर अगस्ता वेस्टलैंड मामले में झूठ गढ़ने का आरोप लगाया है तथा कहा है कि सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी ने संप्रग शासन के दौरान किसी भी रक्षा सौदे में कभी दखल नहीं दी. पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा, सरकार और भाजपा झूठ गढ़ने के लिए एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही हैं. मैं यह जानकर चकित हूं कि वर्तमान सरकार झूठ फैला रही है. बिना बात के बात बना रही है.

पलटवार करते हुए शाह ने कहा कि कांग्रेस और उसके नेताओं की सच्चाई को इनकार करने के लिए खुल्लम-खुल्ला झूठ बोलना आदत बन गयी है. कांग्रेस के खिलाफ भाजपा के राष्ट्रव्यापी अभियान की अगुवाई करते हुए उन्होंने ट्वीट किया, अगस्ता वेस्टलैंड मामले के तार-क्रिश्चियन मिशेल के एसओएस (अनुरोध). क्या किसी को मालूम है कि क्रिश्चियन मिशेल ने श्रीमती गांधी को लेकर पूछे गये प्रश्नों का ब्योरा अपने वकील को क्यों दिया. क्या वह चाहता है कि ये प्रश्न श्रीमती गांधी तक पहुंचाये जायें. क्यों? उन्होंने कहा कि यह जानने की जरूरत है कि मिशेल और श्रीमती गांधी के बीच क्या संबंध है. शाह ने कहा कि मिशेल के वकील ने माना है कि कथित बिचौलिये ने उसे कागज दिया और उसे लगा कि ये दवाओं की सूची है.

भाजपा अध्यक्ष ने गांधी परिवार पर प्रत्यक्ष कटाक्ष करते हुए कहा कि लोगों ने दर्द से राहत के लिए झंडु बाम और टाईगर बाम जैसी दवाइंयां सुनी हैं, लेकिन यह परिवार बाम है क्या जो हर बिचौलिया चाहता है. शाह ने कहा, किसी भी स्थिति में, जो बात बार-बार बतायी जानी चाहिए वह है मिशेल के वकील की कांग्रेस पृष्ठभूमि. तथाकथित निष्कासन ढोंग बना हुआ है. वह मिशेल और श्रीमती गांधी के बीच कड़ी बना हुआ है. कांग्रेस ने पार्टी की युवा शाखा के पदाधिकारी एल्जो के जोसेफ को मिशेल के वकील के रूप में पेश होने पर निष्कासित कर दिया था. शाह ने कहा, राष्ट्रहित में मिशेल के वकील को हमें 2008 के दस्तावेजों के अस्तित्व के बारे में अवश्य ही बताना चाहिए जिसमें श्रीमती गांधी का जिक्र है. प्रमाणित रूप से मिशेल और भारत के एक परिवार के बीच की दोस्ती पुरानी और गहरी है.

उन्होंने दावा किया कि एक तरफ कांग्रेस मिशेल जैसों को बचाने में जुटी हुई है, दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाईवाली सरकार देश से लुटे गये धन को बचाने के लिए जी-जान से लगी है. दिल्ली की एक अदालत ने संप्रग शासन के दौरान वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की खरीद में कथित बिचौलिये रहे मिशेल पर प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत के दौरान अपने वकीलों से मिलने पर पाबंदी लगा दी. जांच एजेंसी ने अदालत से कहा था कि वह वकीलों को चिट पहुंचा रहा है और उनसे पूछ रहा है कि श्रीमती को लेकर पूछे गये सवालों से कैसे निपटना है, इस तरह वह अपने कानूनी सहयोग का दुरुपयोग कर रहा है. एजेंसी ने यह भी दावा किया कि उसने एक सवाल के सिलसिले में ‘एक इतालवी महिला के बेटे' के बारे बोला था और ‘श्रीमती गांधी' का नाम लिया था. भाजपा ने इस खुलासे का इस्तेमाल कांग्रेस खासकर गांधी परिवार पर हमला करने के लिए किया.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें