1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jharkhand culture prabhat khabar hindi news prt

पुरखा ले बनते आवत हे सादी बिहा, परब तिहा में 'गोदा'

एखन कर समाज में धीरे धीरे सहर कर छाव आउर देखावा कर भाव ढुकते जात हे. जेकर चलते पुरखा से चलल नेग चार, रीति बिधी, कला संस्कृति कम होत जात हे.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
पुरखा ले बनते आवत हे सादी बिहा
पुरखा ले बनते आवत हे सादी बिहा
prabhat khabar

मुंगेश्वर साहु: झारखंड राइज में हियां कर भाखा संस्कृति, समाज कर पुरखा रीति बिधी नेग चार रहन सहन आउर आदिवासी सदान कर सहज भाव सहियापन हें झारखंड कर पइहचान बनल आहे. झारखंड कर सिमडेगा जिला एक ठो अनुसूचित जिला हेके आउर हियां पुरखा पाट ले आदिवासी आउर सदान बहुत पेरेम भाव से रहते चलते आवत हयं. हियां आदिवासी आउर सदान मनक पुरखा कर कय ठो पुरखइत नेग चार, रीति बिधी, कला संस्कृति देखेक सुनेक ले भेटायला.

एहे सदान समुदाय से आवेक वाला अनुसूचित जनजाति कर बिंझिया समाज में हों एक ठो अजगुइत नेग चार आउर पुरखा से चलल बनल पुरखइत कला ( चित्रकला) चलते बनते आवत हे जेकर नाम हेके 'गोदा'. इ गोदा के बिंझिया समाज में सादी बिहा, परब तिहा कर मोका सोका में सुभ मानल जायला सेकरे ले इकर चलन पुरखा पाट ले चलते आवत हे.आइज भी बिंझिया समाज में गोदा कर मोल के जोगाएक कर कोसिस करल जात हे. आउर इकर से समाज के एक ठो अलगे पइहचान भेटायला सेकरे ले इकर चलन पीढ़ी-पीढ़ी ले चलत हे.

गोदा के बनाएक चाहे सिखेक सिखाएक में समाज कर जनाना मनक बहुत बड़का जोगदान हय. जनानाय मन आपन मांय बाप घर से गोदा के बनाएक सिखयंना आउर आपन ससुराइर में हों गोदा के बनाएक कर काम करयंना. आइज कर आधुनिक जुग में ढेइर इसन पुरखइती चलन मन हेजात बेंड़ात जात हे. मुदा बिझिंया समाज कर जनाना मनक प्रयास से एखन तक गोदा कर पइहचान बरकरार आहे.

गोदा बनायक कर उपाय : गोदा के बनायक से पहिले घर कर भीत के माटी से बेस लखे छाबेक पड़ेल तेकर पाछे पोरा ढुंड़काल आउर गोबर के मेसाय के उके भीत में लुंड़ा से लीपेक पड़ेला. जब भीत चीकन एकन होइ जाय तब जनाना मन आरवा चाउर के भिंजाय देन आउर चाउर जब भिंज जाएला तब उके सिलइठ लोरहा में पिसेना आउर उकर गुंड़ी तेयार करयंना तले भीत में गोदा बनायक सुरु करयंना. गुंड़ी के डुभा में राइख के उकर में अपन भतखइया हांथ कर ठेपा अंगुर के छोइड़ बाकि चाइरो अंगुर के डुबायक पड़ेल आउर डुभा से हांथ निकलाय के भीत में छिटकात जायना.

इसने छिटकाते छिटकाते गोदा बनेला. एक ठो गोदा बनेक में दू-तीन मिनट लाइग जायला हेवाल हांथ ले वइसे तो गोदा बनाएक मामूली नखे आहंबा आदमीन ले. ऊ तो समाज कर जनाना मन छोऊवाए बेरा से आपन मांय घर में देइख के सीख रहयंना तब जाएके ससुराइर मे बनेला गोदा. गोदा जे दुरा कर हिने हुने बनेला सेके देखले सुपट मेंजूर कर चुंदी लखे दिसेल. आउर जे गोदा बड़ बड़ भीत लाइल बनेला सेके देखले तो सुपट मेंजूर झाइल फहराय के नाचत हे से तइर दिसेला.

परबा लमडेगा कर भागवती देवी बतायला कि ऊ अपन मांय घर से गोदा बनायक सीख हे आउर उकर मांय अपन मांय से सीख रहे इसने पीढ़ी पीढ़ी से चलते आहे. एखन भागवती अपन गांव घरे सादी बिहा, परब तिहा में जहां जहां बोलायं उहां जायके भीत में गोदा बनाय देला.

मुदा! एखन कर समाज में धीरे धीरे सहर कर छाव आउर देखावा कर भाव ढुकते जात हे. जेकर चलते पुरखा से चलल नेग चार, रीति बिधी, कला संस्कृति कम होत जात हे. इसन कइ मइदका कर चीज हय जे की पुरखा से चलल बनल पइहचान खतम करेक कर काम करत हे. आइज काइल कर (डीजे गीत गोविंद, सादी बिहा में बनेक वाला आधुनिक सहरी पेंटिंग, पूजा पाट कर सही बिधि बिधान नहीं) इसन कतना चीज हय जेकर में आइज कर पीढ़ी चलत हे.

मुदा आइज कर पीढ़ी दू धार मे बाझल आहे एक बटे आपन पुरखा कर पइहचान के हों बचायक खोजत हयं आउर दोसर बटे सहरी हवा में बहेक आउर देखावा ताम झाम करेक ले बरन बरन आधुनिकी सुविधा कर फायदा हों उठाएक खोजत हयं . मुदा हिंया समस्या ई चीज कर हय कि आइज कर युवा पीढ़ी आउर पुरखा कर बिचारधारा में चलेक वाला बुढ़ा बुढ़ी में देखा देखी कर भावना हों मांझे आवत हे. सेहे ले आइज कर दुनिया में कोनो भी परब तिहा सादी बिहा कर मोका सोका में तनी पुरखा नीति नियम आउर तनी आधुनिक नीति नियम कर हिसाब से समाज के चलेक पड़त हे .

आइज जउरत हय कि पुरखा पीढ़ी अपन युवा पीढ़ी के पुरखा कर नेग चार, रीति बीधि, कला संस्कृति, पूजा पाठ के बतायं आउर युवा पीढ़ी भी अपन बुढ़ा बुजूर्ग कर बात के अमल करयं. नि तो आवेक वाला दिन के पुरखा कर सउब चिन्हा धीरे धीरे मेइट जाइ. ना तो कोइ सिखाएक वाला रहबयं ना हें कोइ सिखेक वाला रहबयं. रइह जाइ तो आइज कर आधुनिक युग आउर आधुनिक हवा आउर बांचबयं तो ई हवा में बहेक वाला आदमी.

(एमए, राजनीति शास्त्र, सिमडेगा)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें