1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. mx takatak new short video app by mx player now available on google play after tiktok ban in india

TikTok की जगह लेने आया MX Player का TakaTak ऐप, इसकी खूबियां हैं खास...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
mx player launch mx takatak to replace short video sharing tiktok app
mx player launch mx takatak to replace short video sharing tiktok app
mx takatak

MX Player, TakaTak, TikTok: भारत-चीन सीमा विवाद के बीच पिछले दिनों सरकार ने 59 चाइनीज ऐप्स को बैन कर दिया था. इसके बाद ‘मेड इन इंडिया’ ऐप्स की अचानक से बाढ़ सी आ गई है. इनमें से कई तो शॉर्ट-वीडियो ऐप ‘टिकटॉक’ (TikTok) द्वारा पीछे छोड़ दिये गये शून्य को भरने की कोशिश कर रहे हैं.

इनमें से कुछ तो लोकप्रियता भी हासिल कर रहे हैं. इसी कड़ी में अब वीडियो प्लेयर और वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म ‘एमएक्स प्लेयर’ (MX Player) ने अपना नया शॉर्ट वीडियो ऐप ‘टकाटक’ (TakaTak) लॉन्च कर दिया है, जो चाइनीज शॉर्ट वीडियो ऐप ‘टिकटॉक’ (TikTok) का विकल्प माना जा रहा है.

फिलहाल ‘टकाटक’ (TakaTak) केवल एंड्रॉयड यूजर्स के लिए उपलब्ध है, जो गूगल प्ले-स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है. लेकिन उम्मीद की जा रही है कि इस ऐप को जल्द ही ऐपल के ऐप स्टोर पर लॉन्च किया जाएगा.

‘टकाटक’ का अभी पहला वर्जन ही प्ले-स्टोर पर है, जो अंग्रेजी के अलावा 9 भाषाओं में उपलब्ध है. कंपनी का दावा है कि इसे 50,000 से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड कर लिया है. प्ले-स्टोर पर ‘टकाटक’ को 5 में से 4.3 की रेटिंग मिली है. ‘टकाटक’ का यूजर इंटरफेस ‘टिकटॉक’ की तरह ही है.

इसके साथ ही यूजर्स इसमें तकनीकी कमियों के बारे में भी अपनी राय शेयर कर रहे हैं. वहीं, लॉन्च के बाद उम्मीद जतायी जा रही है कि Taka Tak को लोग के बीच अपनी जगह बनाने में कामयाब रहेगा.

यूजर्स Taka Tak के माध्यम से हिंदी, तेलुगू, तमिल, कन्नड़, मलयालम, बंगाली, गुजराती, मराठी, पंजाबी और इंग्लिश जैसी भाषाओं में मजेदार कंटेट बना सकते हैं. इसमें यूजर्स अपनी पसंद का भाषा वाली वीडियो शेयर कर सकते हैं. इंटरफेस Taka Tak ऐप का एक हद तक टिकटॉक जैसा ही है, जिसके कारण इसके यूजर्स को टिकटॉक की अनुभूति महसूस होगा.

बता दें कि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने धोखे से भारतीय सेना के जवानों पर हमला कर दिया था. जिसमें भारत के 20 वीर जवान शहीद हो गए थे. इस घटना में भारतीय सेना ने भी चीनी सेना के जवानों को मार गिराया था. चीन की इस धोखेबाजी के बाद बाद राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को देखते हुए टिकटॉक, शेयरइट, वीचैट, यूसी ब्राउजर जैसे ऐप को प्रतिबंधित कर दिया गया. इन पर डेटा चुराने का आरोप लगाते हुए सरकार ने यह फैसला लिया था.

गौरतलब हो कि इससे पहले चीनी टिकटॉक का देसी विकल्प सोशल ऐप चिंगारी (Chingari) भी लॉन्च किया गया है. यह शॉर्ट वीडियो ऐप अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला, गुजराती, मराठी, कन्नड़, पंजाबी, मलयालम, तमिल और तेलुगू जैसी भाषाओं में उपलब्ध है.

Posted By - Rajeev Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें