1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. android malware alert this system update may steal your private data know how to be safe rjv

Android Malware Alert : सॉफ्टवेयर अपडेट के नाम पर आपकी प्राइवेसी से खिलवाड़ न हो जाए, जानें बचने का तरीका

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
android system update malware alert news
android system update malware alert news
fb

Android System Update, Malware Alert: एंड्राॅयड यूजर्स के लिए एक चिंता वाली खबर है. दरअसल बात यह है कि एंड्राॅयड में एक नये तरह का मालवेयर पाया गया है जो यूजर्स के निजी डेटा के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है. इस एंड्रॉयड मालवेयर को सबसे पहले सिक्योरिटी एस्कॉर्ट फर्म Zimperium ने खोजा है.

एंड्रॉयड के नये मालवेयर को पहचानना काफी मुश्किल है क्योंकि यह खुद को सिस्टम अपडेट के रूप में दिखाता है और गुपचुप तरीके से यूजर्स का डेटा चुरा लेता है. इस मालवेयर से फिलहाल कितने यूजर्स प्रभावित हुए हैं, इसकी कोई जानकारी नहीं है.

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एंड्राॅयड का यह मालवेयर फोन के ओरिजनल सिस्टम अपडेट नोटिफिकेशन जैसा ही लगता है और यूजर्स इसे धोखे से डाउनलोड कर लेते हैं. अगर आप अपने एंड्राॅयड स्मार्टफोन पर गलती से इस मालवेयर को इनस्टॉल कर लिया, तो यह आपके सारी निजी डेटा जैसे मैसेजेस, फोटो, वीडियो, ऐप डेटा को ऐक्सेस कर लेगा. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह एंड्राॅयड मालवेयर रियल टाइम पर आधारित है. यह नया एंड्रॉयड मालवेयर यूजर्स के फोन और निजी डेटा के लिए खतरनाक साबित हो सकता है.

रिपोर्ट के अनुसार, यह मालवेयर समय-समय पर अपने कमांड सेंटर को यूजर का डेटा भेजते रहता है. स्मार्टफोन में हर बार एक नयी जानकारी दर्ज होने पर यह अपडेटेड डेटा हैकर्स को भेजता है. यह खतरनाक मालवेयर गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं है. यह मालवेयर एंड्राॅयड के थर्ड पार्टी ऐप्स में मौजूद हो सकता है. ऐसे में अगर आपके पास सिस्टम अपडेट को लेकर कोई भी नोटिफिकेशन आती है, तो उसे डाउनलोड करने से पहले नोटिफिकेशन अलर्ट को अच्छी तरह से जांच लें.

यूजर्स एंड्राॅयड स्मार्टफोन में डिफॉल्ट रूप में थर्ड पार्टी ऐप्स को इनस्टॉल कर सकते हैं. जिसे यूजर्स डिसेबल भी कर सकते हैं. अगर आप इस खतरनाक मालवेयर से सुरक्षित रहना चाहते हैं, तो इसे डिसेबल कर के रखें और ऐप हमेशा गूगल प्ले स्टोर से ही अपडेट करें. अपडेट इनस्टॉल करने से पहले URL और सोर्स की भी जांच कर लेनी चाहिए.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें