पुलिस वाहन पर नक्सली हमला, चार जवान शहीद हथियार लूटे, भाजपा नेता की गाड़ी पर भी फायरिंग

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

चंदवा :शहीदों में दारोगा सुकरा उरांव सहित तीन होमगार्ड के जवान भी शामिल

एक अन्य जवान का नहीं चल रहा है पता,घायल जवान शंभु प्रसाद को रिम्स भेजा गया

रांची/चंदवा : चौथे झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान 30 नवंबर को होना है. चुनाव शांतिपूर्ण और निष्पक्ष हो इसको लेकर डीजीपी कमल नयन चौबे शुक्रवार को रांची मुख्यालय में पड़ोसी पांच राज्यों के पुलिस के आला अधिकारियों के साथ रणनीति को अंतिम रूप दे रहे थे. इस बीच प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी की कायरतापूर्ण कार्रवाई ने पुलिस की शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव की तैयारी पर सवालिया निशान लगा दिया.

गौर करनेवाली बात यह है कि एक दिन पहले ही रांची में प्रेसवार्ता कर रहे मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील आरोड़ा ने कहा था कि आयोग ने झारखंड के अधिकारियों की रिपोर्ट देखी है और उनसे बातचीत की है. इससे ऐसा नहीं लगता है कि नक्सलवाद में कोई कमी आयी है. अधिकारियों ने तो यह भी आशंका जतायी है कि चुनाव प्रक्रिया बाधित करने के लिए इस बार नक्सली कोई नया तरीका इस्तेमाल कर सकते हैं. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा था कि शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव के लिए हम तैयार हैं और पर्याप्त संख्या में केंद्रीय बलों की तैनाती की गयी है.

रांची/चंदवा : लातेहार के चंदवा थाना से महज चार किमी दूर एनएच-75 पर लुकइया गांव के समीप (लोहरदगा जानेवाला रास्ता) पुलिस की रुकी हुई पीसीआर पर हमला कर दिया. वाहन पर ताबड़तोड़ फायरिंग की गयी. इसी दैरान वहां से गुजर रहे भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुबोध सिंह गुड्डू का वाहन भी इस फायरिंग की जद में आ गया.

हालांकि वह इससे बच कर निकलने में सफल रहे, पर गश्ती पर निकले पीसीआर के दारोगा सुकरा उरांव, पीसीआर के चालक यमुना राम और होमगार्ड जवान सिकंदर सिंह घटनास्थल पर ही शहीद हो गये. एक घायल होमगार्ड जवान शंभु प्रसाद को गंभीर अवस्था में बेहतर इलाज के लिए रांची लाया जा रहा था, लेकिन रास्ते में चान्हो के पास ही उन्होंने भी दम तोड़ दिया.

नक्सलियों ने पुलिसकर्मियों के हथियार भी लूट लिये हैं. इसमें एक पिस्टल और थ्री नॉट थ्री की तीन राइफल शामिल है. घटना से थोड़ी देर पहले पीसीआर पर सवार एक अन्य होमगार्ड जवान दिनेश राम पानी लाने के लिए उतरे थे. इससे वह नक्सलियों के हमले में बच गये.

घटना शुक्रवार की रात 8:05 बजे की है. पीसीआर पर नक्सलियों का यह पहला हमला है. इस वारदात को प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी के रवींद्र गंझू दस्ते ने अंजाम दिया है. घटना के बाद मौके पर सीआरपीएफ की टीम ने पहुंच कर मोर्चा संभाल लिया है.

सीआरपीएफ व नक्सलियों के बीच रुक-रुक कर फायरिंग भी हुई. इस बीच सबसे पहले घायल जवान शंभु प्रसाद व मृतक दारोगा सुकरा उरांव के शव को मौके से पुलिस एंबुलेंस में रखकर चंदवा थाना ले गयी.

मौके पर फायरिंग जारी थी. इसी फायरिंग के बीच से पीसीआर चालक यमुना प्रसाद, होमगार्ड जवान सिकंदर सिंह व दिनेश राम के शव को मौके से एंबुलेंस पर चंदवा थाना लाया गया. देर रात तक कांबिंग ऑपरेशन जारी था. घटना की सूचना मिलने के बाद पलामू सह रांची रेंज के डीआइजी लातेहार से चंदवा के लिए प्रस्थान कर गये थे.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें