डालमिया सीमेंट फैक्टरी में काम पर जाने से मजदूरों को रोका

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

अकबरपुर : डालमिया सीमेंट फैक्टरी (डीपीएस) में कार्यरत मजदूरों को सोमवार को फैक्टरी में प्रवेश पर रोक लगा दिया गया. मजदूर सकते में आ गये. उन्हें समझ में ही नहीं आ रहा है कि वे क्या करें? किसके पास जाएं. मजदूरों के मेठ कमलेश कुमार यादव अपने साथी बैजनाथ पासवान, जुगल साहू, जगनारायण यादव, धनेश्वर राम, अवधेश तिवारी, एमडी हाशिम, नथनी राम, लल्लू यादव, इंद्रदेव पासवान, सूरज यादव, रामप्रवेश यादव के साथ साथ अपना आई कार्ड दिखाते हुए बताया कि 22 जून को सभी इंप्लाइ के गेट पास की तिथि खत्म हो चुकी थी, मगर उसी गेट पास पर कल तक हम लोगों से काम कराया गया. आज अचानक गेट पर गार्ड द्वारा 17 मजदूरों को रोक दिया गया,ये कह कर कि गेट पास का डेट खत्म है.

इस वजह से आप लोगों को काम पर जाने से रोकने का आदेश आया है. हम लोग तीन शिफ्ट में 79 मजदूर हैं, जो पैकिंग प्लांट में काम करते हैं. सभी लोग 20 से 30 वर्षों से लगभग काम करते चले आ रहे हैं. सब का इंप्लाइ नंबर है. सभी लोग वर्षों से अपने बाप-दादा की जगह पर काम करते चले आ रहे हैं. अचानक तालिबानी फरमान सुना कर कंपनी के अधिकारियों द्वारा काम पर जाने से रोक दिया गया.
इससे हम लोग सभी आहत हैं और हम लोगों का अब आगे क्या होगा, इसकी कुछ जानकारी नहीं दी जा रही है. सुबह से हम लोग गेट पर इंतजार ही कर रहे हैं कि कोई हम लोगों का कुछ सुनवाई करें. अंततः मीडिया में अपनी बात रखने के लिए हम लोगों ने राय किया और अपनी बातों को रखा है. मीडिया के माध्यम से ही हम सभी लोगों का उपकार हो, यह सोच कर हम लोगों ने अपनी आवाज को अखबार के माध्यम से उठाया है.
मजदूरों की पीड़ा
कमलेश कुमार यादव मजदूर मेठ का कहना है कि 1993 में इंप्लाइ नंबर 8341 सीएच 555 नंबर द्वारा डायरेक्ट बहाली थी और जो भी परमानेंट मजदूरों की सुविधा दी जाती है वह हमेशा से मिलते आया है. सभी 79 मजदूर पैकिंग प्लांट में काम करते हैं और अब कंपनी द्वारा गेट पास का डेट खत्म होने का बहाना लगा कर हम सभी को रोक दिया गया. यह बहुत ही हैरत की बात है और 27 साल से लगभग काम कर रहा हैं. अब तक कभी ऐसी बात सामने नहीं आयी थी.
जसीम उद्दीन अंसारी लोडिंग मजदूर इंप्लाइ नंबर 8323 कहते हैं 1985 से इस फैक्टरी में काम कर रहे हैं और सारी सुविधा परमेंट मजदूरों की जो होती है, वह दी जाती है. गेटपास के बहाने जो हम लोगों को रोका गया है, हम लोग के साथ बहुत बड़ा अन्याय है. अब हम लोग रिटायरमेंट के स्थिति में हैं. कितने साथी तो रिटायर्ड भी हो गये,पेंशन भी पा रहे हैं. यह बहुत बर्बरता पूर्ण है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.
क्या कहते हैं अधिकारी
मयंक पाठक एचओडी एचआर डिपार्टमेंट मोबाइल नंबर 8178024977 से बात करने पर कहा गया कि आप इन सब बातों की बात नहीं करें. आप लोगों का तो काम है कि किधर कौन मरा, कौन जिया, कहां टायर फटा, कहां गाड़ी गिरी, सो हम छुट्टी पर हैं. हमको कुछ नहीं पता. फैक्टरी के बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें