1. home Hindi News
  2. world
  3. south africa records first neonatal covid 19 death 2 day old baby died

कोरोना वायरस से दो दिन के नवजात की मौत, फेफड़ों में थी दिक्कत

By Agency
Updated Date
कोरोना वायरस से दो दिन के नवजात की मौत, फेफड़ों में थी दिक्कत
कोरोना वायरस से दो दिन के नवजात की मौत, फेफड़ों में थी दिक्कत
PTI PHOTO

जोहानिसबर्ग : कोरोना वायरस पूरी दुनिया में कहर बरपा रहा है और लोगों की जान ले रहा है. दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस से संक्रमित दो दिन के नवजात की मौत हो गई है जो देश में इस संक्रामक रोग से मरने वाला सबसे कम उम्र का बच्चा है. देश में एक जून से लॉकडाउन संबंधी पाबंदियों में प्रस्तावित रियायतों के मद्देनजर संक्रमण के कारण मरने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है.

ताजा आंकड़ों के अनुसार देश में 25 और लोगों की मौत के साथ मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 339 हो गई जबकि संक्रमितों की संख्या 18,003 पर पहुंच गई है. अभी तक इस बीमारी से कुल 8,950 लोग उबर चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्री डॉ. ज्वेली मिजे ने बुधवार को कहा, ‘‘यह बताते हुए दुख हो रहा है कि कोविड-19 से एक नवजात बच्चे की मौत हो गई है. संक्रमण से नवजात की मौत का यह पहला मामला है. इस बच्चे का जन्म दो दिन पहले हुआ था और वह समय पूर्व जन्मा था.''

उन्होंने बताया, ‘‘बच्चे के फेफड़ों में दिक्कत थी जिसके चलते उसे जन्म के तुरंत बाद वेंटीलेटर पर रखा गया.'' इस बच्चे की मां पहले संक्रमित पाई गई थी. मिजे ने बताया कि पिछले 24 घंटों में इस संक्रामक रोग से जान गंवाने वाले लोगों में एक स्वास्थ्य देखभाल कर्मी भी शामिल है.

मिजे ने पहले कहा था कि दक्षिण अफ्रीका लॉकडाउन में ढील देने के मापदंड पर खरा नहीं उतरता है. लेकिन बढ़ती बेरोजगारी और गरीबी के बीच संभावना जताई जा रही है कि देश में अर्थव्यवस्था को चरमराने से बचाने के लिए एक जून से लॉकडाउन संबंधी पाबंदियों में ढील दी जाएगी. सरकार ने मंगलवार को घोषणा की कि स्कूलों को चरणबद्ध तरीके से एक जून से खोला जाएगा.

भारतीय मूल के चिकित्सक की कोरोना वायरस से मौत

भारतीय मूल के एक चिकित्सक की यहां कोरोना वायरस के कारण मौत हो गयी. अमेरिकन फिजीशियंस आफ इंडियन ओरिजिन (एएपीआई) ने बुधवार को यह जानकारी दी. एएपीआई के मीडिया समन्वयक अजय घोष ने एक बयान में बताया कि सुधीर एस चौहान कोविड-19 से संक्रमित पाये गए थे और पिछले कुछ सप्ताह से जीवन के लिए संघर्ष कर रहे थे. उनकी 19 मई को इस बीमारी से मौत हो गई. चौहान न्यूयार्क के जमैका अस्पताल में इंटरनल मेडिसिन फिजिशियन और एसोसिएट प्रोग्राम डायरेक्टर आईएम रेजीडेंसी प्रोग्राम थे. एएपीआई के अनुसार उनकी पुत्री स्नेह चौहान ने कहा कि उनकी कमी महसूस की जाएगी.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें