1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. strike in dse office gumla jharkhand pradesh vidyalaya rasoiya convenor laid siege to dse office on indefinite hunger strike srn

झारखंड प्रदेश विद्यालय रसोइया संयोजिका ने डीएसई कार्यालय का घेराव किया, अनिश्चितकालीन अनशन पर

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
झारखंड प्रदेश विद्यालय रसोइया संयोजिका ने डीएसई कार्यालय का घेराव किया
झारखंड प्रदेश विद्यालय रसोइया संयोजिका ने डीएसई कार्यालय का घेराव किया
प्रतीकात्मक तस्वीर

झारखंड प्रदेश विद्यालय रसोइया संयोजिका अध्यक्ष संघ जिला गुमला ने जिले भर से हटाये गये रसोइया व संयोजिकाओं को दोबारा काम पर रखने, बकाया मानदेय का भुगतान करने सहित 15 सूत्री मांगों के समर्थन में आंदोलन शुरू कर दिया है. आंदोलन के तहत रसोइया, संयोजिका व अध्यक्षों ने सोमवार को डीएसई (जिला शिक्षा अधीक्षक) कार्यालय का घेराव किया और कार्यालय के बाहर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गये.

इस दौरान रसोइया, संयोजिका व अध्यक्षों ने डीएसई के खिलाफ अपनी मांगों के समर्थन में नारे लगाये. मौके पर संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष सह गुमला जिला अध्यक्ष देवकी देवी ने कहा कि संघ इंसाफ की मांग को लेकर काफी लंबे समय से आंदोलनरत हैं. जिले की 34 सहियाओं को बिना कारण के काम से हटा दिया गया.

उनलोगों का सिर्फ इतना ही दोष है कि सभी ने अपने काम के बदले मानदेय की मांग की थी. जिला शिक्षा अधीक्षक जवाब दें कि क्या काम के बदले मानदेय मांगना गुनाह है? अब तक निकाली गयी संयोजिकाओं के अलावा काफी संख्या में संयोजिकाओं का मानदेय बकाया है. जिस कारण सभी आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे हैं. इससे पूर्व भी संघ ने मांगों को लेकर अनशन किया था.

उस समय आश्वासन दिया गया था कि जल्द ही हटाये गये रसोइया व संयोजिकाओं को दोबारा काम पर रखा जायेगा और मानदेय का भुगतान किया जायेगा, परंतु अब तक प्रशासन का आश्वासन महज एक आश्वासन ही बना हुआ है. उन्होंने कहा कि जिले के कई विद्यालयों को दूसरे विद्यालय में मर्ज किया गया है.

विद्यालय मर्ज होने के बाद मर्ज होने वाले विद्यालय के बच्चों व शिक्षकों का उक्त विद्यालय में स्थानांतरण कर दिया गया है, परंतु रसोइया का अब तक मर्ज विद्यालय में स्थानांतरण नहीं किया गया है. जिस कारण रसोइयों के समक्ष रोजी-रोजगार की समस्या उत्पन्न हो गयी है. उन्होंने कहा कि यदि अब भी हमारी मांग पूरी नहीं होती है, तो जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय के समक्ष आत्मदाह करेंगे, जिसकी सारी जवाबदेही डीएसई की होगी. संघ के प्रदेश अध्यक्ष अजीत प्रजापति व कोषाध्यक्ष अनिता देवी ने कहा कि हमारी मांग जायज है. मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रहेगा.

प्रदर्शन में हीरा देवी, रोकसाना बेगम, विनायकी देवी, मंजरी देवी, जसिंता बारला, रूपन उरांव, प्रभा एक्का, बासमती देवी, संध्या देवी, माधुरी देवी, पुष्पा डांग, सिसिलिया बारला, रेणुका देवी, पुष्पा लकड़ा, कुंती कुमारी सहित जिले भर के रसोइया, संयोजिका व अध्यक्ष शामिल थीं.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें