झारखंड: गहरी नींद में थे यात्री तभी चलती बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद-फांद कर बचायी जान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

महेशपुर : झारखंड के पाकुड़ जिले में आज अहले सुबह एक बस में भीषण आग लग गयी हालांकि किसी भी यात्री को कोई नुकसान नहीं पहुंचा. दरअसल, प्रखंड के बड़कियारी गांव के समीप रांची से पाकुड़ आ रही सानिया बस में शार्ट सर्किट से आग लग गयी. घटना बुधवार अहले सुबह करीब पौने पांच बजे की है. आग की भनक लगते ही यात्रियों ने बस रुकवाया. आग धीरे-धीरे बढ़ने लगी. आनन फानन में बस में सवार करीब 25 से 30 यात्री बस से उतर गये.

झारखंड: गहरी नींद में थे यात्री तभी चलती बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद-फांद कर बचायी जान

देखते ही देखते आग भड़क गयी. और पूरे बस में आग लग गयी. घटना की सूचना महेशपुर पुलिस को दी गयी. थाने से अग्निशमन वाहन को फोन किया गया. घटना स्थल पर थाना प्रभारी उमा शंकर सिंह, पुअनि देवानन्द प्रसाद, सुरेश कुमार सिंह, सअनि अनिल कुमार सिंह सशस्त्र पुलिस बल के साथ पहुंचे.

झारखंड: गहरी नींद में थे यात्री तभी चलती बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद-फांद कर बचायी जान

घटना स्थल पर मिली जानकारी के अनुसार अहले सुबह का वक्त होने के कारण लोग नींद में थे. इसी बीच कुछ जलने की महक किसी यात्री को महसूस हुई. यह बात बस में बैठे अन्य यात्रियों को मिली, तब यात्रियों ने बस को रुकवाया. तथा बड़कियारी गांव के पास सभी यात्री बस से सकुशल नीचे उतर गये.

झारखंड: गहरी नींद में थे यात्री तभी चलती बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद-फांद कर बचायी जान

मिली जानकारी के अनुसार बस में आग शार्ट सर्किट से लगी और पहले उसने पिछले हिस्से में सामान रखने वाले डिक्की को चपेट में लिया. इस घटना में बस पूरी तरह जलकर खाक हो गयी. बस के छत पर रखे नए टायर में आग लगने से भड़की आग में सड़क किनारे स्थित बड़कियारी गांव निवासी सहदेव राय के दुकान तथा घर में भी आग लग गयी. जिससे दुकान पूरी तरह जलकर खाक हो गयी. घर के कुछ हिस्से में आग से नुकसान पहुंचा है.

झारखंड: गहरी नींद में थे यात्री तभी चलती बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद-फांद कर बचायी जान

घटना की खबर मिलते ही काफी संख्या में स्थानीय लोगों की भीड़ घटना स्थल पर जमा हो गयी. सुबह करीब छः बजे अग्निशमन वाहन घटना स्थल पर पहुंचा. दमकल कर्मियों ने बड़ी मशक्कत के बाद आग को बुझाया. हालांकि तब तक बस पूरी तरह जलकर खाक हो गयी. बस में यात्रियों के सामान भी जलकर खाक हो गये. कई व्यवसायी के काजू-किशमिश आदि कीमती सामान भी जलकर खाक हो गये. सानिया बस (संख्या जेएच 01 बी सी 6153) में आग लगने की घटना में सवार सभी यात्रियों को स्थानीय लोगों ने सकुशल बस से नीचे उतारने में काफी मदद की. इससे बहुत बडा हादसा होने से टल गया.

झारखंड: गहरी नींद में थे यात्री तभी चलती बस बनी आग का गोला, यात्रियों ने कूद-फांद कर बचायी जान

बस में सवार रांची की रहनेवाले पूनम टेटे, जो जीएनएम के पद में योगदान करने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र महेशपुर आ रही थी. उसने बताया कि स्वास्थ्य उप केंद्र नारायणगढ़ में उसकी नौकरी हुई है. उसी को लेकर वह योगदान करने के लिए रांची से महेशपुर आ रही थी. बड़कियारी गांव से कुछ पहले ही कुछ जलने की आशंका होने पर यात्रियों के साथ मिलकर बस को रुकवाया गया.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें