मोदी के मेक इन इंडिया की तर्ज पर अब योगी सरकार लायेगी मेक इन यूपी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

लखनऊः केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की 'मेक इन इंडिया ' की परिकल्पना की 'सफलता ' का लाभ उठाने के लिए उत्तर प्रदेश में अलग से 'मेक इन यूपी ' विभाग बनाया जायेगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में यहां सम्पन्न कैबिनेट की बैठक में 'उत्तर प्रदेश औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति-2017 ' को अनुमोदित किया गया. नीति में कहा गया है कि मेक इन इंडिया की सफलता का लाभ उठाने के लिए प्रदेश में एक समपर्ति 'मेक इन यूपी ' विभाग की स्थापना की जायेगी. इस विभाग के तहत उद्योग एवं सेक्टर विशिष्ट राज्य निवेश तथा विनिर्माण क्षेत्र (एसआईएमजेड) को चिह्नित एवं सृजित किया जायेगा.

नीति में कहा गया है कि 'मेक इन इंडिया ' कार्यक्रम ने पूरी दुनिया का ध्यान आकृष्ट किया है. इससे क्षमता विकसित करने, बौद्धिक संपदा का संरक्षण तथा श्रेष्ठ विनिर्माण ढांचा तैयार करने में मदद मिली है. मेक इन इंडिया की तर्ज पर बनने वाले 'मेक इन यूपी ' कार्यक्रम में ऐसी रणनीति अपनायी जायेगी, जिससे प्रदेश को विनिर्माण का प्रमुख केंद्र बनाया जा सके. इस नीति का लक्ष्य राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्तर प्रदेश को प्रतिस्पर्धी निवेश गंतव्य के रुप में स्थापित करना है, जिससे रोजगार सृजित हो सके तथा प्रदेश के स्थायी, समेकित तथा संतुलित आथर्कि विकास को बल मिले.

नीति के अनुसार, राज्य में वाणिज्यिक गतिविधियों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए नोएडा, कानपुर, गोरखपुर, बुंदेलखंड तथा पूर्वांचल जैसे औद्योगिक क्लस्टर क्षेत्र में विशेष अधिकारी के नेतृत्व में समर्पित पुलिस बल को तैनात किया जायेगा. प्रमुख औद्योगिक क्लस्टर क्षेत्रों में एकीकृत पुलिस सह अग्निशमन स्टेशन भी स्थापित किये जायेंगे. प्रदेश के उद्योगों तथा विनिर्माण इकाइयों को बिना किसी परेशानी के परिवहन के विभिन्न साधनों के उपयोग से भारत एवं विदेशी बाजारों में उनके उत्पाद को पहुंचाने में सहायता प्रदान करने के लिए वायु, जल, सड़क एवं रेल नेटवर्क का एक संपर्क जाल बनाया जायेगा.

इस क्रम में लखनऊ एवं नोएडा में मौजूद मेट्रो सेवाओं में विस्तार के साथ-साथ कानपुर, मेरठ, आगरा, वाराणसी, इलाहाबाद, गोरखपुर, झांसी एवं गाजियाबाद नगरों में भी मेट्रो सेवाओं का विकास तथा प्रमुख राज्य राजमार्गों को चौड़ा करके एवं सृदृढ़ बनाकर यातायात संचालन को सुगम किया जायेगा. निवेश को प्रोत्साहन देने एवं ब्रांड उत्तर प्रदेश के विपणन को सुनिश्चित करने के मद्देनजर उत्तर प्रदेश को वैश्विक निवेश केंद्र के रूप में प्रस्तुत किये जाने के लिए 'ग्लोबल इन्वेस्टर समिट ' आयोजित की जायेगी. इसकी तारीख बाद में तय की जायेगी.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें