25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

रेलवे व बिजली विभाग के बीच अटक गया ट्रांसफार्मर हटाने का मामला, मेन इंट्री गेट का काम रुका

रेलवे व बिजली विभाग के बीच अटक गया ट्रांसफार्मर हटाने का मामला

रेलवे व बिजली विभाग दोनों अपनी-अपनी बातों पर अडे़, बिजली विभाग रेलवे को भेज चुका है पांच लाख का एस्टीमेट सहरसा . अमृत भारत योजना के तहत सहरसा जंक्शन पर चल रहे निर्माण कार्य में बिजली विभाग का ट्रांसफार्मर बाधक बन रहा है. इस वजह से मेन इंट्री गेट का निर्माण कार्य अटक गया है. दो महीना पहले ही रेल विभाग जिला बिजली विभाग को ट्रांसफार्मर हटाने के मामले में अवगत करा चुका है. लेकिन बिजली विभाग रेलवे द्वारा शिफ्टिंग की राशि नहीं मिलने से ट्रांसफार्मर हटाने से इनकार कर रहा है. दोनों विभाग अपनी-अपनी अलग-अलग राग अलाप रहे हैं. रेलवे एवं बिजली विभाग दोनों अपने जिद पर अडे़ हैं. बिजली विभाग के अधिकारियों की माने तो ट्रांसफार्मर दूसरी जगह शिफ्टिंग के लिए एस्टीमेट तैयार कर डिवीजन को भेजा गया है. राशि मिलने के बाद ही ट्रांसफार्मर दूसरे जगह शिफ्टिंग की जायेगी. वहीं समस्तीपुर रेल मंडल के इलेक्ट्रिक विभाग के अधिकारियों की माने तो ट्रांसफार्मर बिजली विभाग को हटाना है. रेलवे शिफ्टिंग के लिए राशि का भुगतान नहीं करेगी. दोनों विभागों का यह खेल लगभग 40 दिनों से चल रहा है. जिस वजह से अमृत भारत योजना के तहत चल रहे निर्माण कार्य के तहत चांदनी चौक के पास मेन इंट्री गेट निर्माण का काम अटक गया है. इसके अलावा पाथवे का भी निर्माण कार्य अटका हुआ है. कंस्ट्रक्शन विभाग के अधिकारियों की माने तो ट्रांसफार्मर हटाने के बाद ही रेलवे की बाउंड्री तोड़कर इंट्री गेट व पाथवे का निर्माण हो सकेगा. चांदनी चौक के पास रेलवे का मेन इंट्री गेट का निर्माण होना है. जब यात्री ट्रेन से उतरेंगे तो रेलवे सर्कुलेटिंग एरिया से गुजरी पाथवे से चांदनी चौक होकर सीधा महावीर चौक निकल जायेंगे. जबकि इससे पूर्व पिछले महीना ही चांदनी चौक के पास रेल परिक्षेत्र में आने वाली सभी दुकानों को हटाकर दूसरे जगह शिफ्ट किया गया है. जिससे मेन एंट्री गेट बनाया जा सके. लेकिन चांदनी चौक के पास ही रेल परिक्षेत्र में विद्युत विभाग का एक बड़ा ट्रांसफार्मर है. जिसे हटाने के लिए रेल संबंधित विभाग एवं कंस्ट्रक्शन विभाग के अधिकारी जिला प्रशासन को कई बार लिखित में अवगत करा चुके हैं. लेकिन जिला प्रशासन इस दिशा में कोई एक्शन नहीं ले रहे हैं. जिससे अमृत भारत योजना निर्माण कार्य अटका पड़ा है. जबकि अगस्त में निर्माण कार्य को पूरा करना है. ट्रांसफार्मर की वजह से निर्माण कार्य में देरी हो रही है. बिजली विभाग ने भेजा पांच लाख का एस्टीमेट चांदनी चौक के पास जो ट्रांसफार्मर लगा है उस ट्रांसफार्मर से रेलवे एवं शहर को वर्तमान में बिजली आपूर्ति की जा रही है. अब ट्रांसफार्मर हटाना है एवं दूसरी जगह शिफ्ट किया जाना है. जिससे बिजली आपूर्ति जारी रहे. इसे लेकर बिजली विभाग ने इसकी शिफ्टिंग के लिए दो एस्टीमेट तैयार किया है. पहले एस्टीमेट के लिए पांच लाख की राशि रेलवे से भुगतान के लिए समस्तीपुर रेल मंडल को संबंधित विभाग के अधिकारियों को अवगत कराया गया है. रेल परिक्षेत्र में ही लगेगा ट्रांसफार्मर बिजली विभाग के अधिकारियों की माने तो पहले ट्रांसफार्मर दूसरे जगह शिफ्टिंग होनी थी. लेकिन शहर में कन्जेस्टेड की स्थिति को देखते हुए रेल परिक्षेत्र में ही ट्रांसफार्मर को शिफ्ट किया जायेगा. इसके लिए रेल के अधिकारियों को ट्रांसफार्मर शिफ्ट करने के लिए जगह की मांग की जायेगी. नहीं भुगतान होगी राशि ट्रांसफार्मर शिफ्टिंग के लिए बिजली विभाग द्वारा पांच लाख का एस्टीमेट रेलवे को भेजा गया है. लेकिन रेलवे इस पर तैयार नहीं है. रेल अधिकारियों का कहना है कि ट्रांसफार्मर बिजली विभाग का है. बिजली विभाग जाने उसे कहां शिफ्ट करना है. जबकि अमृत भारत योजना के तहत सहरसा जंक्शन सहित देशभर के कई रेलवे स्टेशन का आधुनिक सुविधाओं के साथ पुनर्विकास करने का काम जोर शोर से चल रहा है. ओम कंस्ट्रक्शन के नरेंद्र प्रसाद एवं राजेश कुमार की मॉनिटरिंग में युद्ध स्तर पर निर्माण कार्य जारी है. स्टेशन पर नई आधुनिक यात्री सुविधा के साथ मौजूद सुविधाओं में बढोतरी किया जायेगा. नए रास्ते से होगी निकासी द्वार सर्कुलेटिंग एरिया पार्किंग से माल गोदाम एरिया तक 150 मीटर लंबा पाथवे का निर्माण कराया जायेगा. जो की चांदनी चौक तक नए रोड से जुड़ जायेगा. इसी गेट पर यात्रियों के लिए निकासी द्वार होगा. वर्तमान में जो प्रवेश द्वार है यही पर नए मॉडल लुक में प्रवेश द्वार होगा. सब्जी मंडी से आने वाले यात्री सर्कुलेटिंग एरिया होकर पाथवे से सीधा तीसरी फुट ओवरब्रिज के पास उतरेंगे. प्लेटफार्म पर सीधा जायेंगे. वहीं वाहन पाथवे से कनेक्ट नई सड़क से सीधा चांदनी चौक की ओर निकल जायेंगे. इंट्री के लिए होंगे तीन गेट शहर से रेलवे स्टेशन आने के लिए तीन मुख्य गेट बनाया जायेगा. पूर्व में दो ही गेट का प्लान था. अब तीन मुख्य गेट बनाए जायेंगे. जिससे यात्री रेलवे परिक्षेत्र में प्रवेश कर सकेंगे. तीनों गेट पश्चिम दिशा से होगी. निर्माण कार्य में हो रही देरी पहला गेट वर्तमान में जो पश्चिम दिशा से स्टेशन प्रवेश होता है वहां बनेगा एवं दूसरा गेट चांदनी चौक के कॉर्नर पर बनेगा. इसके लिए विद्युत विभाग को चांदनी चौक के पास से दो ट्रांसफार्मर हटाने के लिए रेलवे ने पत्र लिखा है. रेलवे अपनी जमीन को अधिग्रहण कर वहां गेट बना सके. वहीं तीसरा गेट मालगोदाम के पास से होगा.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें