25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

गर्भवती को अपनों ने घर से निकाला, स्टेशन पर जना बच्चा

गर्भवती को अपनों ने घर से निकाला, स्टेशन पर जना बच्चा

मनोहरपुर स्टेशन पर बच्ची को जन्म देने के बाद खुद नाल काटीस्थानीय लोगों की मदद से महिला को सीएचसी में भर्ती कराया गया

चिकित्सकों ने जांच के बाद जच्चा और बच्चा को स्वस्थ बताया

मनोहरपुर.

पति की चार माह पहले सड़क दुर्घटना में हुई मौत के बाद गर्भवती महिला को उसके ससुराल और मायके वालों ने घर से निकाल दिया. महिला सावित्री बानरा (22) सोनुआ प्रखंड के नयागांव की रहने वाली थी. सावित्री ने बगैर किसी की मदद से 24 अप्रैल की रात में मनोहरपुर स्टेशन के पास एक बच्ची को जन्म दिया है. महिला ने खुद नाल भी काटा.

जानकारी के अनुसार पति आजाद समद ओडिशा के कटक के रहने वाले थे. चार माह पहले उनकी सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी थी. पति की मौत के बाद सास-ससुर ने कुछ दिन बाद उसे घर से निकाल दिया. इसके बाद वह अपने मायके आ गयी. यहां भी मां-बाप ने उससे नाता तोड़ लिया. इधर-उधर भटकने के बाद वह तीन दिनों से मनोहरपुर स्टेशन के पास रह रही थी. यहां उसने बिना किसी के सहयोग से बच्ची को जन्म दिया. फिलहाल लोगों की मदद से महिला को मनोहरपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है. चिकित्सकों ने बताया कि जच्चा और बच्चा दोनों खतरे से बाहर हैं. प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अनिल कुमार ने बताया कि दोनों को ऑब्जर्वेशन में रखा गया है.

23 अप्रैल की रात में ससुराल वालों ने घर से निकाला

सावित्री ने बताया कि डेढ़ साल ससुराल में रही. पति की मौत के बाद ससुराल वालों ने 23 अप्रैल की रात में घर से निकाल दिया. कहा कि पति नहीं है, तो किसके भरोसे रहोगी. इसके बाद वह उत्कल एक्सप्रेस से 24 अप्रैल की सुबह मनोहरपुर स्टेशन पर उतरी. यहां से मायके गयी. मायके वालों ने भी ठुकरा दिया. 24 अप्रैल की रात में बच्ची को जन्म दिया. प्रसव के समय कोई मददगार नहीं मिला. सड़क पर पड़े एक ब्लेड से बच्चे की नाल काटी. काफी देर तक मनोहरपुर स्टेशन पर पड़ी रही. संयोगवश सब्जी व्यापारी तपेश्वर यादव की नजर पड़ी. उन्होंने स्थानीय पत्रकारों की मदद से सीएचसी में भर्ती कराया. सहिया पुष्पा मेनन और सीएचसी कर्मी रीना कुमारी ने दोनों की जांच की. इस मामले में मायके और ससुराल वालों से संपर्क नहीं हो पाने की वजह से पक्ष नहीं मिला है.

मनोहरपुर सीएचसी के प्रभारी चिकित्सक डॉ अनिल कुमार ने बताया कि जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. दोनों खतरे से बाहर हैं. बच्चे को बेबी किट उपलब्ध कराया गया है. दोनों को कुछ दिन ऑब्जर्वेशन में रखा जायेगा. इसके बाद कानूनी प्रक्रिया के तहत आगे की कार्रवाई की जाएगी. .

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें