अमित शाह और भाजपा की यात्रा’पुस्तक पर परिचर्चा, सरदार पटेल की परंपरा के गृहमंत्री हैं अमित शाह : मोदी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि अमित शाह सरदार पटेल की परंपरा के गृहमंत्री हैं. कुछ लोग उनको भारतीय राजनीति का चाणक्य कहते हैं. अमित शाह मात्र 49 वर्ष की उम्र में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने वाले पहले व्यक्ति हैं. उनके कार्यालय में कुर्सी के पीछे चाणक्य व सावरकर के फोटो लगे हुए हैं.

शनिवार को ज्ञान भवन में आयोजित ‘अमित शाह और भाजपा की यात्रा’पुस्तक पर परिचर्चा के दौरान उपमुख्यमंत्री ने कहा कि यह पुस्तक केवल अमित शाह की जीवनी नहीं, बल्कि भाजपा व जनसंघ की पूरी यात्रा का वृत्तांत है. विशेष कर भाजपा के 2014 से 2019 तक के समय को किताब के रूप में लिखा गया है.
पुस्तक विमोचन समारोह में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ संजय जायसवाल भी मौजूद थे. कार्यक्रम में जदयू नेता डॉ अजय आलोक भी शामिल हुए. उन्हें नित्यानंद राय के बगल में बैठाया गया. 188 पन्नों की इस किताब के लेखक अनिर्वाण गांगुली और शिवानंद द्विवेदी हैं. उ
पमुख्यमंत्री ने कहा कि यदि को भारत को समझना या शासन करना है, तो उसे चाणक्य और सावरकर दोनों को पढ़ना चाहिए. अमित शाह के बारे में कहा कि वे जब भाजपा के अध्यक्ष बने थे, तो उस समय भाजपा के तीन करोड़ 60 हजार सदस्य थे, लेकिन उनके अभियान और परिश्रम से आज भाजपा के 11 करोड़ सदस्य हैं. भाजपा देश ही नहीं, पूरी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है.
बिहार में कांग्रेस कार्यकाल के दौरान अमित शाह को भी घूस देनी पड़ी थी
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पूर्व न्यायाधीश व पूर्व लोकायुक्त आरएन प्रसाद ने कहा कि भारतीय राजनीति में अमित शाह एक करिश्माई नेता हैं. यह पुस्तक अमित शाह व भाजपा के बारे में उन तमाम सवालों का जवाब देती है. परिचर्चा के दौरान पुस्तक के दोनों लेखक अनिर्वाण गांगुली और शिवानंद द्विवेदी ने भी पुस्तक रचना पर अपनी बातें रखीं.
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में कांग्रेस कार्यकाल के दौरान अमित शाह को भी पीएचइडी में पाइप सप्लाइ के बाद भुगतान के लिए घूस देनी पड़ी थी. वहीं, कार्यक्रम में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ संजय जायसवाल ने कहा कि इस किताब से भाजपा की 1951 से 2019 तक की यात्रा की पूरी जानकारी दी गयी है.
188 पन्नों वाली किताब का एक-एक वाक्य उनके मन में उतर जाता है. अमित शाह के 13 वर्ष से पार्टी के पोस्टर लगाने से लेकर गुजरात में सहकारिता आंदोलन, उनके प्रवास काल, गुजरात के गृह मंत्री से देश के गृह मंत्री तक के सफर को बताया गया है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें