1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. short video app tiktok may be a data collection service in disguise of social media says australian senator

TikTok क्या सोशल वीडियो ऐप के बहाने भारतीयों का डेटा जुटा रहा था? पढ़िए क्या है लेटेस्ट रिपोर्ट

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
tiktok may be a data collection service in disguise of social media
tiktok may be a data collection service in disguise of social media
bytedance

Short Video App, TikTok, Data Collection Service, Social Media: ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर जिम मॉलन ने कहा है कि सोशल मीडिया के छद्मवेष में टिकटॉक एक डेटा कलेक्शन सर्विस हो सकती है जिसकी जांच की ज्यादा जरूरत है. प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने भी लोगों से टिकटॉक पर डेटा हैंडलिंग को लेकर सतर्क रहने की अपील की है. सीनेटर जॉर्ज क्रिस्टेनसन ने कहा कि टिकटॉक बैन होना चाहिए.

बता दें कि भारत ने पिछले ही हफ्ते टिकटॉक, यूसी ब्राउजर सहित 59 मोबाइल ऐप को प्रतिबंधित कर दिया. भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने सरकार से कहा था कि या तो चीन से जुड़े 52 मोबाइल एप्लिकेशन को ब्लॉक कर दिया जाये या लोगों को इनका इस्तेमाल ना करने की सलाह दी जाये, क्योंकि इनका इस्तेमाल करना सुरक्षित नहीं है. ये ऐप बड़े पैमाने पर डेटा को भारत से बाहर भेज रहे हैं.

मालूम हो कि सुरक्षा एजेंसियों ने सरकार को जो लिस्ट भेजी थी, उसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप जूम, टिकटॉक, यूसी ब्राउजर, एक्सेंडर, शेयर इट और क्लीन मास्टर जैसे ऐप शामिल थीं. सिक्योरिटी से समझौता करनेवाले मोबाइल ऐप्स पर कार्रवाई की मांग उठती रही है.

वीडियो शेयरिंग ऐप के स्वामित्व वाली चाइनीज इंटरनेट कंपनी बाइट डांस जैसी कंपनियां इससे इनकार करती रही थी. लेकिन अधिकारियों का कहना था कि चाइनीज डिवेलपर्स की ओर से तैयार या चाइनीज लिंक्स वाले ऐप भले ही वह एंड्रॉयड के लिए हों या आईओस के लिए, इनका इस्तेमाल स्पाइवेयर या अन्य नुकसान पहुंचाने वाले वेयर के रूप में हो सकता है.

ऐसी खबरें थी कि सिक्योरिटी एजेंसियों ने सुरक्षाकर्मियों को इन चीनी ऐप्स का इस्तेमाल ना करने की सलाह दी थी क्योंकि इससे उनकी डेटा सिक्योरिटी को खतरा है.

वहीं, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने भी पिछले दिनों कहा कि अमेरिका टिकटॉक समेत चीन के सभी सोशल मीडिया ऐप पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है. उन्होंने कहा, केवल अगर आप अपनी निजी जानकारी चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के हाथों में चाहते हैं.

मीडिया में ऐसी भी रिपोर्ट हैं कि टिकटॉक हांगकांग से भी अपना कारोबार समेटेगा. दूसरी ओर, टिकटॉक कंपनी के सीईओ केविन मेयर का कहना है कि चीन ने कभी भी भारतीय उपयोगकर्ताओं का डेटा प्राप्त करने के लिए नहीं कहा.

Posted By - Rajeev Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें