#Jharkhand: अवैध उत्खनन के दौरान धंसी चाल ,10 से 12 के मरने की आशंका,प्रबंधन पर दर्ज होगी प्राथमिकी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

निरसा : ईसीएल कापासाड़ा आउटसोर्सिंग में अवैध उत्खनन के दौरान बुधवार सुबह चाल धंस गयी जिसमें 10 से 12 लोगों की मौत होने की आशंका जतायी जा रही है. घटना की सूचना पाकर ग्रामीण एसपी अमन कुमार, एसडीएम राज महेश्वरम, एसडीपीओ विजय कुमार कुशवाहा, थाना प्रभारी सुषमा कुमारी, ओपी प्रभारी अरविंद सिंह घटनास्थल पर पहुंच और हादसे की जांच में जुट गये.

इधर , झारखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय कार्यसमिति सदस्य अशोक मंडल, भाजपा नेता प्रशांत बनर्जी, उमेश गोस्वामी भी घटनास्थल पर पहुंचे. श्री मंडल व अन्य ने पुलिस प्रशासन से मलवा हटाने की मांग की. उपायुक्त ए दोड्डे और एसएसपी किशोर कौशल भी घटनास्थल पर पहुंचे और जीएम सदानंद सुमन को जमकर फटकार लगायी. उपायुक्त ने कहा कि प्रबंधन पर प्राथमिकी दर्ज करायी जाएगी.

घटना बुधवार सुबह 7 बजे की बतायी जा रही है. हादसे के बाद दो शव लेकर स्थानीय लोग भाग खड़े हुए. कुछ देर तक घटनास्थल पर 3 से 4 शव यूं ही पड़ा नजर आया. एक दबे शव को दोपहर करीब 12 बजे निकाला गया. फिलहाल दुर्घटनास्थल के पास राहत बचाव जारी है.

कैसे घटी घटना

इस संबंध में बताया जा रहा है कि निरसा थाना एवं गलफरबाड़ी ओपी के बॉर्डर एरिया पर स्थित कापासाड़ा आउटसोर्सिंग में प्रतिदिन की तरह बुधवार को भी करीब 100-150 की संख्या में महिला पुरुष अवैध उत्खनन करने पहुंचे थे. अवैध उत्खनन के दौरान खदान के अंदर अचानक 10 फीट के दायरे से चाल धंस गया, जिस स्थान पर लोग कोयला काट रहे थे वहीं यह घटना हुई. कुछ लोग खदान के दूसरे मुहाने से निकलने में सफल रहे , जबकि 8-10 लोग उसी मलबे की चपेट में आ गये. पूरे चित्कार व कोहराम से क्षेत्र गूंज उठा. घटना की सूचना ईसीएल प्रबंधन एवं स्थानीय पुलिस को दी गयी. चालू खदान में इतनी बड़ी खान दुर्घटना प्रबंधन एवं प्रशासन के रवैये पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करती है.

रात के अंधेरे में चलता है खेल

बताया जाता है कि अवैध कोयला को दामोदर नदी के मार्ग केलियासोल होते हुए रघुनाथपुर व बराकर नदी के मार्ग जामताड़ा प्रतिदिन स्कूटर मोटरसाइकिल के माध्यम से भेजा जाता है. इसके अलावे रात के अंधेरे में क्षेत्र के चिन्हित उद्योगों, रि फैक्ट्रियों में भी खपाने का खेल किया जाता है. क्षेत्र का आउटसोर्सिंग इनदिनों अवैध खनन का सेफ जोन बना हुआ है. मृतकों में तीन पुरुष एवं एक महिला की पुष्टि आसपास के कुछ लोग कर रहे हैं. मृतक आसपास के इलाके के सियारकनाली, लकड़ाकनाली क्षेत्र के रहने वाले बताए जा रहे हैं. मृतकों में दो का नाम स्पष्ट हो पाया है, जिसमें मुगमा के शिवडंगाल निवासी दिनेश महतो व मुगमा हाई स्कूल के पीछे कांतो के मौत की पुष्टि हो पायी है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें