1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. delhi investors summit 2021 10 thousand crore investment 2 lakh jobs created in jharkhand prt

10 हजार करोड़ का निवेश, 2 लाख नौकरियां, झारखंड की औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति 2021 हुई लांच

झारखंड में टाटा स्टील, डालमिया भारत, आधुनिक पावर, सेल व व प्रेम रबर द्वारा लगभग 10 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जायेगा. नयी दिल्ली में आयोजित निवेशक सम्मेलन में इन कंपनियों ने एमओयू पर हस्ताक्षर किये. इन कंपनियों की परियोजना से राज्य में लगभग दो लाख लोगों को रोजगार दिये जायेंगे.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
झारखंड की औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति 2021 लांच
झारखंड की औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति 2021 लांच
prabhat Khabar

झारखंड में टाटा स्टील, डालमिया भारत, आधुनिक पावर, सेल व व प्रेम रबर द्वारा लगभग 10 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जायेगा. नयी दिल्ली में आयोजित निवेशक सम्मेलन में इन कंपनियों ने एमओयू पर हस्ताक्षर किये. इन कंपनियों की परियोजना से राज्य में लगभग दो लाख लोगों को रोजगार दिये जायेंगे, जिसमें प्रत्यक्ष रूप से 20 हजार को रोजगार मिलेगा.

टाटा स्टील अगले तीन साल में खनन, कोयला और स्टील क्षेत्र में तीन हजार करोड़ रुपये निवेश करेगा. साथ ही आनेवाले वर्ष में टाटा समूह राज्य में निवेश की योजना बना रहा है. डालमिया भारत ग्रुप 758 करोड़ रुपये निवेश करेगा. यह निवेश मौजूदा सीमेंट फैक्ट्री की क्षमता बढ़ाने, सोलर पावर प्लांट और सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के क्षेत्र में होगा. आधुनिक पावर 1900 करोड़ का निवेश करेगा और जमशेदपुर में 300 एकड़ में इंडस्ट्रियल पार्क बनायेगा.

सेल गुवा माइंस में तीन वर्ष में चार हजार करोड़ एवं प्रेम रबर वर्क्स प्राइवेट लिमिटेड 50 करोड़ का निवेश लेदर पार्क और फुटवेयर के क्षेत्र में करेगा. निवेशक सम्मेलन में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने झारखंड उद्योग एवं प्रोत्साहन नीति 2021 को लांच किया.

राज्य की कार्यपालिका तक पहुंच आसानी से होगी : सुखदेव सिंह

मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने निवेशकों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि किसी भी तरह की समस्या के लिए वह अधिकारी से सीधे मिल सकते हैं. उनकी कार्यपालिका तक आसान पहुंच सुनिश्चित की जायेगी. राज्य के अधिकारी सक्रियता से काम कर रहे हैं और नीति के क्रियान्वयन में किसी भी तरह की समस्या का सामना निवेशकों को नहीं करना पड़ेगा. झारखंड में निवेशकों के लिए सबसे बेहतर अवसर हैं.

यही कारण है कि 2021 में प्रदेश के मुख्यमंत्री अपने शीर्ष अधिकारियों के साथ निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए लंबी दूरी तय कर दिल्ली पहुंचे हैं. यह एक बड़ा बदलाव है. झारखंड एक खूबसूरत राज्य है. फ्लोरा एवं फोना से भरा पड़ा राज्य है और 30 फीसदी हिस्सा जंगल से भरा है. राज्य का मौसम देश के बाकी हिस्सों से कहीं बेहतर है. अच्छे वातावरण से मानव संसाधन की क्षमता बढ़ जाती है.

सिंगल विंडो क्लीयरेंस पॉलिसी तैयार : पूजा सिंघल

उद्योग सचिव पूजा सिंघल ने कहा कि झारखंड सरकार ने निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में सिंगल विंडो क्लीयरेंस पॉलिसी तैयार की है. उद्योग स्थापित करने के लिए सरकार के पास 1000 एकड़ का लैंड बैंक है. झारखंड को सोलर पार्क, ऑटो हब और इलेक्ट्रॉनिक निर्माण का हब बनाने के लिए सरकार सभी निवेशकों को आमंत्रित कर रही है. इस कार्यक्रम में विकास आयुक्त अरुण कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव एल खिंग्याते, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, स्थानीय आयुक्त मस्तराम मीणा और अन्य अधिकारी मौजूद थे.

कौन कितना करेगा निवेश

3000 करोड़

टाटा स्टील

758 करोड़

डालमिया भारत ग्रुप

1900 करोड़

आधुनिक पावर

4000 करोड़

सेल

50 करोड़

प्रेम रबर वर्क्स

मुख्यमंत्री ने कहा

देश का सबसे बड़ा सोलर फ्लोटिंग पावर प्लांट झारखंड में शीघ्र लगेगा

रोजगार सृजन और झारखंड को अग्रणी राज्यों की श्रेणी में ले जाने का लक्ष्य

सरकार का प्रस्ताव : अगर निवेशक अपने उद्योग के कुल मानव बल में राज्य के अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के 35 % हुनरमंद लोगों को रोजगार देंगे तो सरकार नीति के तहत दिये जा रहे प्रोत्साहन व प्रावधानों के अतिरिक्त लाभ देगी.

सबसे बड़ा सोलर फ्लोटिंग पावर प्लांट लगेगा

मुख्यमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार आकर्षक औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन पॉलिसी लायी है. आनेवाले समय में सरकार इथेनॉल, इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी लायेगी. इसे लेकर सभी स्टेक होल्डर्स से सुझाव मांगे गये हैं. राज्य में विभिन्न क्षेत्र में निवेश बढ़ाने के लिए अगले एक महीने में नीति का मसौदा पेश किया जायेगा. सीएम ने कहा कि राज्य सरकार निवेशकों का सहयोग लेकर आगे बढ़ना चाहती है.

सरकार ने विकास की दिशा में कदम बढ़ा दिया है और अब यह रुकनेवाला नहीं है. झारखंड में माइंस और मिनरल के इर्द-गिर्द विकास की बात सोची गयी. यह तो राज्य का कोर सेक्टर है. इसके अलावा टूरिज्म, एजुकेशन, रिन्यूएबल एनर्जी, फूड प्रोसेसिंग, ऑटोमोबाइल, फार्मा और टेक्सटाइल के क्षेत्र में भी काम हो रहा है. रिन्यूएबल एनर्जी के क्षेत्र में राज्य को जल्द बड़ा प्रोजेक्ट मिलनेवाला है. यह देश का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर प्लांट होगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें