मधुपुर : चौथी बार जीतकर मंत्री बने हाजी हुसैन अंसारी, शपथग्रहण के बाद कहा- बेहतर काम करेंगे

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
मधुपुर : हाजी हुसैन अंसारी चौथी बार मधुपुर से विधायक चुने गये हैं. पहली बार वर्ष 1995 में तत्कालीन विधायक कृष्णानंद झा को हरा कर विजयी हुए थे. इसके बाद वर्ष 2000 में भाजपा की विशाखा सिंह को हरा कर दोबारा चुनाव जीते. लेकिन 2005 में पराजित हो गये. 2009 में तीसरी बार चुनाव जीते.
पुन: 2019 में चौथी बार चुनाव जीते. हाजी हुसैन अंसारी 2009 में शिबू सोरेन की सरकार में पहली बार आरइओ मंत्री बने. उस दौरान वे सिर्फ छह माह ही मंत्री रहे और शिबू सोरेन के तमाड़ में चुनाव हारने पर सरकार गिर गयी थी. इसके बाद झामुमो की समर्थन से अर्जुन मुंडा की सरकार बनी तो उस दौरान दूसरी बार झामुमो कोटे से सहकारिता व अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बने. 38 महीना बाद अर्जुन मुंडा की सरकार गिर गयी.
इसके बाद जब हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सरकार बनी तब तीसरी बार अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बने. उस दौरान तीन महीना राष्ट्रपति शासन भी रहा था. अब 2020 में चौथी बार हाजी हुसैन ने मंत्रीपद की शपथ ली. बताते चलें कि हाजी हुसैन के दो भाई और है. तीन भाइयों में श्री हुसैन सबसे बड़े हैं. इनके बाद सोयब अंसारी व सलाउद्दीन अंसारी हैं. इनके दोनों भाई पैतृक गांव पिपरा में ही रहते हैं और खेती बारी व व्यवसाय करते हैं. जबकि इनके चार पुत्र व तीन पुत्रियां हैं.
समर्थकों में उत्साह : विधायक हाजी हुसैन अंसारी के हेमंत सोरेन की सरकार में मंत्री बनाये जाने पर परिवार व समर्थकों में उत्साह का माहौल है. जैसे ही उन्हें मंत्री बनाये जाने की सूचना परिवार व समर्थकों को मिली तो उनके पुत्र समेत कई अन्य समर्थक भी रांची रवाना हो गये.
मारगोमुंडा के पिपरा स्थित उनके पैतृक गांव में भी खुशी का माहौल है. सैकड़ों लोग गांव पहुंच कर परिवार वालों से मिले और खुशी का इजहार किया. वहीं मधुपुर के पथलचपटी स्थित आवास में सिर्फ महिलाएं ही घर में हैं. जबकि उनके पुत्र हफीजुल हसन व तनवीर हसन भी रांची चले गये. जबकि दो अन्य पुत्र इकरामुल अंसारी और शब्बीर अंसारी पहले से ही रांची में रहते हैं. परिवार व आसपास के लोगों ने उनके घर में शपथ ग्रहण समारोह टेलीविजन पर देखा.
बेहतर काम करेंगे
शपथग्रहण के बाद मंत्री हाजी हुसैन अंसारी ने कहा कि एक मंत्री के रूप में जो मेरे जिम्मे में काम आयेगा. उस काम को पूरी ईमानदारी से करूंगा. जिस उम्मीद के साथ मुख्यमंत्री ने मंत्री बनाया है और विभाग की जिम्मेवारी देंगे, उसे पूरे मन से करेंगे. पहले भी काम दिया गया था.
आगे भी जो काम मिलेगा, उसे पूरा करेंगे. कौन सा विभाग मिलेगा इस पर उन्होंने कहा कि यह तो मुख्यमंत्री तय करेंगे, पर जो भी मिलेगा वहां बेहतर करेंगे. विभाग के बंटवारा के बाद सारा काम होगा. उर्दू में शपथ लिये जाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि मैं दस बार उर्दू में शपथ ले चुका हूं. मेरी जबान उर्दू है, इसलिए उर्दू में ही शपथ लिया है. सीएए के मामले में क्या रुख होगा सरकार का, इस पर उन्होंने कहा कि सरकार से बात करेंगे तभी कुछ कह सकेंगे.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें