1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. simdega
  5. money being wasted in the construction of astroturf stadium being built in simdega dc gave this order srn

सिमडेगा में बनाये जा रहे एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम के निर्माण में राशि की हो रही बरबादी, डीसी ने दिया ये आदेश

शहरी क्षेत्र के एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में कराये जा रहे कार्य में गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा जा रहा है. गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं किये जाने के कारण सरकार का लाखों रुपया बरबाद हो रहा है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सिमडेगा एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम
सिमडेगा एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम
Symbolic Pic

शहरी क्षेत्र के एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में कराये जा रहे कार्य में गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा जा रहा है. गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं किये जाने के कारण सरकार का लाखों रुपया बरबाद हो रहा है. एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में अप्रैल माह में ही सब जूनियर नेशनल महिला हॉकी चैंपियनशिप का आयोजन किया गया था. इस दौरान एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में नया गोल पोस्ट लगाया गया था.

किंतु निम्न स्तर का गोल पोस्ट लगने के कारण पांच महीने में ही गोल पोस्ट पूरी जर्जर हो कर टूट गया. 20 अक्तूबर से सिमडेगा एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में फिर से एक बार नेशनल जूनियर महिला हॉकी चैंपियनशिप का आयोजन किया गया है. जिसमें विभिन्न राज्यों से हॉकी खिलाड़ी चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए पहुंचेंगे. वर्तमान समय में जर्जर टूटे हुये गोल पोस्ट में ही नेशनल खिलाड़ी अभ्यास कर रहे हैं. एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में अन्य कार्यों में भी गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा गया. जिस कारण लाखों की सरकारी राशि की बर्बादी हो रही है.

एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम परिसर में अप्रैल महीने में ही पेवर ब्लॉक पथ बनाया गया था. पेपर ब्लॉक बिछाने में एस्टीमेट के अनुसार काम नहीं हुआ. गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं कराए जाने के कारण पांच महीने में ही पेवर ब्लॉक पथ धंस गया. पेपर ब्लॉक धंसने के मामले में विभाग द्वारा सफाई दिया गया कि भारी वाहन के प्रवेश कर जाने के कारण पेपर ब्लॉक धंस गया किंतु सच्चाई इससे इतर है. पेपर ब्लॉक पथ पर ट्रैक्टर का इंजन और मिक्चर मशीन चढ़ने से ही धंस गया.

आपको बताते चलें कि कुरडेग रोड के अलावा अन्य सड़क के किनारे प्राक्कलन के अनुसार गुणवत्तापूर्ण पेबर ब्लॉक पथ का निर्माण किया गया. जहां 40 टन के वाहन के चढ़ने के बाद भी किसी प्रकार की कोई क्षति नहीं हुई. जानकारों का कहना है कि एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम में पेवर ब्लॉक बिछाने से पहले प्राक्कलन के अनुसार मटेरियल नहीं दिया गया. कांपेक्शन का कार्य भी नहीं किया गया. जिस कारण पेपर ब्लॉक इतनी जल्दी धंस गया. गुणवत्ता का पालन नहीं करने के कारण सरकारी राशि की बर्बादी हो रही है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें