17.1 C
Ranchi
Monday, March 4, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

सिलक्यारा टनल से लौटे झारखंड के तीन श्रमिकों से मिले झापा के अध्यक्ष एनोस एक्का

झापा के केंद्रीय अध्यक्ष ने पत्रकारों से कहा कि झारखंड सरकार ने मजदूरों को आर्थिक सहयोग देने के नाम पर चुप्पी साध रखी है. वहीं, उत्तराखंड की सरकार मजदूरों को सहयोग राशि दे चुकी है.

चंदन सिंह, कर्रा (खूंटी) : झारखंड पार्टी (झापा) के केंद्रीय अध्यक्ष एनोस एक्का ने उत्तराखंड के उत्तरकाशी टनल से लौटे मजदूरों के घर बुधवार को अपने कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे. उन्होंने तीनों मजदूरों और उनके परिजनों से मुलाकात की. एक-एक कर डुमारी गांव के मजदूर चमरा उरांव, गुमडू गांव के मजदूर विजय होरो और मदुगामा गांव के श्रमिक गणपाईत होरो का तथा उनके परिवार का हाल-चाल लिया. मजदूरों से टनल के अंदर बिताए 17 दिन की घटना, उत्तराखंड सरकार, केंद्र सरकार, झारखंड सरकार व टनल का काम करने वाली कंपनी की ओर से उन्हें मिली मदद के बारे में भी विस्तार से जानकारी ली. एनोस एक्का ने मजदूरों को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया. आर्थिक सहायता भी दी. उन्होंने अपील की कि झारखंड के लोग बाहर जाकर मजदूरी न करें. झापा के केंद्रीय अध्यक्ष ने पत्रकारों से कहा कि झारखंड सरकार ने मजदूरों को आर्थिक सहयोग देने के नाम पर चुप्पी साध रखी है. वहीं, उत्तराखंड की सरकार मजदूरों को सहयोग राशि दे चुकी है. झारखंड सरकार खुद को आदिवासियों की सरकार बताते हुए इसका ढिंढोरा पीटती है, लेकिन झारखंड से बड़े पैमाने पर मजदूरों को दूसरे प्रदेशों में जाकर श्रम करना पड़ता है. उन्हें पलायन करना पड़ता है. इनके बारे में यहां की सरकार को कोई चिंता नहीं है.

झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार से एनोस ने की ये अपील

एनोस एक्का ने कहा कि जब इतनी बड़ी त्रासदी से मजदूर लौटे हैं, तो उनके लिए भी सरकार के पास पैसे नहीं हैं कि उनकी कुछ आर्थिक मदद कर सके. एनोस एक्का ने झारखंड सरकार से अपील की कि टनल से निकलकर आए अपने प्रदेश के मजदूरों के लिए सरकार ने जो घोषणा की थी, वह जल्द से जल्द पूरा करे. मौके पर ओलिपर लकड़ा, अभय विश्वाकर्मा, सिमडेगा की जिला परिषद (जिप) अध्यक्ष रोप प्रतिमा सोरेन, सेंटर ठाकुर, रिंकू अग्रवाल, लिमड़ा मुखिया, सोमारी लकड़ा, धर्मेंद्र मांझी, मंसूर आलम, निकोदिम हेमरोम सहित अन्य उपस्थित थे

Also Read: झारखंड : उत्तरकाशी टनल हादसे से सकुशल लौटे चक्रधरपुर के महादेव ने प्रभात खबर को सुनायी आपबीती

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें