1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand crime news being a fake officer used to recover from trucks 16 arrested with pistols they used to do their work srn

Jharkhand Crime News : फर्जी अफसर बनकर ट्रकों से करते थे वसूली, पिस्टल के साथ 16 गिरफ्तार, ऐसे देते थे अपने काम को अंजाम

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
रांची में फर्जी अफसर बनकर ट्रकों से करते थे वसूली, अब गिरफ्तार
रांची में फर्जी अफसर बनकर ट्रकों से करते थे वसूली, अब गिरफ्तार
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jharkhand News, Ranchi News रांची : झारखंड स्टेट मिनरल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड के माइनिंग अफसर बनकर बालू लदे ट्रक चालकों से जबरन पैसा वसूली करनेवाले 16 लोगों को नामकुम के सिदरौल से पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

इनके पास से एक अमेरिकन पिस्टल सहित चार 7.65 एमएम का पिस्टल, 75 गोली, वसूले गए 14 हजार रुपए व घटना में प्रयुक्त दो बोलेरो गाड़ी (जेएच 01इइ 9227) को भी (जेएच 01इइ 1783) जब्त किया गया है. पिस्टल का लाइसेंस जम्मू कश्मीर का बताया जा रहा है. पुलिस इसकी जांच कर रही है.

गिरफ्तार लोगों में सात हरियाणा, तीन पंजाब , दो पश्चिम बंगाल व चार झारखंड के रहनेवाले हैं. गिरफ्तार लोगों में रंजीत सिंह, प्रशांत शर्मा , मोहन , राहुल कुमार , अनुज, मनीष कुमार व संदीप हरियाणा के रहनेवाले हैं. जबकि बलवेंदर सिंह, श्रवण सिंह, मेजर सिंह पंजाब के रहनेवाले हैं. वहीं संजीव सिंह, सोलेन दत्ता पश्चिम बंगाल के निवासी है.

इनके अलावा भगवान चौधरी, सूरज कुमार खेलारी व सुबोध कुमार हजारीबाग के इचाक का रहनेवाला है. जबकि मयूर जेठवा धनबाद के झरिया का निवासी है. उक्त जानकारी रांची के ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने प्रेस वार्ता में दी.

उन्होंने कहा कि वरीय पुलिस अधीक्षक को सूचना मिली कि कुछ लोग माइनिंग अधिकारी बनकर चालान के नाम पर बालू लदे ट्रक चालकों से पैसा वसूल रहे हैं. पैसा नहीं देनेवालों चालकों की पिटाई भी की जा रही है. इसी सूचना के बाद नामकुम थाना प्रभारी प्रवीण कुमार एवं खरसीदाग ओपी ने सिदरौल से उक्त लोगों को पकड़ा. पुलिस के अनुसार, इस गिरोह का सरगना हरियाणा का रंजीत सिंह है.

नामकुम में ट्रक चालक को पीटा था :

पुलिस की जांच में यह बात सामने आयी है कि इस गिरोह के सदस्यों ने होली से एक-दो दिन पहले नामकुम क्षेत्र में बालू लदे ट्रक चालक की पिटाई की थी. इस घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस इस गिरोह की तलाश में थी.

मंगलवार की रात सटीक सूचना मिलने पर पुलिस ने सभी को सिदरौल से पकड़ लिया. ट्रक मालिक विनोद कुमार साह (सिदरौल नामकुम निवासी) ने उक्त सभी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी थी. उन्होंने बताया कि सिदरौल में बालू ट्रक चालक को रोककर चालान की मांग की थी.

चालान नहीं दिखाने पर मारपीट की व पैसा वसूला था. वहीं फर्जी माइनिंग अधिकारियों ने सदाबहार चौक पर ट्रक मालिकों को डराने के लिए चलती ट्रक पर फायरिंग भी की थी. पुलिस ने इनका पीछा किया तो वे लोग बुंडू की ओर भाग गये थे.

  • गिरफ्तार लोगों में सात हरियाणा के, तीन पंजाब, दो पश्चिम बंगाल व चार झारखंड के

  • राजदीप इंटरप्राइजेज के कर्मी थे, माइनिंग अफसर बन करते थे वसूली, टीम में सात बाउंसर भी

डीएसपी मुख्यालय नीरज कुमार ने बताया कि गिरफ्तार लोगों ने पूछताछ में बताया कि वे लोग अशोक नगर स्थित राजदीप इंटरप्राइजेज नामक कंपनी के कर्मचारी हैं. इनका कहना है कि बालू खनन के लिए मैन पावर सप्लाई को लेकर झारखंड स्टेट मिनरल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड से राजदीप इंटरप्राइजेज का एमओयू हुआ है.

हालांकि यह जांच का विषय है. जबकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि रांची में अभी बालू खनन का लीज सरकार द्वारा किसी को नहीं दिया गया है. ऐसे में बालू खनन स्थल पर मैन पावर सप्लाई की बात कहां आती है. इन लोगों ने बताया कि वे लोग माइनिंग अफसर बन कर ट्रक चालकों से वसूली करते थे. पैसा नहीं देनेवाले चालकों की पिटाई भी करते थे. इसके लिए टीम में छह-सात बाउंसर रखे गये थे, जो हरियाणा और पंजाब के रहनेवाले हैं. पुलिस बरामद अमेरिकन पिस्टल के बारे में भी जानकारी जुटा रही है.

राजदीप इंटरप्राइजेज के कर्मी थे, माइनिंग अफसर बन करते थे वसूली, टीम में सात बाउंसर भी

डीएसपी मुख्यालय नीरज कुमार ने बताया कि गिरफ्तार लोगों ने पूछताछ में बताया कि वे लोग अशोक नगर स्थित राजदीप इंटरप्राइजेज नामक कंपनी के कर्मचारी हैं. इनका कहना है कि बालू खनन के लिए मैन पावर सप्लाई को लेकर झारखंड स्टेट मिनरल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड से राजदीप इंटरप्राइजेज का एमओयू हुआ है. हालांकि यह जांच का विषय है. रांची में फर्जी अफसर बनकर ट्रकों से वसूली करने तथा News in Hindi से अपडेट के लिए बने रहें हमारे साथ.

जबकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि रांची में अभी बालू खनन का लीज सरकार द्वारा किसी को नहीं दिया गया है. ऐसे में बालू खनन स्थल पर मैन पावर सप्लाई की बात कहां आती है. इन लोगों ने बताया कि वे लोग माइनिंग अफसर बन कर ट्रक चालकों से वसूली करते थे. पैसा नहीं देनेवाले चालकों की पिटाई भी करते थे. इसके लिए टीम में छह-सात बाउंसर रखे गये थे, जो हरियाणा और पंजाब के रहनेवाले हैं. पुलिस बरामद अमेरिकन पिस्टल के बारे में भी जानकारी जुटा रही है.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें